"सामाजिक नेटवर्किंग सेवाएं": अवतरणों में अंतर

Rescuing 63 sources and tagging 2 as dead.) #IABot (v2.0.1
(संबदित कड़ी)
टैग: यथादृश्य संपादिका मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
(Rescuing 63 sources and tagging 2 as dead.) #IABot (v2.0.1)
'''सामाजिक नेटवर्किंग सेवा''' एक ऑनलाइन सेवा, प्लेटफॉर्म या साइट होती है जो लोगों के बीच [[सामाजिक नेटवर्क|सामाजिक नेटवर्किंग]] अथवा सामाजिक संबंधों को बनाने अथवा उनको परिलक्षित करने पर केन्द्रित होती है, उदाहरण के लिए ऐसे व्यक्ति जिनकी रुचियां अथवा गतिविधियां समान होती हैं। एक सामाजिक नेटवर्किंग सेवा में अनिवार्य रूप से प्रत्येक प्रयोगकर्ता का निरूपण (अक्सर एक प्रोफ़ाइल), उसके सामाजिक संपर्क तथा कई अन्य अतिरिक्त सेवायें शामिल रहती हैं। अधिकांश सामाजिक नेटवर्किंग सेवायें वेब आधारित होती हैं और प्रयोगकर्ताओं को [[अंतरजाल|इन्टरनेट]] का प्रयोग करते हुए एक-दूसरे से संपर्क करने का साधन प्रदान करती हैं उदाहरण के रूप में [[ईमेल|ई-मेल]] तथा इंसटैंट मैसेजिंग. हालांकि ऑनलाइन समुदाय सेवाओं को भी कभी-कभी सामाजिक नेटवर्किंग सेवा माना जाता है। व्यापक अर्थ में, सामाजिक नेटवर्किंग सेवा व्यक्ति केंद्रित होती है जबकि ऑनलाइन समुदाय सेवा समूह केंद्रित होती हैं। सामाजिक नेटवर्किंग साइटें किसी प्रयोगकर्ता को अपने व्यक्तिगत नेटवर्किंग में विचारों, गतिविधियों, घटनाओं और उनके व्यक्तिगत रुचियों को बांटने की सुविधा देती हैं।
 
सामाजिक नेटवर्किंग सेवाओं के मुख्य प्रकारों में श्रेणी स्थान (category places) होते हैं (पूर्व स्कूल वर्ष या सहपाठियों के रूप में), अपने मित्रों से जुड़ने की सुविधा (आमतौर पर अपने विवरण के पेज के द्वारा), तथा एक संस्तुति प्रणाली जो विश्वास पर आधारित होती है, सम्मिलित होती हैं। लोकप्रिय पद्धतियों में इनमें से कई सम्मिलित होती हैं, जैसे कि [[फेसबुक|[[फेसबुक]]]] तथा [[ट्विटर|[[ट्विटर]]]] का प्रयोग विश्व भर में विस्तृत रूप से होता है; माईस्पेस तथा [[लिंक्डइन|[[लिंक्डइन]]]] का प्रयोग उत्तरी अमेरिका में सर्वाधिक होता है;<ref name="adweek">[http://www.adweek.com/aw/national/article_display.jsp?vnu_content_id=1003653287 "वैश्विक संघर्ष में सोशल नेट्स नियुक्त"] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20080116015844/http://www.adweek.com/aw/national/article_display.jsp?vnu_content_id=1003653287 |date=16 जनवरी 2008 }} - उत्तर अमेरिका से माइस्पेस और फेसबुक के 66% प्रयोगकर्ताएं आयें है: एडविक वेबसाइट. 15 जनवरी 2008 को पुन:प्राप्त.</ref> नेक्सोपिया (अधिकांशतः कनाडा में);<ref>[http://www.alexa.com/data/details/traffic_details/nexopia.com Alexa.com पर नेक्सोपिया आंकड़े]</ref> बेबो,<ref>[http://www.techcrunch.com/2007/08/20/windows-live-messaging-coming-to-bebo/ बेबो] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20110813074742/http://techcrunch.com/2007/08/20/windows-live-messaging-coming-to-bebo/ |date=13 अगस्त 2011 }} - ब्रिटेन में अपनी तरह में सबसे अधिक लोकप्रिय, (अगस्त, 2007): टेकक्रंच वेबसाइट. 15 जनवरी 2008 को पुन:प्राप्त.</ref> वीकोंटाक्टे, [[हाई5]], हाइव्स (अधिकांशतः नीदरलैंड्स में), स्टडीवीज़ी (अधिकांशतः जर्मनी में), आईडब्ल्यूआईडब्ल्यू (अधिकांशतः हंगरी में), ट्यूनटी (अधिकांशतः स्पेन में), नासज़ा-क्लासा (अधिकांशतः पोलैंड में), डेकायेन, [[Tagged|टैग्ड]], जिंग,<ref>मार्केटिंगवॉक्स (MarketingVox) वेबसाइट से [http://www.marketingvox.com/german-xing-plans-invasion-of-linkedin-turf-030727/ जर्मन ज़िंग लिंक्डइन टर्फ आक्रमण का योजना] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20110714035201/http://www.marketingvox.com/german-xing-plans-invasion-of-linkedin-turf-030727/ |date=14 जुलाई 2011 }}: लेख.</ref> बाडू<ref>[http://blogs.guardian.co.uk/digitalcontent/2008/03/elevator_pitch_why_badoo_wants.html एलीवेटर पिच: सामाजिक नेटवर्किंग में बादू क्यों अगला शब्द होना चाहता है] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20080308175435/http://blogs.guardian.co.uk/digitalcontent/2008/03/elevator_pitch_why_badoo_wants.html |date=8 मार्च 2008 }}, मार्क स्विनी, द गार्जियन, 24 दिसम्बर 2007, मार्च 2008 को अभिगम.</ref> तथा स्काईरॉक यूरोप के भागों में;<ref>पीबीएस (PBS) ''मिडियाशिफ्ट (MediaShift)'' वेबसाइट से [http://www.pbs.org/mediashift/2007/06/try_try_againorkut_friendster.html यूरोप में Hi5 लोकप्रिय है] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20080919051438/http://www.pbs.org/mediashift/2007/06/try_try_againorkut_friendster.html |date=19 सितंबर 2008 }}: लेख 18 जनवरी 2008 को पुन:प्राप्त.</ref> [[ऑर्कुट|[[[[ऑरकुट]]]]]] तथा हाई5 [[दक्षिण अमेरिका]], [[भारत]] तथा [[मध्य अमेरिका]] में;<ref>[http://usability.about.com/od/websiteaudiences/a/Orkut.htm "क्यों प्रयोगकर्ता ऑर्कुट को चाहते हैं"] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20080121172506/http://usability.about.com/od/websiteaudiences/a/Orkut.htm |date=21 जनवरी 2008 }} - 55% प्रयोगकर्ताएं ब्राजील से हैं: About.com वेबसाइट. 15 जनवरी 2008 को पुन:प्राप्त.</ref> तथा फ्रेंडस्टर, मिक्सी, मल्टीप्लाई, ऑरकुट, व्रेच, रेनरेन व साईवर्ल्ड एशिया तथा प्रशांतीय द्वीपों में एवं ट्विटर, फेसबुक, ऑरकुट व लिंक्डइन भारत में.
 
इन सेवाओं के मानकीकरण के प्रयास किये गए ताकि मित्रों तथा रुचियों की प्रविष्टियों को दोहराए जाने की आवश्यकता से बचा जा सके (देखें एफओएएफ मानक तथा ओपन सोर्स पहल)
कम्प्यूटर के ज़रिये होने वाले सामाजिक पारस्परिक संपर्कों को कंप्यूटर नेटवर्किंग की संभाव्यता के रूप में काफी पहले सुझाया गया था।<ref>एस. रौक्सैन हिल्ट्ज़ और मर्रे टुरोफ़ (एडिसन-वेस्ली, 1978, 1993) द्वारा ''द नेटवर्किंग नेशन''</ref> कम्प्यूटर के ज़रिये होने वाले संचार के द्वारा सामाजिक नेटवर्किंगों का आधार बनाने के प्रयास शुरूआती ऑनलाइन सेवाओं का आधार बने, इनमें यूज़नेट, आरपानेट, लिस्टसर्व तथा बुलिटन बोर्ड सेवाएं (बीबीएस) शामिल थीं। सामाजिक नेटवर्किंग साइटों की प्राथमिक अवस्था की कई विशेषताएं ऑनलाइन सेवाओं जैसे अमेरिका ऑनलाइन, प्रोडिजी तथा कॉम्प्युसर्व में भी विद्यमान थीं।
 
[[विश्व व्यापी वेब|वर्ल्ड वाइड वेब]] पर प्रारंभिक सामाजिक नेटवर्किंग सामान्यीकृत ऑनलाइन समुदायों के रूप में शुरू हुई, जैसे Theglobe.com (1994),<ref>{{cite journal
{{cite journal | ref=harv
| last=Cotriss | first=David
| first=David
| date=2008-05-29
| title=Where are they now: TheGlobe.com
| journal=The Industry Standard
| url=http://www.thestandard.com/news/2008/05/29/where-are-they-now-theglobe-com
| access-date=14 मार्च 2011
}}
| archive-url=https://web.archive.org/web/20090204085711/http://thestandard.com/news/2008/05/29/where-are-they-now-theglobe-com
</ref> जियोसिटीज़ (1995) तथा Tripod.com (1995)। इन ऑनलाइन समुदायों में से कई में लोगों को एक-दूसरे के निकट संपर्क में लाने के लिए चैट रूम उपलब्ध कराये जाते थे, तथा लोगों को अपनी व्यक्तिगत जानकारियां तथा विचार बांटने के लिए व्यक्तिगत वेबपेज़ बनाने के लिए बढ़ावा दिया जाता था, तथा इसके लिए प्रयोग करने में आसान प्रकाशन टूल तथा मुफ्त अथवा सस्ता वेबस्पेस दिया जाता था। कुछ समुदायों - जैसे Classmates.com - ने एक अलग दृष्टिकोण को अपनाते हुए ई-मेल पतों के माध्यम से लोगों को एक-दूसरे से जोड़ दिया। 1990 के दशक के अंत तक, प्रयोगकर्ता की प्रोफ़ाइल सामाजिक नेटवर्किंग साइटों की केंद्रीय विशिष्टता हो गयी थी, इनके द्वारा प्रयोगकर्ताओं को अपने "मित्रों" की सूची बनाने तथा समान रूचि वाले अन्य प्रयोगकर्ताओं को खोजने की सुविधा प्राप्त होती थी।
| archive-date=4 फ़रवरी 2009
| url-status=dead
}}</ref> जियोसिटीज़ (1995) तथा Tripod.com (1995)। इन ऑनलाइन समुदायों में से कई में लोगों को एक-दूसरे के निकट संपर्क में लाने के लिए चैट रूम उपलब्ध कराये जाते थे, तथा लोगों को अपनी व्यक्तिगत जानकारियां तथा विचार बांटने के लिए व्यक्तिगत वेबपेज़ बनाने के लिए बढ़ावा दिया जाता था, तथा इसके लिए प्रयोग करने में आसान प्रकाशन टूल तथा मुफ्त अथवा सस्ता वेबस्पेस दिया जाता था। कुछ समुदायों - जैसे Classmates.com - ने एक अलग दृष्टिकोण को अपनाते हुए ई-मेल पतों के माध्यम से लोगों को एक-दूसरे से जोड़ दिया। 1990 के दशक के अंत तक, प्रयोगकर्ता की प्रोफ़ाइल सामाजिक नेटवर्किंग साइटों की केंद्रीय विशिष्टता हो गयी थी, इनके द्वारा प्रयोगकर्ताओं को अपने "मित्रों" की सूची बनाने तथा समान रूचि वाले अन्य प्रयोगकर्ताओं को खोजने की सुविधा प्राप्त होती थी।
 
सामाजिक नेटवर्किंग के नए तरीके 1990 के अंत तक विकसित किए गए और कई साइटों ने मित्रों को खोजने तथा उनके प्रबंधन के लिए अधिक उन्नत सुविधाओं को विकसित करना प्रारंभ कर दिया। <ref>रोम-लिवरमोर, सी. और सेट्ज़ेकॉर्न, के. (2008). सामाजिक नेटवर्किंग समुदाय और ई-डेटिंग सेवाएं: अवधारणा और निहितार्थ. आईजीआई (IGI) वैश्विक. पृष्ठ .271</ref> सामाजिक नेटवर्किंग साइटों की यह नई पीढ़ी, 2002 में फ्रेंडस्टर के आने के साथ ही<ref>नैप, ई. (2006). माइस्पेस (Myspace‎) के लिए एक पैरेंट गाइड. डेड्रीम प्रकाशक. ISBN 1-4196-4146-8</ref> विकसित होना प्रारंभ हो गयी और जल्द ही इंटरनेट की मुख्यधारा का हिस्सा बन गयी। फ्रेंडस्टर के एक वर्ष पश्चात ही माईस्पेस तथा [[लिंक्डइन]] आ गए तथा इसके बाद बेबो आया। सामाजिक नेटवर्किंग साइटों की लोकप्रियता में तीव्र वृद्धि का सत्यापन इसी बात से किया जा सकता है कि 2005 तक माईस्पेस के देखे जाने वाले पेजों की संख्या [[गूगल]] से भी अधिक थी।
 
2004 में प्रारंभ हुई [[फेसबुक]]<ref>स्टीव रोसेनबुश (2005). [http://www.businessweek.com/technology/content/jul2005/tc20050719_5427_tc119.htm माइस्पेस में न्यूज कॉर्प की जगह] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20110324060951/http://www.businessweek.com/technology/content/jul2005/tc20050719_5427_tc119.htm |date=24 मार्च 2011 }}, बिज़नेसविक, 19 जुलाई 2005. (माइस्पेस पृष्ठ दृश्य आंकड़े)</ref> विश्व की सबसे बड़ी सामाजिक नेटवर्किंग साइट बन चुकी है।<ref>द इकोनॉमिस्ट्स वेबसाइट से [http://www.economist.com/business/displaystory.cfm?story_id=9990635 "सोशल ग्राफ-ईटी"] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20100205115924/http://www.economist.com/business/displaystory.cfm?story_id=9990635 |date=5 फ़रवरी 2010 }}: फेसबुक के सामाजिक नेटवर्किंग रेखांकन: लेख. 19 जनवरी 2008 में पुन:प्राप्त.</ref>
2004 में प्रारंभ हुई [[फेसबुक]]<ref>
स्टीव रोसेनबुश (2005). [http://www.businessweek.com/technology/content/jul2005/tc20050719_5427_tc119.htm माइस्पेस में न्यूज कॉर्प की जगह], बिज़नेसविक, 19 जुलाई 2005. (माइस्पेस पृष्ठ दृश्य आंकड़े)
</ref> विश्व की सबसे बड़ी सामाजिक नेटवर्किंग साइट बन चुकी है।<ref>द इकोनॉमिस्ट्स वेबसाइट से [http://www.economist.com/business/displaystory.cfm?story_id=9990635 "सोशल ग्राफ-ईटी"]: फेसबुक के सामाजिक नेटवर्किंग रेखांकन: लेख. 19 जनवरी 2008 में पुन:प्राप्त.</ref>
 
यह अनुमान है कि विभिन्न प्रकार के मॉडलों का प्रयोग करते हुए आज 200 से सक्रिय सामाजिक नेटवर्किंग साइटें हैं।{{Citation needed|date= फ़रवरी 2011}}
== सामाजिक प्रभाव ==
 
वेब आधारित सामाजिक नेटवर्किंग सेवाओं के द्वारा समान रुचियों और गतिविधियों वाले व्यक्तियों का राजनीतिक, आर्थिक और भौगोलिक सीमाओं को लांघते हुए जुड़ाव संभव हो पाता है।<ref>कॉमस्कोर. (2007). सामाजिक नेटवर्किंग वैश्विक हो रहा है। रेस्टन, वीए (VA). 9 सितंबर 2007 को पुनःप्राप्त [http://www.comscore.com/press/release.asp?press=1555 ] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20070819224229/http://www.comscore.com/press/release.asp?press=1555 |date=19 अगस्त 2007 }}</ref> ई-मेल और इन्सटैंट मैसेजों के माध्यम से ऑनलाइन समुदायों की स्थापना हुई है जिसमें उपहार अर्थव्यवस्था और पारस्परिक परोपकारिता को [[सहकार|सहयोग]] के माध्यम से प्रोत्साहित किया जाता है। सूचनाएं उपहार अर्थव्यवस्था के लिए विशेष रूप से अनुकूल हैं क्योंकि सूचनाएं गैर-प्रतिस्पर्धी वस्तु है तथा व्यावहारिक रूप से बिना किसी मूल्य के उपहार में दिया जा सकता है।<ref>{{cite journal|last=Mackaay |first=Ejan |title=Economic Incentives in Markets for Information and Innovation |journal=Harvard Journal of Law & Public Policy |year=1990 |volume=13 |issue=909 |pages=867–910|ref=harv}}</ref><ref name="Heylighen">{{cite book |last=Heylighen | first=Francis |editor=B. Lutterbeck, M. Barwolff, and R. A. Gehring |title= Open Source Jahrbuch |publisher= Lehmanns Media |year=2007 |chapter=Why is Open Access Development so Successful? }}</ref>
 
फेसबुक और अन्य सामाजिक नेटवर्किंग के साधन तीव्रता के साथ विद्वानों के अनुसंधान का विषय बनते जा रहे हैं। कई क्षेत्रों में विद्वान नेटवर्किंग साइटों के सामाजिक प्रभाव की जांच करना प्रारंभ कर चुके हैं, जांच में ऐसी साइटों से पहचान, गोपनीयता,<ref>ग्रॉस, आर. और एक्विस्टी, ए (2005). [http://www.heinz.cmu.edu/~acquisti/papers/privacy-facebook-gross-acquisti.pdf ऑनलाइन सामाजिक नेटवर्किंग (फेसबुक मामला) में सूचना रहस्योद्घाटन और गोपनीयता.] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20110722114146/http://www.heinz.cmu.edu/~acquisti/papers/privacy-facebook-gross-acquisti.pdf |date=22 जुलाई 2011 }} पूर्व संस्करण कार्यवाही. इलेक्ट्रॉनिक सोसाइटी (डब्ल्यूपीईएस (WPES)) में गोपनीयता पर एसीएम (ACM) कार्यशाला</ref> सामाजिक पूंजी, युवा संस्कृति तथा [[शिक्षा]] सम्बंधित विषयों पर अध्ययन सम्मिलित है।<ref>
डानाह ब्वॉय्ड, (2007), [http://www.mitpressjournals.org/doi/pdf/10.1162/dmal.9780262524834.119 व्हाई यूथ (हार्ट) सोशल नेटवर्किंग साइट्स], डिजिटल लर्निंग पर मैकअर्थर फाउंडेशन सीरीज - युवा, पहचान और डिजिटल मीडिया खंड (सं. डेविड बकिंघम). एमआईटी (MIT) प्रेस</ref>
 
कई वेबसाइटें परोपकार के लिए सामाजिक नेटवर्किंग मॉडल का प्रयोग कर रही हैं। इस तरह के मॉडल अलग-थलग उद्योगों तथा छोटे संगठनों को रूचि रखने वाले प्रयोगकर्ताओं तथा विस्तृत जनों तक पहुंच उपलब्ध कराते हैं।<ref>[http://online.wsj.com/public/article/SB118765256378003494.html ''नई पीढ़ी ने परोपकार की फिर से रचना की'' ] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20080517030645/http://online.wsj.com/public/article/SB118765256378003494.html |date=17 मई 2008 }}, ''वॉल स्ट्रीट जर्नल'' की वेबसाइट.</ref> सामाजिक नेटवर्किंग व्यक्तियों को डिजिटल रूप से संवाद करने के लिए अलग माध्यम प्रदान कर रहे हैं। हाइपरटेक्स्ट के ये समुदाय सूचना एवं विचारों को साझा करना संभव करते हैं, जो कि एक पुरानी एक डिजिटल अवधारणा है।
 
== विशिष्ट संरचना ==
 
== सामाजिक नेटवर्किंग में उभरते रुझान ==
सामाजिक नेटवर्किंग की लोकप्रियता में लगातार वृद्धि हो रही है,<ref>[http://www.google.com/trends?q=e-commerce%2C+social+networking&amp;ctab=0&amp;geo=all&amp;date=all&amp;sort=1 "ई-कॉमर्स, सोशल नेटवर्किंग" के लिए सर्च.] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20111127063808/http://www.google.com/trends?q=e-commerce%2C+social+networking&ctab=0&geo=all&date=all&sort=1 |date=27 नवंबर 2011 }} गूगल ट्रेंडस. 15 अक्टूबर 2009 को पुनःप्राप्त.</ref> प्रौद्योगिकी के नए प्रयोग लगातार किये जा रहे हैं।
 
सामाजिक नेटवर्किंग साइटों के उभरते रुझान में सबसे आगे "रियल-टाइम वेब" तथा "लोकेशन बेस्ड" के सिद्धांत हैं। रियल-टाइम प्रयोगकर्ताओं को सामग्री को अपलोड करने के साथ ही इसे प्रसारित करने की अनुमति देता है - यह अवधारणा रेडियो और टेलीविजन प्रसारण के समान है। रियल-टाइम के सिद्धांत का प्रारंभ [[ट्विटर]] द्वारा किया गया, इसमें प्रयोगकर्ता जो कर अथवा सोच रहे (140 कैरेक्टर की सीमा में) होते थे, उसे विश्व भर में प्रसारित कर सकते थे। [[फेसबुक]] ने भी यही अपनी "फ़ीड लाइव" के द्वारा किया जिसमें प्रयोगकर्ताओं की गतिविधियों को होने के साथ ही प्रदर्शित किया जा सकता था। जहां ट्विटर शब्दों पर केंद्रित है, क्लिक्सटर जो कि एक अन्य रियल-टाइम सेवा है, जिसने समूह तस्वीर साझा करने पर ध्यान केंद्रित करते हुए प्रयोगकर्ताओं को किसी घटना की तस्वीरें उस घटना के समय ही प्रसारित करने की सुविधा प्रदान की। मित्र व आसपास के अन्य प्रयोगकर्ता घटनाक्रम में स्वयं की तस्वीरें और टिप्पणियों के रूप में योगदान कर सकते हैं, इस प्रकार फ़ोटो और टिप्पणियों को प्रसारण के "रियल-टाइम" पहलू के लिए योगदान के रूप में अपलोड किया जाता है। स्थान आधारित सामाजिक नेटवर्किंग में, फोरस्क्वेयर ने लोकप्रियता हासिल की क्योंकि यह प्रयोगकर्ताओं को उन स्थानों को "चेक-इन" की अनुमति देता था जहां पर अन्य लोग भी एकत्रित होते थे। गोवाला भी ऐसी ही एक सेवा है जो फोरस्क्वेयर की तरह ही कार्य करती है, यह फ़ोनों में उपलब्ध जीपीएस क्षमता का लाभ लेते हुए स्थानिक अनुभव पैदा करती है। क्लिक्सटर, हालांकि वास्तविक समय श्रेणी का भाग है, भी एक स्थान आधारित सामाजिक नेटवर्किंग साईट है, कयोंकि इसमें प्रयोगकर्ताओं द्वारा बनाई गयी घटनाओं को स्वतः ही भौगोलिक रूप से टैग किया जाता है, तथा प्रयोगकर्ता आस-पास हो रही घटनाओं को क्लिक्सटर [[आइफ़ोन|आई-फोन]] ऐप की सहायता से देख सकते हैं। हाल ही में, येल्प ने अपनी मोबाइल फोन ऐप के द्वारा चेक-इन के ज़रिये स्थान आधारित सामाजिक नेटवर्किंग श्रेणी में अपने प्रवेश की घोषणा की है; यह फोरस्क्वेयर अथवा गोवाला के लिए हानिकारक होगा या नहीं, यह तो समय ही बताएगा क्योंकि इंटरनेट तकनीकी उद्योग में अभी यह एक नयी श्रेणी है।<ref>[{{Cite web |url=http://www.techcrunch.com/2010/01/15/yelp-iphone-app-4-check-ins/ |title=एल्प एनैबल्स चेक-इन्स ऑन इट्स आईफोन (iPHONE) एप; फोरस्क्वैर, गोवाला ऑस्टेड एज़ मेयर्स] |access-date=14 मार्च 2011 |archive-url=https://web.archive.org/web/20110307064639/http://techcrunch.com/2010/01/15/yelp-iphone-app-4-check-ins/ |archive-date=7 मार्च 2011 |url-status=live }}</ref>
 
इस नई प्रौद्योगिकी के लिए एक लोकप्रिय अनुप्रयोग उद्योगों के बीच सामाजिक नेटवर्किंग है। कंपनियों ने पाया है कि फेसबुक और ट्विटर जैसी सामाजिक नेटवर्किंग साइटें अपनी ब्रांड छवि बनाने के अच्छे तरीके हैं। मार्केटिंग जाइव के लेखक जोड़ी निमेज़ के अनुसार,<ref name="marketing-jive.com">निमेट्ज़, जोडी. [http://www.marketing-jive.com/2007/11/jody-nimetz-on-emerging-trends-in-b2b.html "बी2बी (B2B) सामाजिक नेटवर्किंग में रुझान को उभरते हुए जोडी.निमेट्ज़".] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20110311231207/http://www.marketing-jive.com/2007/11/jody-nimetz-on-emerging-trends-in-b2b.html |date=11 मार्च 2011 }} मार्केटिंग जाइव, 18 नवम्बर 2007. 26 अक्टूबर 2009 को अभिगम.</ref> उद्योगों तथा सामाजिक मीडिया के पांच उपयोग हैं: ब्रांड जागरूकता उत्पन्न करना, ऑनलाइन छवि प्रबंधन साधन के रूप में, भर्तियां करने के लिए, नयी तकनीकों तथा प्रतिस्पर्धियों की बारे में जानने के लिए, तथा लीड पैदा करने वाले साधन के रूप में संभावित ग्राहकों का पता लगाने के लिए। <ref name="marketing-jive.com"/> ये कंपनियां अपनी ऑनलाइन साइटों के लिए ट्रैफिक उत्पन्न करते हुए अपने उपभोक्ताओं और ग्राहकों को अपने उत्पादों या सेवाओं में परिवर्तन अथवा सुधार के विषय में विचार-विमर्श करने के लिए प्रोत्साहित कर सकती हैं।
 
जिस अन्य उपयोग के विषय में चर्चा की जा रही है वह विज्ञान समुदायों में सामाजिक नेटवर्किंग का प्रयोग है। जूलिया पोर्टर लाइबेस्काइन्ड तथा अन्य ने एक अध्ययन प्रकाशित किया है कि कैसे नई जैव-प्रौद्योगिकी फर्म वैज्ञानिक ज्ञान के आदान-प्रदान के लिए सामाजिक नेटवर्किंग साइटों का उपयोग कर रही हैं।<ref>लिबेसकाइंड, जूलिया पॉर्टर, एट अल. [http://www.jstor.org/pss/2635102 "सोशल नेटवर्किंग, लर्निंग, एंड फ्लेक्स्बिलिटी: सोर्सिंग साइंटिफिक नॉलेज इन न्यू बायोटेक्नोलॉजी फर्म्स".] ''विज्ञान का संगठन'', खंड 7, संख्या 4 (जुलाई-अगस्त 1996), पीपी 428-443.</ref> अपने अध्ययन में वे कहते हैं कि एक दूसरे के साथ जानकारी और ज्ञान साझा करके, "उनके सीखने और लचीलेपन में वृद्धि हुई है जो कि अपनेआप में सीमित सौपानिक संगठन के भीतर संभव नहीं हो सकती थी". सामाजिक नेटवर्किंग ने वैज्ञानिक समूहों को अपने ज्ञान के आधार का विस्तार करते हुए विचारों को बांटना संभव किया है और इन साधनों के आभाव में उनके सिद्धांत "पृथक और अप्रासंगिक" हो सकते थे।
| date = April 28, 2010
| url = http://www.mediabullseye.com/mb/2010/04/march-2-0-success-of-the-national-equality-march-relied-on-social-media-tools.html#idc-container
| accessdate = 2010-04-29}}</ref>
| archive-url = https://web.archive.org/web/20110714064222/http://www.mediabullseye.com/mb/2010/04/march-2-0-success-of-the-national-equality-march-relied-on-social-media-tools.html#idc-container
| archive-date = 14 जुलाई 2011
| url-status = dead
}}</ref>
 
पुस्तकालयों के द्वारा ऑनलाइन सामाजिक नेटवर्किंग का प्रयोग प्रचलित है तथा बढ़ रहा है जिसका प्रयोग पुस्तकालय के संभावित प्रयोगकर्ताओं के साथ संपर्क के साथ ही पुस्तकालय की सेवाओं के विस्तार के लिए भी किया जा रहा है।
 
सामाजिक नेटवर्किंगों का एक बड़ा प्रयोग कॉलेज के छात्रों द्वारा व्यवसाय संबंधी व्यक्तियों से संपर्क करके इन संपर्कों का प्रयोग प्रशिक्षण तथा नौकरी के मौकों को तलाशने के लिए किया जा रहा है। किसी कॉलेज में ऑनलाइन नेटवर्किंग के प्रभाव पर कई अध्ययनों में से एक उल्लेखनीय अध्ययन फिप्पस अरेबी व योरम विंड द्वारा ''एड्वान्सेस इन सोशल नेटवर्किंग एनालिसिस'' के रूप में प्रकाशित है।<ref>अरेबी, फिप्स और योरम विंड. [http://books.google.com/books?hl=en&lr=&id=C6juDKDmvCcC&oi=fnd&pg=PR9&dq=social+networking&ots=Aw9oXw-AtG&sig=CPAZMmPPnAhSZzAu0lh-k4iUXt4#PRA1-PA254,M1 "विपणन और सामाजिक नेटवर्किंग".] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20190702172809/https://books.google.com/books?hl=en&lr=&id=C6juDKDmvCcC&oi=fnd&pg=PR9&dq=social+networking&ots=Aw9oXw-AtG&sig=CPAZMmPPnAhSZzAu0lh-k4iUXt4#PRA1-PA254,M1 |date=2 जुलाई 2019 }} स्टेनली वासरमैन और जोसेफ गैलेसकीविज़, ''सामाजिक नेटवर्किंग विश्लेषण में अग्रिम: सामाजिक और व्यवहार के विज्ञान में रिसर्च'' . थाउजैंड ऑक्स, कैलिफ: सेज प्रकाशन, 1994, पीपी 254-273. ISBN 0-8039-4302-4</ref>
 
=== सामाजिक नेटवर्किंग होस्टिंग सेवा ===
 
=== व्यापार मॉडल ===
कुछ सामाजिक नेटवर्किंग वर्तमान में सदस्यता के लिए धन लेते हैं। आंशिक रूप से ऐसा इसलिए हो सकता है क्योंकि सामाजिक नेटवर्किंग अपेक्षाकृत नई सेवा है और इनके प्रयोग का महत्त्व अभी ग्राहकों में मजबूती से स्थापित नहीं हो पाया है।{{citation needed|date=December 2008}} [[फेसबुक]] और माइस्पेस जैसे कंपनियां [[ऑनलाइन विज्ञापन]] से धन अर्जित करती हैं। इनका व्यापार मॉडल बड़ी सदस्यता संख्या पर आधारित है और सदस्यता के लिए धन लेना हितों के विपरीत होगा। <ref>चेम्बर्स, क्लेम. [http://www.forbes.com/technology/ebusiness/2006/03/29/microsoft-myspace-newscorp-in_cc_0330soapbox_inl.html "मर्डोक विल अर्न अ पेडे फ्रॉम माईस्पेस".] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20070503061630/http://www.forbes.com/technology/ebusiness/2006/03/29/microsoft-myspace-newscorp-in_cc_0330soapbox_inl.html |date=3 मई 2007 }} ''फोर्ब्स'', 30 मार्च 2006. 26 अक्टूबर 2009 को अभिगम.</ref> कुछ का मानना है कि साइटों के प्रयोगकर्ताओं के विषय में गहरी जानकारी के द्वारा किसी अन्य साईट की तुलना में बेहतर लक्षित विज्ञापन किये जा सकते हैं।<ref>टीनान, डैन. [https://archive.is/20121216143232/www.wired.com/techbiz/startups/news/2007/07/facebook_platform "एज़ एप्लीकेशंस ब्लौज़म, फेसबुक इज ओपन फॉर बिजनिस"] ''वायर्ड'', 30 जुलाई 2007. 26 अक्टूबर 2009 को अभिगम.</ref>
 
सामाजिक नेटवर्किंग एक स्वायत्त व्यापार मॉडल के साथ कार्य करते हैं, जिसमें किसी सामाजिक नेटवर्किंग के सदस्य आपूर्तिकर्ता और सामग्री के उपभोक्ता के रूप में दोहरी भूमिकाओं में कार्य करते हैं। यह एक पारंपरिक व्यापार मॉडल के विपरीत है, जहां आपूर्तिकर्ता और उपभोक्ता अलग कारक होते हैं। स्वायत्त व्यापार मॉडल में राजस्व विज्ञापन के माध्यम से कमाया जाता है, परन्तु सदस्यता आधारित राजस्व तभी संभव है जब सदस्यता संख्या और सामग्री का स्तर पर्याप्त रूप से ऊंचा हो। <ref>फ्लोर, निक वी. (2000). ''वेब बिजनिस इंजीनियरिंग: यूजिंग ऑफ़लाइन एक्टिविटीज़ टू ड्राइव इंटरनेट स्ट्रेटिजिज़.'' रीडिंग, मास: एडिसन-विसली. ISBN 0-201-60468-X; फ्लोर, निक वी. [http://www.informit.com/articles/article.aspx?p=20882 "विक 1: द बिजनेस मॉडल अप्रोच टू वेब साइट डिजाइन"] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20120114180626/http://www.informit.com/articles/article.aspx?p=20882 |date=14 जनवरी 2012 }} इंफॉर्मआईटी (InformIT), 2 मार्च 2001. 26 अक्टूबर 2009 को अभिगम. सामाजिक नेटवर्किंग सेवाओं में प्रयोग किये जाने वाले स्वायत्त व्यापार का विवरण.</ref>
 
== मुद्दे ==
इसके अतिरिक्त अत्यधिक व्यक्तिगत जानकारी रखने से संबंधित गोपनीयता का कथित खतरा भी है, बड़े निगमों या सरकारी संस्थाओं के पास इस व्यक्तिगत जानकारी होने से प्रोफाइल का प्रयोग किसी व्यक्ति के व्यवहार के विषय में किया जा सकता है जिसकी सहायता से उस व्यक्ति के विरुद्ध अहितकर निर्णय लिए जा सकते हैं।
 
इसके अलावा, डेटा पर नियंत्रण का भी विषय है - प्रयोगकर्ता द्वारा बदल अथवा हटा दी गयी सूचना वास्तव में सहेजी रखी जा सकती है तथा अन्य पक्षों को दी जा सकती है। यह खतरा तब प्रकाश में आया जब विवादास्पद सामाजिक नेटवर्किंग साइट क्यूचप ने प्रयोगकर्ताओं के खातों से ई-मेल पतों को लेकर इनका प्रयोग स्पैमिंग के लिए किया।<ref>[http://www.e-consultancy.com/news-blog/364182/social-network-launches-worldwide-spam-campaign.html सामाजिक नेटवर्किंग ने दुनिया भर में स्पैम अभियान की शुरूआत की] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20070909161205/http://www.e-consultancy.com/news-blog/364182/social-network-launches-worldwide-spam-campaign.html |date=9 सितंबर 2007 }} ''E-consultancy.com'', 10 सितंबर 2007 को अभिगम.</ref>
 
मेडिकल और वैज्ञानिक अनुसंधान में, व्यक्तियों से पूछी गयी सूचनाओं को संस्थागत पुनरीक्षण परिषद् द्वारा बारीकी से देखा जाता है, उदाहरण के लिए किशोरों तथा उनके माता-पिता से अनुमति ले ली गयी हो। यह स्पष्ट नहीं है कि शोधकर्ता, जो सामाजिक नेटवर्किंग साइटों से डेटा एकत्र करते हैं, उन पर यह लागू है या नहीं। इन साइटों पर अक्सर अत्यधिक डेटा रहता है जो कि परंपरागत साधनों के माध्यम से प्राप्त किया जाना बहुत कठिन होता है। हालांकि डेटा सार्वजनिक ही होता है, किसी अनुसंधान-पत्र में इसे पुनर्प्रकाशित किया जाना गोपनीयता पर आक्रमण ही माना जाता है।<ref>{{cite journal |journal=Pediatrics |year=2008 |volume=121 |issue=1 |pages=157–61 |title= Research ethics in the MySpace era |author= Moreno MA, Fost NC, Christakis DA |doi=10.1542/peds.2007-3015 |pmid=18166570 |ref=harv}}</ref>
 
सामाजिक नेटवर्किंग साइटों पर गोपनीयता को कई कारकों द्वारा कम किया जा सकता है। उदाहरण के लिए प्रयोगकर्ता कई व्यक्तिगत जानकारियां रखते हैं, साइटों द्वारा प्रयोगकर्ता की गोपनीयता की रक्षा के लिए पर्याप्त कदम नहीं उठाये जाने पर तीसरे पक्ष अक्सर इस डेटा का उपयोग विभिन्न प्रयोजनों के लिए कर सकते हैं। "नेट पीढ़ी के लिए, सामाजिक नेटवर्किंग साइटें सामाजिक बातचीत का पसंदीदा माध्यम बन गयी हैं, दिखावे तथा भूमिका निभाने से लेकर अलग ध्वनि उत्पन्न करने तक. तथापि, चूंकि इस तरह के मंचों का प्रयोग अपेक्षाकृत आसानी से किया जा सकता है, पोस्ट की गयी सामग्री को प्रयोगकर्ता की व्यक्तिगत सूचनाओं में रूचि रखने वाले किसी व्यक्ति के द्वारा भी देखा जा सकता है".<ref>{{cite web |url=http://www.computer.org/portal/web/csdl/doi/10.1109/MSP.2007.75|title=What Anyone Can Know: The Privacy Risks of Social Networking Sites|author=David Rosenblum|year=2007|access-date=14 मार्च 2011|archive-url=https://web.archive.org/web/20110305154745/http://www.computer.org/portal/web/csdl/doi/10.1109/MSP.2007.75|archive-date=5 मार्च 2011|url-status=dead}}</ref><ref>{{cite web |url=http://www.danah.org/papers/MySpaceDOPA.html|title=Discussion: MySpace and Deleting Online Predators Act (DOPA)|author=Henry Jenkins and Danah Boyd|date=2006-05-24|accessdate=2006-05-26|archive-url=https://web.archive.org/web/20110102104626/http://www.danah.org/papers/MySpaceDOPA.html|archive-date=2 जनवरी 2011|url-status=live}}</ref><ref>{{cite web |url=http://firstmonday.org/htbin/cgiwrap/bin/ojs/index.php/fm/article/viewArticle/1394/1312|title=A privacy paradox: Social networking in the United States|author=Susan B. Barnes|date=2006-09-04|access-date=14 मार्च 2011|archive-url=https://web.archive.org/web/20110203193345/http://firstmonday.org/htbin/cgiwrap/bin/ojs/index.php/fm/article/viewArticle/1394/1312|archive-date=3 फ़रवरी 2011|url-status=dead}}</ref>
 
ब्रिटेन सरकार की सामाजिक नेटवर्किंगों के यातायात पर नजर रखने की योजना<ref>{{cite news |url=http://news.bbc.co.uk/1/hi/uk_politics/7962631.stm|title=Social Network Sites 'Monitored'|author=BBC|accessdate=2009-03-25 | date=2009-03-25 | work=बीबीसी न्यूज़|archive-url=https://web.archive.org/web/20090331014706/http://news.bbc.co.uk/1/hi/uk_politics/7962631.stm|archive-date=31 मार्च 2009|url-status=live}}</ref> जो कि ई-मेल ठप कर सकने जैसी क्षमता वाली है, फेसबुक तथा ट्विटर पर ऐसी ही नज़र रखे जाने का प्रस्ताव है। इन में "फ्रेंडिंग" तथा "फालोइंग" के ज़रिये निरुद्देश्य लोगों के लिए नेटवर्किंग के विश्लेषण के प्रयास को विफल करना शामिल होगा।
 
=== वेबसाइटों पर सूचनाएँ ===
 
=== सूचनाओं तक पहुंच ===
कई सामाजिक नेटवर्किंग सेवायें, जैसे फेसबुक, प्रयोगकर्ता को यह चुनने का विकल्प प्रदान करती हैं कि कौन लोग उसकी प्रोफ़ाइल देख सकते हैं। यह अनधिकृत प्रयोगकर्ता (ओं) तक उसकी जानकारी पहुंचने से रोकता है।<ref>{{Cite web |url=http://www.facebook.com/policy.php?ref=pf |title=संग्रहीत प्रति |access-date=14 मार्च 2011 |archive-url=https://web.archive.org/web/20100320133535/http://www.facebook.com/policy.php?ref=pf |archive-date=20 मार्च 2010 |url-status=live }}</ref> किशोरों की एक बड़ी समस्या उनके माता-पिता द्वारा अपने बच्चे के माइस्पेस या फेसबुक खाते को देखा जाना है, जो कि ऐसा नहीं चाहते हैं। अपनी प्रोफ़ाइल को निजी बनाने से, किशोर यह चयन कर सकते हैं कि केवल 'दोस्त' बनाये गए प्रयोगकर्ता ही उनकी प्रोफ़ाइल देख पायें और इस तरह वे माता-पिता को प्रोफ़ाइल देखे जाने से रोक सकते हैं। किशोर निरंतर अपने माता-पिता और अपने निजी जीवन के बीच एक संरचनात्मक अवरोध लगाने की कोशिश कर रहे हैं।<ref>ब्वॉय्ड, डानाह. "व्हाई यूथ (हार्ट) सोशल नेटवर्किंग साइट्स: द रोल ऑफ़ नेटवर्किंग्ड पब्लिक्स इन टिनेज सोशल लाइफ"</ref>
 
किसी सामाजिक नेटवर्किंग सेवा खाते में सूचना संपादित कने के लिए लॉगिन या पासवर्ड की आवश्यकता होती है। इस प्रकार अनधिकृत प्रयोगकर्ता (ओं) को व्यक्तिगत जानकारी, चित्रों और/या अन्य डेटा डालने, बदलने या हटाने से रोका जा सकता है।
जुलाई 2008 में, एक ब्रिटिश नागरिक ग्रांट रैफेल को गोपनीयता का उल्लंघन करने के अपराध में £22,000 (लगभग $44,000) का जुर्माना अदा करने का दंड मिला। रैफेल ने [[फेसबुक]] पर अपने स्कूल के पुराने मित्र मैथ्यू फर्ष्ट के नाम से, जिससे वह वर्ष 2000 में अलग हो चुका था, एक नकली पेज बनाया था। पेज पर झूठा दावा किया गया था कि फर्ष्ट समलैंगिक और बेईमान था।
 
इसी समय, सामाजिक नेटवर्किंग सेवाओं के वास्तविक उपयोग 'सेवाओं के दुरुपयोग' के आधार पर संदेह की नजर से देखे जाने लगे। सितम्बर 2008 में, ऑस्ट्रेलियाई फेसबुक प्रयोगकर्ता एल्मो कीप की प्रोफ़ाइल को साइट के प्रशासकों के द्वारा साइट की शर्तों का उल्लंघन के आधार पर प्रतिबंधित कर दिया गया। कीप उन कई प्रयोगकर्ताओं में से एक था जिनपर फेसबुक पर प्रतिबंध इस अनुमान के कारण लगाया गया कि उनके नाम वास्तविक नहीं थे, इसका कारण उनके नामों का सीसेम स्ट्रीट के एलमो चरित्र से मिलता-जुलता होना था।<ref>[{{Cite web |url=http://www.smh.com.au/news/biztech/banned-for-keeps-on-facebook-for-odd-name/2008/09/25/1222217399252.html |title=बैंड फोर किप्स ऑन फेसबुक फोर ऑड नेम, सिडनी मॉर्निंग हेराल्ड, 24 सितंबर 2008] |access-date=14 मार्च 2011 |archive-url=https://web.archive.org/web/20110623070939/http://www.smh.com.au/news/biztech/banned-for-keeps-on-facebook-for-odd-name/2008/09/25/1222217399252.html |archive-date=23 जून 2011 |url-status=live }}</ref>
 
=== बच्चों की सुरक्षा का जोखिम ===
 
=== ऑनलाइन धमकियां ===
ऑनलाइन धमकी (उर्फ "साइबर धमकी") एक अपेक्षाकृत आम घटना है और अक्सर यह शिकार के प्रति भावनात्मक आघात के रूप में परणित होती है। नेटवर्किंग साईट के आधार पर, लगभग 39% प्रयोगकर्ता साइबर धमकी प्राप्त होने को स्वीकारते हैं।<ref>''कम्प्यूटर साइंस प्रकाशित''</ref> डाना बोयेड, जो कि सामाजिक नेटवर्किंगों की शोधकर्ता हैं, अपने लेख व्हाई यूथ (हार्ट) सोशल नेटवर्किंग्स साईट में एक किशोर का उद्धरण देती हैं। किशोर माइस्पेस जैसी नेटवर्किंग साइटों के प्रति निराशा व्यक्त करता है क्योंकि ये उसके भावनात्मक तनाव का कारण बनती हैं और वह उनमें बहुत नाटकीयता पाता है।<ref>ब्वॉय्ड, डानाह. "व्हाई यूथ (हार्ट) सोशल नेटवर्किंग साइट्स: द रोल ऑफ़ नेटवर्किंग्ड पब्लिक्स इन टिनेज सोशल लाइफ" डोकुटेक एरेस. वेब. <http://eres.ucsc.edu/eres/coursepage.aspx?cid=3840&amp;page=docs#{{Dead link|date=जून 2020 |bot=InternetArchiveBot }}>.</ref> कोई व्यक्ति जब ऑनलाइन होता है तब वह क्या पोस्ट कर सकता है, इसकी अधिक सीमायें नहीं हैं। स्वाभाविक रूप से कुछ व्यक्तियों को आक्रामक टिप्पणी या चित्र पोस्ट करने की शक्ति प्राप्त हो गयी है, जो कि संभवतः अन्य व्यक्ति के लिए बड़े भावनात्मक कष्ट का कारण बन सकता है।
 
=== पारस्परिक संचार ===
अधिक से अधिक लोगों को संचार के साधन के रूप में सामाजिक नेटवर्किंग का प्रयोग किये जाने से पारस्परिक संचार बढ़ता जा रहा है।"बेनिगर (1987) का वर्णन है कि मास-मीडिया ने कैसे धीरे-धीरे पारस्परिक संचार को एक सामाजिक शक्ति के रूप में बदल दिया है। {0}इसके अलावा, सामाजिक नेटवर्किंग साइटें युवा संस्कृति द्वारा स्वयं का पता लगाने के लिए, रिश्तों और साझा सांस्कृतिक विरासतों के लिए लोकप्रिय साइटें बन चुकी हैं।"{/0} [https://web.archive.org/web/20110203193345/http://firstmonday.org/htbin/cgiwrap/bin/ojs/index.php/fm/article/viewArticle/1394/1312#note4 गोपनीयता का विरोधाभास]
कई किशोर और सामाजिक नेटवर्किंग प्रयोगकर्ता फेसबुक और माइस्पेस जैसी साइटों का प्रयोग करके पारस्परिक संचार को हानि पहुंचा रहे हैं। बैरोनेस ग्रीनफील्ड, जो ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के तंत्रिकावैज्ञानिक हैं, कहते हैं "मुझे डर है कि इन प्रौद्योगिकियों के कारण छोटे बच्चे, जो ध्वनियों तथा तीव्र प्रकाश से आकर्षित होते हैं, तथा जिनका प्रभाव समय क्षणिक होता है, के कारण मूर्ख न बन जायें."<ref>{{cite news | url=http://www.dailymail.co.uk/news/article-1153583/Social-websites-harm-childrens-brains-Chilling-warning-parents-neuroscientist.html | location=London | work=Daily Mail | first=David | last=Derbyshire | title=Social websites harm children's brains: Chilling warning to parents from top neuroscientist | date=24 फ़रवरी 2009 | access-date=14 मार्च 2011 | archive-url=https://web.archive.org/web/20110412082831/http://www.dailymail.co.uk/news/article-1153583/Social-websites-harm-childrens-brains-Chilling-warning-parents-neuroscientist.html | archive-date=12 अप्रैल 2011 | url-status=live }}</ref>
 
=== पेटेंट (एकस्वाधिकार) ===
[[चित्र:Soc-net-paten-growth-chart.png|thumb|right|अमेरिकी सामाजिक नेटवर्किंग पेटेंट के आवेदनों की प्रति वर्ष प्रकाशित संख्या और प्रति वर्ष जारी किये गये पेटेंट]]सामाजिक नेटवर्किंग से संबंधित नयी प्रौद्योगिकियों को कवर करने के लिए अमेरिका में पेटेंट आवेदनों में तेजी से वृद्धि हुई है। प्रकाशित आवेदनों की संख्या 2003 के बाद से तेजी से बढ़ रही है। प्रकाशित आवेदनों की संख्या अब 3500 से भी अधिक है। 7000 से अधिक आवेदन अभी तक प्रकाशित नहीं किये जा सके हैं तथा इस समय लंबित हैं।<ref>[http://ipwatchdog.com/2011/01/23/don%E2%80%99t-steal-my-avatar-challenges-of-social-networking-patents/id=14531/ मार्क नोवोटार्सकी, "मेरा अवतार चोरी मत करो!] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20110310024653/http://ipwatchdog.com/2011/01/23/don%e2%80%99t-steal-my-avatar-challenges-of-social-networking-patents/id=14531/ |date=10 मार्च 2011 }}[http://ipwatchdog.com/2011/01/23/don%E2%80%99t-steal-my-avatar-challenges-of-social-networking-patents/id=14531/ सामाजिक नेटवर्किंग पेटेंट की चुनौतियां, आईपी (IP) वॉचडॉग, 23 जनवरी 2011.] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20110310024653/http://ipwatchdog.com/2011/01/23/don%e2%80%99t-steal-my-avatar-challenges-of-social-networking-patents/id=14531/ |date=10 मार्च 2011 }}</ref> इनमें से लगभग 400<ref>[{{Cite web |url=http://patft.uspto.gov/netacgi/nph-Parser?Sect1=PTO2&amp;Sect2=HITOFF&amp;u=%2Fnetahtml%2FPTO%2Fsearch-adv.htm&amp;r=0&amp;p=1&amp;f=S&amp;l=50&amp;Query=spec%2F%22social+network%22&amp;d=PTXT |title=जारी पेटेंट पर यूएसपीटीओ (USPTO) खोज का उल्लेख "सामाजिक नेटवर्किंग".] |access-date=15 जून 2020 |archive-url=https://web.archive.org/web/20180331090147/http://patft.uspto.gov/netacgi/nph-Parser?Sect1=PTO2 |archive-date=31 मार्च 2018 |url-status=live }}</ref> को पेटेंट जारी किए गए हैं, हालांकि बड़े पैमाने पर व्यापार प्रणाली पेटेंट आवेदनों के बकाया होने के कारण तथा इन्हें जारी करने में होने वाली समस्याओं के कारण ये लंबित हैं।<ref>[{{Cite web |url=http://ipwatchdog.com/2010/08/16/reducing-patent-backlog-prosecution-costs-using-pair-data/id=12108/ |title=नोवोटार्सकी, मार्क "रेड्युसिंग पेटेंट बैकलॉग एंड प्रौसिक्युशन कॉस्ट्स यूजिंग पेयर (PAIR) डेटा" आईपी (IP) वॉचडॉग, 16 अगस्त 2010.] |access-date=14 मार्च 2011 |archive-url=https://web.archive.org/web/20110317111138/http://ipwatchdog.com/2010/08/16/reducing-patent-backlog-prosecution-costs-using-pair-data/id=12108/ |archive-date=17 मार्च 2011 |url-status=live }}</ref>
 
बताया जाता है कि नई स्थापित कंपनियों के लिए सामाजिक नेटवर्किंग पेटेंट महत्वपूर्ण हैं।<ref>[{{Cite web |url=http://ipestonia.ning.com/video/patents-on-social-media |title=मार्क नोवोटार्सकी के साथ न्यूज़ 12 "ऑन द मनी" साक्षात्कार, 30 जुलाई 2009.] |access-date=14 मार्च 2011 |archive-url=https://web.archive.org/web/20101124212136/http://ipestonia.ning.com/video/patents-on-social-media |archive-date=24 नवंबर 2010 |url-status=dead }}</ref> हालांकि, यह भी कहा गया है कि सामाजिक नेटवर्किंग पेटेंट से नवीनता रूकती है।<ref>[{{Cite web |url=http://yro.slashdot.org/story/10/06/16/2233230/USPTO-Lets-Amazon-Patent-the-Social-Networking-System?from=twitter |title=थिओड्प Slashdot.org 16/6/2010] |access-date=14 मार्च 2011 |archive-url=https://web.archive.org/web/20110728044736/http://yro.slashdot.org/story/10/06/16/2233230/USPTO-Lets-Amazon-Patent-the-Social-Networking-System?from=twitter |archive-date=28 जुलाई 2011 |url-status=live }}</ref> 15 जून 2010 को, संयुक्त राज्य अमेरिका पेटेंट और ट्रेडमार्क कार्यालय ने [[एमाज़ॉन.कॉम|Amazon.com]] को "सामाजिक नेटवर्किंग प्रणाली" के लिए प्लैनेटआल (PlanetAll) में उसके स्वामित्व के लिए पेटेंट जारी किया।<ref>{{cite news | url=http://blogs.forbes.com/docket/2010/06/17/amazon-secures-patent-for-social-networking-system/ | work=Forbes | title=संग्रहीत प्रति | access-date=14 मार्च 2011 | archive-url=https://web.archive.org/web/20100620205628/http://blogs.forbes.com/docket/2010/06/17/amazon-secures-patent-for-Social-networking-system/ | archive-date=20 जून 2010 | url-status=dead }}</ref> यह पेटेंट सामाजिक नेटवर्किंग प्रणाली का वर्णन इस रूप में करता है:
<blockquote>एक नेटवर्किंग किया हुआ कंप्यूटर सिस्टम प्रयोगकर्ताओं को अन्य प्रयोगकर्ताओं को खोज कर उनसे संपर्क संबंधों की स्थापना के लिए विभिन्न सेवाएं प्रदान करता है। उदाहरण के लिए, एक अवतार में, प्रयोगकर्ता किन्ही विशेष स्कूलों या अन्य संगठनों के साथ जुड़ाव के आधार पर अन्य प्रयोगकर्ताओं की पहचान कर सकते हैं। यह प्रणाली प्रयोगकर्ता के लिए ऐसी क्रियावली भी प्रदान करता है जिससे वे अन्य प्रयोगकर्ताओं को चुनकर उनसे संपर्क अथवा संचार स्थापित कर सकें, तथा उनको अपनी व्यक्तिगत सूचनायें प्रदर्शित कर सकें. इस प्रणाली में प्रयोगकर्ताओं को उनके संबंधित संपर्क के संपर्कों की पहचान के लिए सुविधाओं के द्वारा सक्षम बनाया गया है। इसके अलावा, इस प्रणाली के ज़रिये उनसे संबंधित प्रयोगकर्ताओं की व्यक्तिगत सूचनायें बदलने पर उन्हें स्वतः ही सूचित किया जाता है।<ref>[http://patft.uspto.gov/netacgi/nph-Parser?Sect1=PTO1&amp;Sect2=HITOFF&amp;d=PALL&amp;p=1&amp;u=/netahtml/PTO/srchnum.htm&amp;r=1&amp;f=G&amp;l=50&amp;s1=7,739,139.PN.&amp;OS=PN/7,739,139&amp;RS=PN/7,739,139 अमेरिकी पेटेंट और ट्रेडमार्क कार्यालय] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20190901211009/http://patft.uspto.gov/netacgi/nph-Parser?Sect1=PTO1&Sect2=HITOFF&d=PALL&p=1&u=%2Fnetahtml%2FPTO%2Fsrchnum.htm&r=1&f=G&l=50&s1=7%2C739%2C139.PN.&OS=PN%2F7%2C739%2C139&RS=PN%2F7%2C739%2C139 |date=1 सितंबर 2019 }} पेटेंट की संख्या 7739139</ref></blockquote>
इस पेटेंट ने लोकप्रिय सामाजिक नेटवर्किंग साइट से इसकी समानता के कारण ध्यान आकृष्ट किया था।<ref>[{{Cite web |url=http://www.networkworld.com/news/2010/061710-amazon-social-network-patent.html |title=नेटवर्किंग वर्ल्ड] |access-date=14 मार्च 2011 |archive-url=https://web.archive.org/web/20110811193616/http://www.networkworld.com/news/2010/061710-amazon-social-network-patent.html |archive-date=11 अगस्त 2011 |url-status=dead }}</ref>
 
== जांच-पड़ताल ==
सामाजिक संपर्क सुविधाओं का प्रयोग कानूनी और आपराधिक तहकीकात के क्षेत्र में भी बढ़ता जा रहा है। माइस्पेस और फेसबुक जैसी साइटों पर प्रकाशित सूचनायें पुलिस (विधि-चिकित्साशास्त्र सम्बंधी वर्गीकरण), पूछ-ताछ तथा विश्व-विद्यालय द्वारा प्रयोग की जाती हैं तथा इनके द्वारा इन साइटों के प्रयोगकर्ताओं पर अभियोग चलाया जा सकता है। कुछ स्थितियों में, माइस्पेस पर पोस्ट की गयी सामग्री अदालत में भी प्रयोग की गयी है।<ref>[http://www.news.com.au/heraldsun/story/0,21985, 00.html "माइस्पेस एक्स्पोज़ेज़ सेक्स प्रीडेटर्स"], यूज़ ऑफ़ इट्स कोर्टरूम: हेराल्ड एंड विकली टाइम्स (ऑस्ट्रेलिया) वेबसाइट. 19 जनवरी 2008 में पुन: प्राप्त.</ref>
 
छात्र प्रयोगकर्ताओं के विरुद्ध सबूत के एक स्रोत के रूप में फेसबुक का प्रयोग स्कूल प्रशासन और कानून प्रवर्तन एजेंसियों द्वारा किया जा रहा है। यह साइट, कॉलेज के छात्रों के लिए नंबर एक का ऑनलाइन गंतव्य है, प्रयोगकर्ताओं को व्यक्तिगत विवरण के साथ प्रोफ़ाइल पेज बनाने की अनुमति देती है। इन पृष्ठों को एक ही स्कूल के अन्य पंजीकृत प्रयोगकर्ताओं द्वारा देखा जा सकता है, जिनमें अक्सर निवास-सहायक तथा कैम्पस पुलिस भी शामिल होते हैं।<ref>[http://www.jsonline.com/story/index.aspx?id=670380 "गेटिंग बुक्ड बाई फेसबुक"] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20080531120122/http://www.jsonline.com/story/index.aspx?id=670380 |date=31 मई 2008 }}, कर्टसी ऑफ़ कैम्पस पोलिस: मिलवॉकी जर्नल सेंटीनेल वेबसाइट. 19 जनवरी 2008 में पुन: प्राप्त.</ref> ब्रिटेन के एक पुलिस बल ने फेसबुक से चित्र जांच कर कुछ लोगों को हिरासत में लिया था जो किसी सार्वजनिक स्थान पर चाकू जैसे हथियार को लेकर खड़े थे (सार्वजनिक स्थान पर हथियार रखना गैर-क़ानूनी है)। <ref>[http://www.journal-online.co.uk/article/5410-police-use-facebook-to-identify-weapon-carriers "हथियार वाहक को पहचानने के लिए पुलिस फेसबुक का उपयोग करती है"] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20091016112931/http://www.journal-online.co.uk/article/5410-police-use-facebook-to-identify-weapon-carriers |date=16 अक्तूबर 2009 }} द जर्नल (एडिनबर्ग) वेबसाइट. 11 मई 2009 को पुनःप्राप्त.</ref>
 
== उपयोग के क्षेत्र ==
=== सरकारी अनुप्रयोग ===
हाल में अनेकों सरकारी एजेंसियों द्वार भी सामाजिक संपर्क का प्रयोग शुरू हो गया है। सामाजिक संपर्क के विभिन्न उपकरण सरकार के लिए जनता के विचार जानने और उन्हें अपनी गतिविधियों के सम्बन्ध में बराबर सूचित करते रहने का एक त्वरित और सरल माध्यम है। द सेंटर्स फॉर डिसीज़ कंट्रोल ने बच्चों की प्रसिद्ध साईट वाईविले पर टीकाकरणों के महत्व के सम्बन्ध में सूचना प्रदर्शित की और द नैशनल ओशनिक एंड एटमॉस्फियारिक एडमिनीस्ट्रेशन ने सेकेण्ड लाइफ पर एक काल्पनिक द्वीप बनाया है जहां लोग भूमिगत गुफाओं का पता लगा सकते हैं या ग्लोबल वार्मिंग के प्रभावों के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।<ref>[http://www.itbusinessedge.com/topics/reader.aspx?oss=37848 गवर्नमेंट एजेंसीज एस्टैबलिशिंग प्रिसेंस ऑन सोशल-नेटवर्किंग साइट्स]{{Dead link|date=जून 2020 |bot=InternetArchiveBot }}</ref>
इसी प्रकार, एनएएसए (NASA) ने भी सामाजिक संपर्क के कुछ उपकरणों का लाभ उठाया है जिसमे [[ट्विटर]] और [[फ़्लिकर|फ्लिकर]] शामिल हैं। वे संयुक्त राज्य अमेरिका की ह्यूमन स्पेस फ्लाइट कमेटी की समीक्षा के लिए भी इन उपकरणों का प्रयोग कर रहे हैं, इस कमेटी का उद्देश्य यह ''सुनिश्चित करना है कि राष्ट्र''
अंतरिक्ष में अपनी सर्वाधिक साहसिक आकांक्षा को प्राप्त करने के सशक्त और निरंतर पथ पर आगे बढ़ रहा है'''' .<ref>[{{Cite web |url=http://www.nasa.gov/pdf/358006main_OSTP%20Press%20Release.pdf |title=ओएसटीपी (OSTP) प्रेस रिलीज़ अनाउन्सिंग रिव्यू (पीडीएफ (pdf), 50k)] |access-date=14 मार्च 2011 |archive-url=https://web.archive.org/web/20101224172157/http://www.nasa.gov/pdf/358006main_OSTP%20Press%20Release.pdf |archive-date=24 दिसंबर 2010 |url-status=live }}</ref>
 
=== व्यवसाय में अनुप्रयोग ===
सामाजिक संपर्क लोगों को निम्न लागत में संपर्क करने के अवसर देता है; यह [[उद्यमी|व्यापारियों]] और उन छोटे धंधों के लिए फायदेमंद हो सकता है जो अपना संपर्क आधार विस्तृत करने के अवसर तलाश रहे हैं। इस प्रकार के संपर्क तंत्र उत्पाद एवम सुविधाएं बिक्री करने वाली कंपनियों के लिए प्रायः ग्राहक सम्बन्ध प्रबंधन उपकरण के रूप में कार्य करते हैं। कम्पनियां सामाजिक संपर्क का प्रयोग बैनर और लिखित प्रचारों के द्वार अपने प्रचार के लिए भी कर सकती हैं। चूंकि व्यापार का संचालन वैश्विक स्तर पर होता है, इसलिए सामाजिक संपर्क की सुविधा विश्व के सभी स्थानों से संपर्क बनाये रखने की सरलता प्रदान करती है।
 
व्यावसाय के सम्बन्ध में सामाजिक संपर्क के प्रयोग का एक उदहारण [[लिंक्डइन]]. कॉम (LinkedIn.com) है, जो व्यावासयिक लोगों को आपस में संपर्क स्थापित करवाने का उद्देश्य रखता है। लिंक्डइन का प्रयोग 200 से अधिक देशों में 40 मिलियन से भी अधिक लोगों द्वारा किया जा रहा है।<ref>[{{Cite web |url=http://press.linkedin.com/about |title=नवीनतम लिंक्डइन (LinkedIn) के तथ्य] |access-date=14 मार्च 2011 |archive-url=https://web.archive.org/web/20090209010700/http://press.linkedin.com/about |archive-date=9 फ़रवरी 2009 |url-status=live }}</ref>
 
हब कल्चर, जोकि मात्र व्यावसायिकों तथा अन्य ऐसे प्रभावशाली व्यापारों को सामाजिक संपर्क का निमंत्रण देती है, जिनके कार्यालय लन्दन, यूके, जैसे बड़े शहरों में हों, जैसी सामाजिक संपर्क सुविधा के सदस्यों के लिए उपलब्ध फिजिकल स्पेस का अन्य प्रयोग यह होता है कि वे काल्पनिक और वास्तविक दोनों जगत में अपने संपर्क स्थापित कर सकते हैं, जिससे उनके व्यापार में अतिरिक्त लाभ होता है।
=== डेटिंग में अनुप्रयोग ===
{{See also|ऑनलाइन दिनांकन सेवा}}
अनेक सामाजिक संपर्क नेटवर्किंग लोगों को सम्बन्ध बनाने हेतु मिलने के लिए आपस में बातचीत और निजी जानकारी के आदान-प्रदान के लिए ऑनलाइन सुविधा उपलब्ध कराते हैं। इसके पीछे लोगों के इरादे अलग-अलग हो सकते हैं, जैसे, किसी के साथ सिर्फ एक बार मिलना, कुछ समय के लिए सम्बन्ध बनाना और लम्बे समय के लिए सम्बन्ध बनाना आदि। <ref>[http://www.foxnews.com/story/0,2933,396461,00.html ''माइस्पेस, फेसबुक एड ऑपर्च्युनिटी फॉर लव, ट्रबल टू ऑनलाइन डेटिंग'' ] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20110206103614/http://www.foxnews.com/story/0,2933,396461,00.html |date=6 फ़रवरी 2011 }}, ''FOXNews.com'' वेबसाइट.</ref>
 
इनमे से अधिकांश सामाजिक संपर्क नेटवर्किंग में, ऑन लाइन डेटिंग सुविधाओं की तरह ही, उपयोगकर्ता द्वारा कुछ निश्चित जानकारियों का दिया जाना आवश्यक है। इसमें आमतौर पर उपयोगकर्ता की आयु, लिंग, स्थान, रुचियां और संभवतः उसका एक चित्र जैसी, सूचनाएं शामिल होती हैं। सुरक्षा की दृष्टि से अत्यंत निजी सूचनाओं के प्रकटीकरण को प्रोत्साहित नहीं किया जाता है।<ref>[http://www.npr.org/templates/story/story.php?storyId=5336688 ''माइस्पेस एड्स अ सिक्युरिटी मॉनिटर'' ] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20110211211228/http://www.npr.org/templates/story/story.php?storyId=5336688 |date=11 फ़रवरी 2011 }}, ''NPR.com'' वेबसाइट.</ref> इसके द्वारा अन्य उपयोगकर्ताओं को किसी को तलाश करने का या स्वयं किसी निश्चित मानदंड के अंतर्गत तलाश किये जाने का अवसर मिलता है लेकिन साथ ही साथ लोग कुछ हद तक अनामिकता भी रख सकते हैं जैसा कि अधिकांशतः ऑनलाइन डेटिंग सुविधाओं में होता है। ऑनलाइन डेटिंग की साइटें, सामाजिक संपर्क साइटों से यह समानता रखती हैं कि इन दोनों में ही उपयोगकर्ता अन्य लोगों से संपर्क करने और मिलने के लिए अपने से सम्बंधित जानकारी की एक रूपरेखा प्रदान करते हैं लेकिन डेटिंग की साइटों पर उनकी इस प्रकार की गतिविधियों का एक मात्र उद्देश्य डेटिंग हेतु अपनी रूचि के किसी व्यक्ति की तलाश करना होता है। सामाजिक समपर्क सुविधाएं आवश्यक रूप से डेटिंग के लिए नहीं हैं; अनेक उपयोगकर्ता इसका प्रयोग अपने मित्रों और सहकर्मियों से संपर्क बनाये रखने के लिए करते हैं।<ref>[http://www.internetnews.com/ec-news/article.php/3659911''ऑनलाइन डेटिंग: कैन सोशल नेटवर्किंग्स कट इन'' ?] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20110102151634/http://www.internetnews.com/ec-news/article.php/3659911 |date=2 जनवरी 2011 }}, ''internetnews.com'' वेबसाइट.</ref>
 
हालांकि, सामाजिक संपर्क नेटवर्किंग और ऑनलाइन डेटिंग सुविधाओं के बीच एक महत्वपूर्ण अंतर यह है कि ऑनलाइन डेटिंग साइटों में आम तौर पर एक शुल्क का भुगतान करना पड़ता है जबकि सामाजिक संपर्क साइटें शुल्करहित होती हैं।<ref>[http://localtechwire.com/business/local_tech_wire/opinion/story/2449164/''ऑनलाइन डेटिंग वर्सेस सोशल नेटवर्किंग – विच विल इमर्ज एज़ प्रीमियर मैचमेकर?'' ] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20100106120359/http://localtechwire.com/business/local_tech_wire/opinion/story/2449164/ |date=6 जनवरी 2010 }}, ''WRAL.com'' वेबसाइट.</ref>
यह अंतर ऑनलाइन डेटिंग उद्योग की आय में बड़ी गिरावट का एक महत्त्वपूर्ण कारण है क्योंकि इसके अधिकांश उपयोगकर्ता अब इसके बदले में सामाजिक संपर्क साइटों का प्रयोग कर रहे हैं। कई प्रसिद्ध ऑनलाइन डेटिंग सुविधाएं जैसे मैच.कॉम, याहू पर्सनल्स और इहार्मोनी.कॉम के उपयोगकर्ताओं की संख्या में कमी आई है, जबकि दूसरी ओर माइस्पेस और [[फेसबुक]] जैसी सामाजिक संपर्क साइटों में उपयोगकर्ताओं की संख्या में वृद्धि हुई है।<ref>[http://www.marketwatch.com/news/story/story.aspx?guid={4640E6FF-17B8-40D5-901C-098EE74B03DD}''सोशल नेटवर्किंग्स वर्सेस डेटिंग साइट्स कमेंट्री: फ्रैग्मेंटिंग में सेव ऑनलाइन डेटिंग साइट्स'' ] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20071203122438/http://www.marketwatch.com/news/story/story.aspx?guid=%7B4640E6FF-17B8-40D5-901C-098EE74B03DD%7D |date=3 दिसंबर 2007 }}, ''marketwatch.com'' वेबसाइट.</ref>
 
संयुक्त राज्य अमेरिका में ऑन लाइन डेटिंग साइटों का भ्रमण करने वाले इंटरनेट उपयोगकर्ताओं की संख्या 2003 में अधिकतम 21 प्रतिशत से गिरकर 2006 में 10 प्रतिशत पर आ गयी।<ref>[http://www.forbes.com/2007/12/20/online-dating-love-tech-personal-cx_wt_1221dating.html''सीकिंग लव अराउंड द वेब'' ] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20110319041221/http://www.forbes.com/2007/12/20/online-dating-love-tech-personal-cx_wt_1221dating.html |date=19 मार्च 2011 }}, ''Forbes.com'' वेबसाइट.</ref> भले ही यह सुविधाओं की लागत के कारण, उपयोगकर्ताओं की विविधता के कारण या अन्य किसी कारण से है, लेकिन इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता है कि सामाजिक संपर्क साइटें ऑन लाइन होकर अपने साथी के चुनाव करने के नए माध्यम के रूप में उभरी हैं।
 
=== शैक्षणिक अनुप्रयोग ===
 
=== चिकित्सकीय अनुप्रयोग ===
सामाजिक संपर्क नेटवर्किंग का प्रयोग अब स्वास्थ्य पेशेवरों द्वारा संस्थागत जानकारी व समकक्ष मित्रों से प्राप्त जानकारी के प्रबंधन के एक माध्यम के रूप में और व्यक्तिगत चिकित्सकों तथा संस्थाओं की विशिष्टता के प्रदर्शन में किया जा रहा है। एक मुख्य रूप से चिकित्सकीय संपर्क साइट के प्रयोग से होने वाला लाभ यह है कि इसके सभी सदस्य राज्य लाइसेंसिंग बोर्ड की चिकित्सकों की सूची द्वारा जांचे गए होते हैं।<ref>[http://www.primarypsychiatry.com/aspx/articledetail.aspx?articleid=975 ''सोशल नेटवर्किंग: नाउ प्रोफेशनली रेडी'' ] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20110715112823/http://www.primarypsychiatry.com/aspx/articledetail.aspx?articleid=975 |date=15 जुलाई 2011 }}, ''PrimaryPsychiatry.com'' वेबसाइट.</ref>
 
फार्मास्युटिकल कंपनियों के क्षेत्र में सामाजिक संपर्क साइटों की भूमिका अत्यंत रोचक है क्योंकि यह कम्पनियां "अपने विपणन डॉलरों का 32 प्रतिशत" सामाजिक संपर्क साइटों के वैचारिक अगुआओं को प्रभावित करने में खर्च कर देती हैं।<ref>[http://www.medadnews.com/News/index.cfm?articleid=424455 ''सोशल नेटवर्किंग्स इम्पैक्ट द ड्रग्स फिजिशियंस प्रेस्क्राइब अकॉर्डिंग टू स्टैफोर्ड बिजनिस स्कुल रिसर्च'' ] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20080617064607/http://www.medadnews.com/News/index.cfm?articleid=424455 |date=17 जून 2008 }}, ''Pharmalive.com'' वेबसाइट.</ref>
 
सामाजिक संपर्क साइटों में अपने उन सदस्यों की सहायता करने का भी एक नया चलन शुरू हुआ है जो अनेक शारीरिक और मानसिक बीमारियों से जूझ रहे। <ref>डिजिटल के खुराक के माध्यम से [http://www.doseofdigital.com/healthcare-pharma-social-media-wiki/ सामाजिक नेटवर्किंग का उपयोग कर चिकित्सा अनुप्रयोगों की व्यापक सूचीकरण] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20090529191957/http://www.doseofdigital.com/healthcare-pharma-social-media-wiki/ |date=29 मई 2009 }}</ref> ऐसे लोग जो जीवनघातक रोगों से ग्रस्त हैं, उनके लिए पेशेंट्सलाइकमी, अपने सदस्यों को इसी प्रकार की अन्य बीमारियों से जूझ रहे लोगों से सम्पर्क करने का अवसर देता है और उनकी स्थिति से सम्बंधित अन्य रोगियों के आंकड़े उपलब्ध करता है। शराबियों और नशे के रोगियों के लिए, सोबरसर्किल, स्वास्थ्य-लाभ कर रहे लोगों को एक-दूसरे से संपर्क करने में सहायता देता है और उनकी परिस्थिति को समझ पाने वाले लोगों द्वारा उन्हें प्रोत्साहन दिलवाकर उनके स्वास्थ्य-लाभ को और भी सशक्त करता है। डेलीस्ट्रेंथ भी एक वेबसाइट है जो विषयों और प्रवास्थाओ की एक व्यापक श्रंखला के लिए सहायता समूह प्रदान करती है, इसमें पेशेंट्सलाइकमी और सोबरसर्किल के सहायता समूह भी शामिल हैं। स्पार्कपीपल, वज़न घटाने के दौरान समकक्ष व्यक्तियों की सहायता के लिए सामाजिक संपर्क और कम्युनिटी उपकरण प्रदान करती है।
 
== ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर ==
कई परियोजनाओं का उद्देश्य सामाजिक नेटवर्किंग सेवाओं द्वारा प्रयोग किये जाने के लिए मुफ्त व ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर को विकसित करना है। इन परियोजनाओं में डायस्पोरा, एपलसीड परियोजना<ref>{{Cite web |url=http://opensource.appleseedproject.org/ |title=संग्रहीत प्रति |access-date=15 जून 2020 |archive-url=https://web.archive.org/web/20190930120832/http://opensource.appleseedproject.org/ |archive-date=30 सितंबर 2019 |url-status=live }}</ref> तथा वनसोशलवेब शामिल हैं।<ref>{{Cite web |url=http://onesocialweb.org/ |title=संग्रहीत प्रति |access-date=14 मार्च 2011 |archive-url=https://web.archive.org/web/20111117005747/http://onesocialweb.org/ |archive-date=17 नवंबर 2011 |url-status=dead }}</ref>
 
== इन्हें भी देखें ==
 
== सन्दर्भ ==
* {{cite journal | ref=harv
| ref=harv
| last=Boyd | first=Danah
| last=Boyd
| last=Boyd | first=Danah
| author-link=Danah Boyd
| last2=Ellison | first2=Nicole
| first2=Nicole
| year=2007
| title=Social Network Sites: Definition, History, and Scholarship
| journal=Journal of Computer-Mediated Communication
| volume=13
| url=http://jcmc.indiana.edu/vol13/issue1/boyd.ellison.html | issue=1
| issue=1
}}
| access-date=14 मार्च 2011
* {{cite journal | ref=harv
| archive-url=https://web.archive.org/web/20110317164708/http://jcmc.indiana.edu/vol13/issue1/boyd.ellison.html
| last=Boyd | first=Danah
| archive-date=17 मार्च 2011
| url-status=live
}}
* {{cite journal | ref=harv
| ref=harv
| last=Boyd
| last=Boyd | first=Danah
| author-link=Danah Boyd
| year=2006
| journal=First Monday
| volume=11
| url=http://www.firstmonday.org/issues/issue11_12/boyd/index.html | issue=12
| issue=12
}}
| access-date=14 मार्च 2011
* {{cite journal | ref=harv
| archive-url=https://web.archive.org/web/20110511140201/http://firstmonday.org/issues/issue11_12/boyd/index.html
| last=Ellison | first=Nicole B.
| archive-date=11 मई 2011
| last2=Steinfield | first2=Charles
| url-status=live
| last3= Lampe | first3=Cliff
}}
* {{cite journal | ref=harv
| ref=harv
| last=Ellison
| last=Ellison | first=Nicole B.
| last2=Steinfield | first2=Charles
| first2=Charles
| last3=Lampe
| last3= Lampe | first3=Cliff
| year=2007
| title=The benefits of Facebook "friends": Exploring the relationship between college students' use of online social networks and social capital
| journal=Journal of Computer-Mediated Communication
| volume=12
| url=http://jcmc.indiana.edu/vol12/issue4/ellison.html | issue=4
| issue=4
}}
| access-date=14 मार्च 2011
| archive-url=https://web.archive.org/web/20130729054813/http://jcmc.indiana.edu/vol12/issue4/ellison.html
| archive-date=29 जुलाई 2013
| url-status=live
}}
* {{cite book | ref=harv
| last=Fraser | first=Matthew
| url=http://books.google.com/?id=SP92NwAACAAJ
}}
* {{cite journal | doi=10.1080/03634520601009710 | ref=harv
| doi=10.1080/03634520601009710
| last=Mazer | first=J. P.
| ref=harv
| last2=Murphy | first2=R. E.
| last=Mazer
| last3=Simonds | first3=C. J.
| last=Mazer | first=J. P.
| last2=Murphy | first2=R. E.
| first2=R. E.
| last3=Simonds | first3=C. J.
| first3=C. J.
| year=2007
| title=I'll See You On "Facebook": The Effects of Computer-Mediated Teacher Self-Disclosure on Student Motivation, Affective Learning, and Classroom Climate
| volume=56
| pages=1–17
| url=http://www.informaworld.com/smpp/ftinterface~content=a769651179~fulltext=713240930 | issue=1
| issue=1
}}
| access-date=14 मार्च 2011
| archive-url=https://web.archive.org/web/20090404112015/http://www.informaworld.com/smpp/ftinterface%7Econtent=a769651179%7Efulltext=713240930
| archive-date=4 अप्रैल 2009
| url-status=live
}}
 
=== नोट्स ===
* बर्हम, निक, ''डिस्कनेक्टेड: व्हाई आवर किड्स आर टर्निंग देयर बैक्स ऑन एवरीथिंग वी थॉट वी नियू'', प्रथम सं., एब्युरी प्रेस, 2004. ISBN 0-09-189586-3
* बैरन, नाओमी एस., [http://books.google.com/books?id=X8-gaJM6NUIC&amp;printsec=frontcover ''ऑलवेज़ ऑन : लैंवेज इन एन ऑनलाइन एंड मोबाइल'' ] वर्ल्ड, ऑक्सफोर्ड, न्यूयॉर्क : ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस, 2008. ISBN 978-0-19-531305-5
* कॉक्रेल, कैथी, [https://web.archive.org/web/20110128085104/http://www.berkeley.edu/news/media/releases/2008/04/28_digitalyouth.shtml "प्लंबिंग द मिस्टिरीयस प्रैक्टिस ऑफ़ 'डिजिटल यूथ': इन द फर्स्ट पब्लिक रिपोर्ट फ्रॉम अ 'सेमिनल' स्टडी, यूसी बर्कले स्कॉलर्स शेड लाइट ऑन किड्स' यूज़ ऑफ़ वेब 2.0 टूल्स"], ''यूसी बर्कले न्यूज़'', कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय, बर्कले, न्यूज़सेंटर, 28 अप्रैल 2008
* डेविस, डॉनल्ड कैरिंगटन, [https://web.archive.org/web/20100626000622/http://www.law.ku.edu/publications/journal/pdf/v16n2/davis.pdf "माईस्पेस इज़ नॉट योर स्पेस: इक्स्पेन्डिंग द फेयर क्रेडिट रिपोर्टिंग एक्ट टु इंश्योर एकाउंटेबिलिटी एंड फेयरनेस इन इम्प्लौयर सर्चेस ऑफ़ ऑनलाइन सोशल नेटवर्किंग सर्विसेज़"], 16 कैन. जे.एल. और पब पोली 237 (2007)।
* एल्स, लिज़; टर्कल, शेरी. [https://web.archive.org/web/20110623053404/http://web.mit.edu/sturkle/www/pdfsforstwebpage/ST_Living%20Online.pdf "लिविंग ऑनलाइन: आई विल हैव टू आस्क माई फ्रेंड्स"], ''न्यू साइंटिस्ट'', 2569 अंक, 20 सितंबर 2006. (साक्षात्कार)
* ग्लेसर, मार्क, [https://web.archive.org/web/20080914005628/http://www.pbs.org/mediashift/2007/08/digging_deeperyour_guide_to_so_1.html योर गाइड टू सोशल नेट्वर्किंग ऑनलाइन]," पीबीएस (PBS) मिडियाशिफ्ट, अगस्त 2007
* पॉवर्स, विलियम, ''हैमलेट ब्लैकबरी : अ प्रैक्टिकल फिलासफी फॉर बिल्डिंग अ गुड लाइफ इन द डिजिटल एज'', प्रथम सं. न्यूयॉर्क : हार्पर, 2010. ISBN 978-0-06-168716-7
* [https://web.archive.org/web/20130920090546/http://wikilecture.org/Social_network_service विकीलेक्चर द्वारा सामाजिक नेटवर्किंग के इतिहास पर वीडियो]
 
{{Online social networking}}
1,16,410

सम्पादन