"दण्डपाणि जयकान्तन" के अवतरणों में अंतर

374 बैट्स् जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
Rescuing 1 sources and tagging 3 as dead.) #IABot (v2.0.1
({{विलय}} जोड़े (ट्विंकल))
(Rescuing 1 sources and tagging 3 as dead.) #IABot (v2.0.1)
 
४० उपन्यासों के अलावा उन्होंने कई-कई लघुकथाएँ, आत्मकथा (दो खंडों में) और रोमेन रोलांड द्वारा फ़्रेन्च में रची गयी [[महात्मा गांधी|गांधी जी]] की जीवनी का तमिल अनुवाद भी किया है।
 
इनके द्वारा रचित एक [[उपन्यास]] ''[[शिल नेरंगळिल शिल मणितर्कळ]]'' के लिये उन्हें सन् १९७२ में [[साहित्य अकादमी पुरस्कार]] ([[साहित्य अकादमी पुरस्कार तमिल|तमिल]]) से सम्मानित किया गया।<ref name="sahitya">{{cite web | url=http://sahitya-akademi.gov.in/sahitya-akademi/awards/akademi%20samman_suchi_h.jsp | title=अकादमी पुरस्कार | publisher=साहित्य अकादमी | accessdate=11 सितंबर 2016 | archive-url=https://web.archive.org/web/20160915135020/http://sahitya-akademi.gov.in/sahitya-akademi/awards/akademi%20samman_suchi_h.jsp | archive-date=15 सितंबर 2016 | url-status=dead }}</ref>
 
"जटिल मानव स्वभाव के गहरे और संवेदनशील समझ" के हेतु, उनकी कृतियों को "तमिल साहित्य की उच्च परम्पराओं की अभिवृद्दि" के लिए २००२ में [[ज्ञानपीठ]] पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
 
=== बाहरी कड़ियाँ ===
* [http://www.outlookindia.com/full.asp?fodname=20050408&fname=jayakanthan&sid=1 जयकान्तन के जीवन और उनकी कृतियों पर अंग्रेज़ी लेख]{{Dead link|date=जून 2020 |bot=InternetArchiveBot }}
* [http://www.tamilnation.org/literature/jeyakantan.htm अंग्रेज़ी जीवनी और कुछ उपयोगी कड़ियाँ]{{Dead link|date=जून 2020 |bot=InternetArchiveBot }}
* [http://www.tamilnation.org/literature/jeyakantan/00.htm जयकान्तन की कुछ कहानियाँ (तमिल में)]{{Dead link|date=जून 2020 |bot=InternetArchiveBot }}
 
{{ज्ञानपीठ पुरस्कार}}
1,11,786

सम्पादन