"महादानव तारा" के अवतरणों में अंतर

182 बैट्स् जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
Rescuing 1 sources and tagging 0 as dead.) #IABot (v2.0.1
छो (बॉट: पुनर्प्रेषण ठीक कर रहा है)
(Rescuing 1 sources and tagging 0 as dead.) #IABot (v2.0.1)
महादानव तारों का द्रव्यमान १०-७० [[सौर द्रव्यमान|M<sub>☉</sub>]] (यानि हमारे [[सौर द्रव्यमान|सूरज के द्रव्यमान]] का १० से ७० गुना) और उनका अर्धव्यास ३०-५०० [[सौर अर्धव्यास|R<sub>☉</sub>]] (यानि [[सौर अर्धव्यास|सूरज के अर्धव्यास]] का ३० से ५०० गुना) होता है। कुछ महादानावों का अर्धव्यास सूरज से हज़ार गुना ज़्यादा भी होता है। महादानवों की [[चमक]] ([[निरपेक्ष कांतिमान|निरपेक्ष कान्तिमान]]) [[सौर ज्योति|सूरज की चमक]] से ३०,००० से लाखों गुना ज़्यादा होती है। महादानव तारे हर वर्णक्रम श्रेणी में मिलते हैं - इसमें [[कालपुरुष तारामंडल|शिकारी तारामंडल]] में स्थित 'O' श्रेणी का [[नीला महादानव तारा|नीला महादानव]] [[राजन्य तारा|राजन्य]] (राइजॅल) भी शामिल है और 'M' श्रेणी का [[लाल महादानव तारा|लाल महादानव]] आद्रा (बीटलजूस) भी।
 
महादानावों का [[निरपेक्ष कांतिमान]] (चमक) -५ से -१२ [[खगोलीय मैग्निट्यूड|मैग्निट्यूड]] के क्षेत्र में होता है (याद रहे के खगोलीय मैग्निट्यूड की संख्या जितनी कम होती है तारा उतना ही ज़्यादा रोशन होता है)। बहुत अधिक द्रव्यमान होने के कारण इन तारों में गुरुत्वाकर्षण का दबाव भयंकर होता है और [[नाभिकीय संलयन]] (न्यूक्लीयर फ्यूज़न) बहुत तेज़ी से चलता है, जिस से इनका [[हाइड्रोजन]] इंधन [[मुख्य अनुक्रम|बौने तारों]] के मुक़ाबले में बहुत जल्द खप जाता है। जहाँ हमारे सूरज (जो एक [[मुख्य अनुक्रम]] का बौना तारा है) को १० [[भारतीय संख्या प्रणाली|अरब]] साल की आयु मिली है वहाँ महादानव तारे कुछ लाख साल ही जीते हैं।<ref>{{cite web | last = Richmond | first = Michael | url = http://spiff.rit.edu/classes/phys230/lectures/star_age/star_age.html | title = Stellar evolution on the main sequence | accessdate = 2006-08-24 | archive-url = https://web.archive.org/web/20110607065230/http://spiff.rit.edu/classes/phys230/lectures/star_age/star_age.html | archive-date = 7 जून 2011 | url-status = live }}</ref>
 
== इन्हें भी देखें ==
1,16,044

सम्पादन