"वसन्त पञ्चमी" के अवतरणों में अंतर

1,533 बैट्स् जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
Rescuing 7 sources and tagging 1 as dead.) #IABot (v2.0.1
(China likhkar)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
(Rescuing 7 sources and tagging 1 as dead.) #IABot (v2.0.1)
|date = [[माघ]] [[शुक्ल पक्ष|शुक्ल]] [[पंचमी]]
|date{{#time:Y|last year}} = 28 जनवरी
|date{{#time:Y}} = 30 जनवरी <ref>{{cite web |url= http://news.drikpanchang.com/2013/01/vasant-panchami-2013-date.html |title=Updates on current Hindu religious affairs: Vasant Panchami - 14th or 15th Feb |first= |last= |work=news.drikpanchang.com |year=2013 |quote=Panchami Tithi is getting over at 09:05 a.m. on 15th February while it starts at 08:19 a.m. on 14th February |accessdate=1 फ़रवरी 2013 |archive-url=https://web.archive.org/web/20130206233437/http://news.drikpanchang.com/2013/01/vasant-panchami-2013-date.html |archive-date=6 फ़रवरी 2013 |url-status=live }}</ref>
|celebrations =
|observances = [[पूजा]] व सामाजिक कार्यक्रम
[[चित्र:Saraswati f. Strassenpuja.JPG|250px|thumb|right|[[कोलकाता]] में पूजा के लिये निर्मित देवी सरस्वती की प्रतिमा (वर्ष २०००)]]
उपनिषदों की कथा के अनुसार [[सृष्टि]] के प्रारंभिक काल में भगवान [[शिव]] की आज्ञा से भगवान ब्रह्मा ने जीवों, खासतौर पर मनुष्य योनि की रचना की। लेकिन अपनी सर्जना से वे संतुष्ट नहीं थे, उन्हें लगता था कि कुछ कमी रह गई है जिसके कारण चारों ओर मौन छाया रहता है।
*तब ब्रह्मा जी ने इस समस्या के निवारण के लिए अपने कमण्डल से जल अपने हथेली में लेकर संकल्प स्वरूप उस जल को छिड़कर भगवान श्री विष्णु की स्तुति करनी आरम्भ की। ब्रम्हा जी के किये स्तुति को सुन कर भगवान [[विष्णु]] तत्काल ही उनके सम्मुख प्रकट हो गए और उनकी समस्या जानकर भगवान विष्णु ने आदिशक्ति [[दुर्गा]] माता का आव्हान किया। विष्णु जी के द्वारा आव्हान होने के कारण भगवती दुर्गा वहां तुरंत ही प्रकट हो गयीं तब ब्रम्हा एवं विष्णु जी ने उन्हें इस संकट को दूर करने का निवेदन किया।<ref>{{Cite web |url=https://vedpuran.net/download-all-ved-and-puran-pdf-hindi-free/comment-page-5/#comments |title=संग्रहीत प्रति |access-date=29 जनवरी 2020 |archive-url=https://web.archive.org/web/20180728152947/https://vedpuran.net/download-all-ved-and-puran-pdf-hindi-free/comment-page-5/#comments |archive-date=28 जुलाई 2018 |url-status=live }}</ref>
*ब्रम्हा जी तथा विष्णु जी बातों को सुनने के बाद उसी क्षण आदिशक्ति दुर्गा माता के शरीर से स्वेत रंग का एक भारी तेज उत्पन्न हुआ जो एक दिव्य नारी के रूप में बदल गया। यह स्वरूप एक चतुर्भुजी सुंदर स्त्री का था जिनके एक हाथ में वीणा तथा दूसरा हाथ में वर मुद्रा थे । अन्य दोनों हाथों में पुस्तक एवं माला थी। आदिशक्ति श्री दुर्गा के शरीर से उत्पन्न तेज से प्रकट होते ही उन देवी ने वीणा का मधुरनाद किया जिससे संसार के समस्त जीव-जन्तुओं को वाणी प्राप्त हो गई। जलधारा में कोलाहल व्याप्त हो गया। पवन चलने से सरसराहट होने लगी। तब सभी देवताओं ने शब्द और रस का संचार कर देने वाली उन देवी को वाणी की अधिष्ठात्री देवी "सरस्वती" कहा।<ref>{{Cite web |url=http://www.aryasamajjamnagar.org/vedang.htm |title=संग्रहीत प्रति |access-date=29 जनवरी 2020 |archive-url=https://web.archive.org/web/20100106153131/http://www.aryasamajjamnagar.org/vedang.htm |archive-date=6 जनवरी 2010 |url-status=live }}</ref>
*फिर आदिशक्ति भगवती दुर्गा ने ब्रम्हा जी से कहा कि मेरे तेज से उत्पन्न हुई ये देवी सरस्वती आपकी पत्नी बनेंगी, जैसे लक्ष्मी श्री विष्णु की शक्ति हैं, पार्वती महादेव शिव की शक्ति हैं उसी प्रकार ये सरस्वती देवी ही आपकी शक्ति होंगी। ऐसा कह कर आदिशक्ति श्री दुर्गा सब देवताओं के देखते - देखते वहीं अंतर्धान हो गयीं। इसके बाद सभी देवता सृष्टि के संचालन में संलग्न हो गए।<ref>{{Cite web |url=http://www.vedpuran.com/# |title=संग्रहीत प्रति |access-date=29 जनवरी 2020 |archive-url=https://web.archive.org/web/20100515172142/http://www.vedpuran.com/ |archive-date=15 मई 2010 |url-status=live }}</ref>
 
सरस्वती को वागीश्वरी, भगवती, शारदा, वीणावादनी और वाग्देवी सहित अनेक नामों से पूजा जाता है। ये विद्या और बुद्धि प्रदाता हैं। [[संगीत]] की उत्पत्ति करने के कारण ये संगीत की देवी भी हैं। बसन्त पंचमी के दिन को इनके प्रकटोत्सव के रूप में भी मनाते हैं। [[ऋग्वेद]] में भगवती सरस्वती का वर्णन करते हुए कहा गया है-
: '''प्रणो देवी सरस्वती वाजेभिर्वजिनीवती धीनामणित्रयवतु।'''
 
अर्थात ये परम चेतना हैं। सरस्वती के रूप में ये हमारी बुद्धि, प्रज्ञा तथा मनोवृत्तियों की संरक्षिका हैं। हममें जो आचार और मेधा है उसका आधार भगवती सरस्वती ही हैं। इनकी समृद्धि और स्वरूप का वैभव अद्भुत है। [[पुराण|पुराणों]] के अनुसार [[कृष्ण|श्रीकृष्ण]] ने सरस्वती से प्रसन्न होकर उन्हें वरदान दिया था कि वसंत पंचमी के दिन तुम्हारी भी आराधना की जाएगी और तभी से इस वरदान के फलस्वरूप भारत देश में वसंत पंचमी के दिन विद्या की देवी सरस्वती की भी पूजा होने लगी जो कि आज तक जारी है।<ref>{{cite web |url=http://www.rashtriyasahara.com/NewsDetailFrame.aspx?newsid=48471&catid=39&vcatname=%E0%A4%A7%E0%A4%B0%E0%A5%8D%E0%A4%AE-%E0%A4%A6%E0%A4%B0%E0%A5%8D%E0%A4%B6%E0%A4%A8|title=पर्व/बसंत पंचमी (11 फरवरी) : विघा और बुद्धि प्रदाता मां शारदा |access-date=[[8 मार्च]] [[2008]]|format= |publisher=राष्ट्रीय सहारा|language=}}{{Dead link|date=जून 2020 |bot=InternetArchiveBot }}</ref> पतंगबाज़ी का वसंत से कोई सीधा संबंध नहीं है। लेकिन [[पतंग]] उड़ाने का रिवाज़ हज़ारों साल पहले चीन में शुरू हुआ और फिर कोरिया और जापान के रास्ते होता हुआ भारत पहुँचा।<ref>{{cite web |url=http://www.bbc.co.uk/hindi/entertainment/story/2004/02/040213_pakistan_kite.shtml|title=वसंत पर पतंग की उड़ान|access-date=[[8 मार्च]] [[2008]]|format=एसएचटीएमएल |publisher=बीबीसी|language=|archive-url=https://web.archive.org/web/20050413090102/http://www.bbc.co.uk/hindi/entertainment/story/2004/02/040213_pakistan_kite.shtml|archive-date=13 अप्रैल 2005|url-status=live}}</ref>
 
== पर्व का महत्व ==
 
=== जन्म दिवस ===
'''[[परमार भोज|राजा भोज]]''' का जन्मदिवस वसंत पंचमी को ही आता हैं। राजा भोज इस दिन एक बड़ा उत्सव करवाते थे जिसमें पूरी प्रजा के लिए एक बड़ा प्रीतिभोज रखा जाता था जो चालीस दिन तक चलता था। <ref>{{cite web|url= http://delhipubliclibrary.in/cgi-bin/koha/opac-detail.pl?biblionumber=92037|title= संग्रहीत प्रति|access-date= 22 जनवरी 2018|archive-url= https://web.archive.org/web/20180122125720/http://delhipubliclibrary.in/cgi-bin/koha/opac-detail.pl?biblionumber=92037|archive-date= 22 जनवरी 2018|url-status= live}}</ref>
 
वसन्त पंचमी [[हिन्दी साहित्य]] की अमर विभूति महाकवि [[सूर्यकांत त्रिपाठी 'निराला']] का जन्मदिवस (28.02.1899) भी है। निराला जी के मन में निर्धनों के प्रति अपार प्रेम और पीड़ा थी। वे अपने पैसे और वस्त्र खुले मन से निर्धनों को दे डालते थे। इस कारण लोग उन्हें 'महाप्राण' कहते थे। इस दिन जन्मे लोग कोशिश करे तो बहुत आगे जाते है।
 
== बाहरी कड़ियाँ ==
*[https://web.archive.org/web/20190711080842/https://www.patrika.com/dharma-karma/saraswati-chalisa-in-hindi-4081747/ सरस्वती चालीसा]
{{हिन्दू पर्व-त्यौहार}}
1,12,344

सम्पादन