"साबुत अनाज" के अवतरणों में अंतर

423 बैट्स् जोड़े गए ,  1 माह पहले
Rescuing 6 sources and tagging 0 as dead.) #IABot (v2.0.1
(Grain_hindi.png on Commons)
(Rescuing 6 sources and tagging 0 as dead.) #IABot (v2.0.1)
 
 
[[चित्र:Kommissbrot.jpg|thumb|200px|left|परंपरागत पकी हुई राई की ब्रेड]]
पूर्व मान्यता अनुसार साबुत अनाज कई रोगों से बचाते हैं क्योंकि इसमें फाइबर की प्रचुरता होती है। परंतु नवीन खोजों से पुष्टि हुई कि साबुत अनाजों में फाइबर के अलावा कई विटामिनों के अनूठे मिश्रण, [[खनिज]]-[[लवण]], अघुलनशील [[प्रतिऑक्सीकारक|एंटीऑक्सीडेंट]] और [[फाइटोस्टेरॉल|फाइटोस्टेरोल]] भी पाए जाते हैं, जो कि सब्जियों और फलों में अनुपस्थित होते हैं और शरीर को कई रोगों से बचाते हैं।<ref name="हैल्दी इंडिया">[{{Cite web |url=http://healthy-india.org/Hindi/grains1.asp |title=साबुत अनाज पूरे शरीर को बचाते हैं] |access-date=9 फ़रवरी 2010 |archive-url=https://web.archive.org/web/20100613123444/http://healthy-india.org/Hindi/grains1.asp |archive-date=13 जून 2010 |url-status=dead }}</ref> इसका सेवन करने वालों को मोटापे का खतरा कम होता है। मोटापे को [[शरीर द्रव्यमान सूचकांक|बॉडी मास इंडेक्स]] और कमर से कूल्हों के अनुपात से मापा जाता है। साथ ही साबुत अनाज से [[कोलेस्टेरॉल|कोलेस्ट्रोल]] स्तर भी कम बना रहता है जिसका मुख्य कारण इनमें पाये जाने वाले [[पादपरसायन|फाइटोकैमिकल्स]] और [[प्रतिऑक्सीकारक|एंटीआक्सीडेण्ट्स]] हैं। जो घर में बने आटे की रोटियां खाते हैं उनमें ब्रेड खाने वालों की अपेक्षा हृदय रोगों की आशंका २५-३६ प्रतिशत कम होती है। इसी तरह स्ट्रोक का ३७ प्रतिशत, टाइप-२ मधुमेह का २१-२७ प्रतिशत, पचनतंत्र कैंसर का २१-४३ प्रतिशत और हामर्न संबंधी कैंसर का खतरा १०-४० प्रतिशत तक कम होता है।
 
साबुत अनाज का सेवन करने वाले लोगों को [[मधुमेह]], [[हृदय रोग|कोरोनरी धमनी रोग]], पेट का [[कर्कट रोग|कैंसर]] और [[उच्च रक्तचाप]] जैसे रोगों की आशंका कम हो जाती है।<ref name="हिन्दुस्तान"/> साबुत अनाज युक्त खाद्य पदार्थों का [[ग्लाइसेमिक इंडेक्स]] कम होता है, जिससे ये [[रक्त]] में [[शर्करा]] के स्तर को कम करते हैं। इनमें पाए जाने वाले फाइबर अंश पेट में गैस बनने की प्रक्रिया कम करते हैं एवं पेट में स्थिरता का आभास होता है, इसलिए ये शारीरिक वजन को कम करने में सहायता करते हैं। साबुत अनाज और साबुत दालें प्रतिदिन के आहार में अवश्य सम्मिलित करने चाहिये। धुली दाल के बजाय छिलके वाली दाल को वरीयता देनी चाहिये। साबत से बनाए गए ताजे उबले हुए [[चावल]], [[इडली]], [[उपमा]], [[दोसा (व्यंजन)|डोसा]] आदि रिफाइन्ड अनाज से बने पैक किए उत्पादों जैसे पस्ता, नूडल्स आदि से कहीं बेहतर होते हैं। रोटी, बन और ब्रैड से ज्यादा अच्छी होती हैं।<ref name="हैल्दी इंडिया"/> रिफाइंड अनाज के मुकाबले साबुत अनाज वाले खाद्य पदार्थों से कार्डियोवस्क्युलर बीमारियों एवं पेट के कैंसर का खतरा कम हो जाता है।
== सन्दर्भ ==
{{reflist}}
* [https://web.archive.org/web/20100613123444/http://healthy-india.org/Hindi/grains1.asp साबुत अनाज पूरे शरीर को बचाते हैं]
* [http://www.livehindustan.com/news/tayaarinews/tips/67-77-95339.html साबुत अनाज]। हिन्दुस्तान लाइव। ८ फ़रवरी २०१०
 
== बाहरी कड़ियाँ ==
* [https://web.archive.org/web/20090203103633/http://news.bbc.co.uk/1/hi/health/648199.stm बीबीसी समाचार से लेख]
* [https://web.archive.org/web/20060823104219/http://www.aaccnet.org/definitions/wholegrain.asp साबुत अनाज की परिभाषा]
* [https://web.archive.org/web/20090916222115/http://www.msnbc.msn.com/id/15020111/ इंसुलिन प्रतिरोध से बचाव]
* [httphttps://wwwweb.archive.org/web/20181115015235/http://wholegraingourmet.com/ साबुत अनाज रेसिपीज़]
{{अनाज}}
{{आज का आलेख}}
81,025

सम्पादन