"हंसल मेहता" के अवतरणों में अंतर

969 बैट्स् जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
Rescuing 5 sources and tagging 0 as dead.) #IABot (v2.0.1
छो (बॉट: पुनर्प्रेषण ठीक कर रहा है)
(Rescuing 5 sources and tagging 0 as dead.) #IABot (v2.0.1)
| birth_date={{birth based on age as of date |46|2014|April|22}}<ref name=ethnicity/>
| birth_place =
| home_town = मुंबई, महाराष्ट्र, भारत <ref name=ethnicity>{{cite news|title=Hansal Mehta: Rejection really scares me|url=https://timesofindia.indiatimes.com/entertainment/hindi/bollywood/news-interviews/Hansal-Mehta-Rejection-really-scares-me/articleshow/34044289.cms?from=mdr|last=Gupta|first=Priya|publisher=[[The Times of India]]|date=Apr 22, 2014|quote=I am a Gujarati and come from a middle-class happy family from Mumbai.|access-date=14 अप्रैल 2018|archive-url=https://web.archive.org/web/20180220143554/https://timesofindia.indiatimes.com/entertainment/hindi/bollywood/news-interviews/Hansal-Mehta-Rejection-really-scares-me/articleshow/34044289.cms?from=mdr|archive-date=20 फ़रवरी 2018|url-status=live}}</ref>
| spouse = [[सफीना हुसैन]]
| parents = किशोरी मेहता (मां)
}}
 
'''हंसल मेहता''' एक भारतीय फिल्म निर्देशक, लेखक, अभिनेता और निर्माता हैं। मेहता ने करियर (1 993-2000) के खाना खज़ाना श्रृंखला के साथ टेलीविजन में अपने करियर की शुरुआत की और बाद में ... जयते (१९९९ ), दिल पे मत ले यार (२००० ) और छल (२००२ ) जैसी फिल्मे बनायीं । वह शाहिद फिल्म के लिए सबसे प्रसिद्ध हैं, जिसके लिए उन्होंने सर्वश्रेष्ठ निर्देशन के लिए 2013 का राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार जीता । इसके बाद उन्होंने सिटी लाइट्स (2014), अलीगढ़ (2016) और सिमरन (2017) को निर्देशित किया।<ref name=diff>{{cite web |title=61st National Film Awards For 2013 | url = http://www.dff.nic.in/List%20of%20Awards.pdf# |publisher=Directorate of Film Festivals| |date= 16 April 2014 |accessdate = 2014-04-16 |archive-url=https://web.archive.org/web/20140416181218/http://www.dff.nic.in/List%20of%20Awards.pdf |archive-date=16 अप्रैल 2014 |url-status=dead }}</ref>
 
==व्यक्तिगत जीवन==
उन्होंने एक फीचर फिल्म निर्देशक के रूप में अपनी पहली शुरुआत ...जयते नामक फिल्म से की थी जो हैदराबाद, भारत के अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (आईएफएफआई) में भारतीय पैनोरमा 1999-2000 का हिस्सा थी । यह बाद में दिल पे मत ले यार का निर्देशन किया। उसी साल बाद में छल (2002) , एक शैली वाली गैंगस्टर फिल्म आई जिसे उनकी पिछली फिल्मों की तुलना में अधिक प्रशंसा मिले थी।
 
मेहता वास्तव में राजकुमार राव के साथ अपनी फिल्म शाहिद (2013) के लिए जाने जाते है । शाहिद का 2012 में टोरंटो अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में विश्व स्तर पर प्रदर्शन हुआ। था, जिसके बाद दुनिया भर में कई अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोहों में इसका प्रदर्शन हुआ। बाद में इस फिल्म को डिज़नी-यूटीवी ने अधिग्रहण कर लिया और अक्टूबर 2013 में वाणिज्यिक तौर पर रिलीज़ किया। ये ,मानवाधिकार वकील शाहिद आज़मी के जीवन पर बानी फिल्म थी , जिनकी 2010 में हत्या कर दी गई थी। हंसल को सर्वश्रेष्ठ निर्देशन के लिए 61 वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार से सम्मानित किया गया जबकि राजकुमार राव ने शाहिद के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का 61 वां राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार जीता ।<ref name=BBC1>{{cite news|title=Film remembers Indian lawyer Shahid Azmi as symbol of hope|url=http://www.bbc.co.uk/news/world-asia-india-19595663|accessdate=15 May 2013|newspaper=[[बीबीसी|BBC]]|date=28 September 2012|archive-url=https://web.archive.org/web/20121126083611/http://www.bbc.co.uk/news/world-asia-india-19595663|archive-date=26 नवंबर 2012|url-status=live}}</ref><ref name=iexp12>{{cite news |title= The 'unlikely' lawyer as an unlikely hero |url=http://www.indianexpress.com/news/the-unlikely-lawyer-as-an-unlikely-hero/985769/0 |newspaper=[[Indian Express]]|quote=A movie based on the lawyer and human rights activist..|date=9 August 2012 |accessdate=21 August 2012|archive-url=https://web.archive.org/web/20131010071725/http://www.indianexpress.com/news/the-unlikely-lawyer-as-an-unlikely-hero/985769/0|archive-date=10 अक्तूबर 2013|url-status=live}}</ref>
 
शाहिद की सफलता के बाद, हंसल मेहता ने [[राजकुमार राव]] के साथ मिलकर [[फॉक्स स्टार स्टूडियो]] और [[महेश भट्ट]] के लिए प्रशंसित सिटी लाइट्स (ब्रिटिश हिट ' मेट्रो मनीला ' का एक आधिकारिक रूपांतर) बनाने के लिए फिर से काम किया। सिटीलाईट के बाद, मेहता ने , अलीगढ़ (2016) फिल्म को निर्देशित किया जो एक मराठी प्रोफेसर और कवि पर आधारित है जिसे समलैंगिक होने के लिए अपने विश्वविद्यालय द्वारा निलंबित किया गया था। यह फिल्म 20 वीं बुसान अंतर्राष्ट्रीय फिल्म समारोह का प्रीमियर बीएफआई लंदन फिल्म फेस्टिवल द्वारा किया गया। अलीगढ़ 17 वीं जिओ मामी मुंबई फिल्म महोत्सव में पुरस्कृत पहली फिल्म थी। उनके लंबे समय सहयोगी अपूर्व असरानी ( छल, शाहिद, सिटीलाईट्स में साथ काम किया था ) की एक स्क्रिप्ट के आधार पर अलीगढ़ ने मेहता के पसंदीदा अभिनेता मनोज बाजपेयी (जिनका साथ उन्हें दो साल बाद दिल पे मत ले यार के बाद पुनः मिला) [[आशीष विद्यार्थी]] (1995 ,हाइवे के बाद ) और राजकुमार राव (शाहिद के बाद से उनका तीसरा प्रोजेक्ट )के साथ पूर्ण किया । अलीगढ़ को इरॉस इंटरनेशनल द्वारा पेश किया गया और सह-उत्पादन किया गया।
 
==पुरस्कार==
सर्वश्रेष्ठ निर्देशन के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार<ref name="61staward">{{cite web|title=61st National Film Awards|url=http://www.dff.nic.in/List%20of%20Awards.pdf|format=PDF|publisher=[[Directorate of Film Festivals]]|date=16 April 2014|accessdate=16 April 2014|archive-url=https://web.archive.org/web/20140416181218/http://www.dff.nic.in/List%20of%20Awards.pdf|archive-date=16 अप्रैल 2014|url-status=dead}}</ref>
2013 : शाहिद
==संदर्भ==
1,11,843

सम्पादन