"रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन" के अवतरणों में अंतर

Rescuing 5 sources and tagging 2 as dead.) #IABot (v2.0.1
(223.187.190.91 के अवतरण 4643400पर वापस ले जाया गया : परीक्षण संपादन वापस किया (ट्विंकल))
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
(Rescuing 5 sources and tagging 2 as dead.) #IABot (v2.0.1)
|minister1_name = [[राजनाथ सिंह|श्री राजनाथ सिंह]]
|minister1_pfo = [[भारत के रक्षा मंत्री|रक्षा मंत्री, भारत सरकार]]
|chief1_name = डाॅ जी सतीश रेड्डी <ref name="et">{{cite web | url=http://economictimes.indiatimes.com/news/defence/s-christopher-is-new-drdo-chief-heres-all-you-want-to-know-about-the-man-behind-indias-aewc/articleshow/47466720.cms?cfmid=11001097 | title=dr.g satheesh reddy is new DRDO chief: | publisher=ndtv https://khabar.ndtv.com/news/india/drdo-says-india-can-test-nuclear-test-any-times-1859043 | date=25अगस्त 2018 | accessdate= प्रेजेंट | archive-url=https://web.archive.org/web/20150530210824/http://economictimes.indiatimes.com/news/defence/s-christopher-is-new-drdo-chief-heres-all-you-want-to-know-about-the-man-behind-indias-aewc/articleshow/47466720.cms?cfmid=11001097 | archive-date=30 मई 2015 | url-status=live }}</ref>
|chief1_position = महा निदेशक,<br />डी.आर.डी.ओ.
|parent_agency = [[रक्षा मंत्रालय (भारत)|रक्षा मंत्रालय]]
 
== इतिहास ==
[[१९५८]] में पूर्व-कार्यरत भारतीय सेना की प्रौद्योगिकी विकास अधिष्ठान (टीडीई) तथा रक्षा विज्ञान संस्थान (डीएसओ) के साथ प्रौद्योगिकी विकास और उत्पादन का निदेशालय (डीटीडीपी) के एकीकरण से गठन किया गया और रक्षासंगठन एवं अनुसंधान संगठन का गठन किया गया था। उस समय डीआरडीओ १० प्रतिष्ठानों अथवा प्रयोगशालाओं वाला छोटा संगठन था।<ref>[http://www.drdo.gov.in/hindi_new/genesis.html डीआरडीओ आधिकारिक जालस्थल]{{Dead link|date=जून 2020 |bot=InternetArchiveBot }} उत्पत्ति एवं वृद्धि</ref> इसके बाद आगे के वर्षों में संगठन ने विविध विषय शिक्षणों, अनेक प्रयोगशालाओं, उपलब्धियों आदि में बहु-दिशात्मक विकास किया है। आज, डीआरडीओ में ५० से अधिक प्रयोगशालाएं कार्यरत हैं जो भिन्न प्रकार के शिक्षणों जैसे वैमानिकी, आयुध, इलेक्ट्रॉनिक्स, युद्धक वाहन, इंजीनियरिंग प्रणाली, उपकरण, मिसाइल, उन्नत कंप्यूटिंग और सिमुलेशन, विशेष सामग्री, नौसेना प्रणालियों, जीवन विज्ञान, प्रशिक्षण, सूचना प्रणालियों और कृषि को सुरक्षा देने वाली रक्षा प्रौद्योगिकियों का विकास करने में तत्परता से संलग्न हैं। वर्तमान में, संगठन वैज्ञानिकों, ५००० से अधिक वैज्ञानिकों और २५,००० अन्य वैज्ञानिक, तकनीकी और समर्थन के कर्मियों द्वारा कार्यरत है। मिसाइलों, हथियारों, हल्के लड़ाकू विमानों, रडार, इलेक्ट्रॉनिक युद्ध प्रणालियों इत्यादि के विकास के लिए अनेक प्रमुख परियोजनाएं उपयोग के लिए उपलब्ध हैं तथा ऐसी अनेक प्रौद्योगिकियों में पहले ही महत्वपूर्ण उपलब्धियां प्राप्त की गई हैं।
<!-- [[चित्र:DRDO Bhawan.jpg|right|thumb|250px|नई दिल्ली स्थित डी.आर.डी.ओ. भवन (मुख्यालय) ‎]] -->
 
== संगठन ==
इसका मुख्यालय [[दिल्ली]] के [[राष्ट्रपति भवन]] के निकट ही, सेना भवन
<ref>{{Cite web |url=https://timesofindia.indiatimes.com/india/india-to-acquire-us-air-defence-system-for-multi-tier-missile-shield-over-delhi/articleshow/69717946.cms |title=संग्रहीत प्रति |access-date=30 अगस्त 2019 |archive-url=https://web.archive.org/web/20190807225558/https://timesofindia.indiatimes.com/india/india-to-acquire-us-air-defence-system-for-multi-tier-missile-shield-over-delhi/articleshow/69717946.cms |archive-date=7 अगस्त 2019 |url-status=live }}</ref> के सामने डी आर डी ओ भवन में स्थित है। इसकी एक प्रयोगशाला [[रिंग मार्ग, दिल्ली|महात्मा गाँधी मार्ग]] पर उत्तर पश्चिमी दिल्ली में स्थित है। संगठन का नेतृत्व [[रक्षा मंत्रालय, भारत सरकार|रक्षा मंत्री]], [[भारत सरकार]], जो रक्षा मंत्रालय में सामान्य अनुसंधान और विकास के निदेशक तथा रक्षा अनुसंधान और विकास विभाग (डीडीआर व डी) के सचिव भी हैं, के वैज्ञानिक सलाहकार<ref>[{{Cite web |url=http://www.drdo.gov.in/scientificadvisior.html |title=वैज्ञानिक सलाहकार] |access-date=14 मई 2010 |archive-url=https://web.archive.org/web/20100307223347/http://www.drdo.gov.in/scientificadvisior.html |archive-date=7 मार्च 2010 |url-status=dead }}</ref> द्वारा किया जाता है।<ref>[http://www.drdo.gov.in/hindi_new/corporateheadquarter.html निगमित मुख्यालय]{{Dead link|date=जून 2020 |bot=InternetArchiveBot }}</ref> मुख्यालय स्तर पर, उनकी सहायता अनुसंधान एवं विकास (सीसीआर व डी), प्रौद्योगिकी और निगमित निदेशालय के मुख्य नियंत्रक<ref>[{{Cite web |url=http://www.drdo.gov.in/chiefcontrollers.html |title=मुख्य नियंत्रकगण] |access-date=14 मई 2010 |archive-url=https://web.archive.org/web/20100307223342/http://www.drdo.gov.in/chiefcontrollers.html |archive-date=7 मार्च 2010 |url-status=dead }}</ref> द्वारा की जाती है। निगमित निदेशालय के अधिकारी, वित्तीय और संपदा प्रशिक्षण, नागरिक कार्य और संपदा, राज भाषा, विजिलेंस, इत्यादि के क्षेत्र/कार्य को तय करते हैं तथा प्रौद्योगिकी प्रयोगशाला निदेशालय तथा मुख्य नियंत्रक तथा वैज्ञानिक सलाहकार से आरएम के बीच एक इंटरफेस के रूप में काम करते हैं। अतिरिक्त वित्तीय सलाहकार संगठन के उद्देश्यों के मुताबिक धनराशि की उचित उपयोगिता पर संगठन को परामर्श देता है।
{{-}}
 
 
== बाहरी कड़ियाँ ==
* [https://web.archive.org/web/20110211180116/http://www.drdo.gov.in/drdo/Hindi/index.jsp?pg=homebody.jsp आधिकारिक जालस्थल]
 
[[श्रेणी:भारत के अनुसंधान संस्थान]]
1,14,810

सम्पादन