"हेपेटाइटिस सी" के अवतरणों में अंतर

5,350 बैट्स् जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
Rescuing 37 sources and tagging 1 as dead.) #IABot (v2.0.1
छो (Bot: Migrating 2 langlinks, now provided by Wikidata on d:q154869; 1 langlinks remaining)
(Rescuing 37 sources and tagging 1 as dead.) #IABot (v2.0.1)
 
पीसीआर (PCR) द्वारा संक्रमण होने के तकरीबन एक से तीन सप्ताह के बीच आमतौर पर खून में हेपेटाइटिस सी वायरस के होने का पता लगता है और आमतौर पर 3 से 15 सप्ताह के बीच वायरस से प्रतिरक्षकों (एंटीबॉडिज) का पता लगता है. स्वाभाविक
वायरल निकासी दरों में अधिकतम भिन्नता है और एचसीवी (HCV) से पीड़ित 10-60%<ref name="pmid17013450">{{cite journal |author=Caruntu FA, Benea L |title=Acute hepatitis C virus infection: Diagnosis, pathogenesis, treatment |journal=[[Journal of Gastrointestinal and Liver Diseases : JGLD]] |volume=15 |issue=3 |pages=249–56 |year=2006 |month=September |pmid=17013450 |doi= |url=http://www.jgld.ro/32006/32006_7.html |accessdate=1 अगस्त 2009 |archive-url=https://web.archive.org/web/20081023113418/http://www.jgld.ro/32006/32006_7.html |archive-date=23 अक्तूबर 2008 |url-status=dead }}</ref> लोग तीव्र चरण के दौरान वायरस को अपने शरीर से अलग करने में कामयाब हो जाते हैं जैसा कि यकृत एंजाइम्स ((ऐलानाइन ट्रांसामिनेस (एएलटी) (ALT) और ऐस्परटेट ट्रांसामिनेस (एएसटी) (AST)) तथा प्लाज़्मा एचसीवी-आरएनए (HCV-RNA) क्लीयरेंस के सामान्यीकरण द्वारा दर्शाया गया है (इसे ''स्पॉनटेनियस वायरल क्लीयरेंस'' के नाम से जाना जाता है). हालांकि, स्थायी संक्रमण आम<ref name="pmid18477352">{{cite journal |author=Kamal SM |title=Acute hepatitis C: a systematic review |journal=[[The American Journal of Gastroenterology]] |volume=103 |issue=5 |pages=1283–97; quiz 1298 |year=2008 |month=May |pmid=18477352 |doi=10.1111/j.1572-0241.2008.01825.x |accessdate=1 अगस्त 2009}}</ref> हैं और अधिकतर मरीजों में दीर्घकालिक हेपेटाइटिस सी यानी 6 महीने से अधिक समय तक रहने वाला संक्रमण विकसित होता है.<ref name="pmid10051497">{{cite journal |author=Villano SA, Vlahov D, Nelson KE, Cohn S, Thomas DL |title=Persistence of viremia and the importance of long-term follow-up after acute hepatitis C infection |journal=Hepatology |volume=29 |issue=3 |pages=908–14 |year=1999 |pmid=10051497 |doi=10.1002/hep.510290311}}</ref><ref name="pmid15824985">{{cite journal |author=Cox AL, Netski DM, Mosbruger T, ''et al.'' |title=Prospective evaluation of community-acquired acute-phase hepatitis C virus infection |journal=Clin. Infect. Dis. |volume=40 |issue=7 |pages=951–8 |year=2005 |pmid=15824985 |doi=10.1086/428578}}</ref><ref name="titleNIH Consensus Development Conference on Management of Hepatitis C: 2002">{{cite web |url=http://consensus.nih.gov/2002/2002HepatitisC2002116main.htm |title=NIH Consensus Development Conference on Management of Hepatitis C: 2002 |accessdate=22 फ़रवरी 2008 |work= |archive-url=https://web.archive.org/web/20071015044755/http://consensus.nih.gov/2002/2002HepatitisC2002116main.htm |archive-date=15 अक्तूबर 2007 |url-status=live }}</ref>
 
पहले यह देखने के लिए कि यह अपने-आप खत्म होता है या नहीं, तीव्र संक्रमण से पीड़ित व्यक्ति का इलाज नहीं किया जाता था; हाल के अध्ययनों से पता चला है कि जीनोटाइप 1 संक्रमण के तीव्र चरण के दौरान इलाज करने से सफलता की संभावना 90% से अधिक होती है, जो दीर्घकालिक संक्रमण के इलाज के लिए आवश्यक समय से आधा ही है.<ref name="Jaeckel">{{cite journal | author = Jaeckel E, Cornberg M, Wedemeyer H, Santantonio T, Mayer J, Zankel M, Pastore G, Dietrich M, Trautwein C, Manns MP | title = Treatment of acute hepatitis C with interferon alfa-2b | journal = New England Journal of Medicine | year = 2001 | month = November | volume = 345 | issue = 20 | pages = 1452–1457 | pmid = 11794193 | doi = 10.1056/NEJMoa011232}}</ref>
हेपेटाइटिस सी वायरस रक्त से रक्त का संपर्क होने पर फैलता है. यह अनुमान लगाया गया है कि विकसित देशों में 90% व्यक्तियों में दीर्घकालिक एचसीवी (HCV) संक्रमण अपरीक्षित रक्त या रक्त उत्पादों या नशीली दवाओं की सुई के प्रयोग या यौन संपर्क के माध्यम से संक्रमित होता है. विकासशील देशों में एचसीवी (HCV) संक्रमण के प्राथमिक स्रोत हैं, संक्रमित इंजेक्शन उपकरण और अपर्याप्त परीक्षित रक्त तथा रक्त उत्पादों के सम्मिश्रण. एक दशक से ज्यादा समय से संयुक्त राज्य अमेरिका में रक्त आधान से एक भी प्रलेखित मामला नहीं हुआ है क्योंकि रक्त की आपूर्ति को ईआईए (EIA) और पीसीआर (PCR) दोनों तकनीकों से परखा जाता है.
 
हालांकि इंजेक्शन से नशीली दवाओं का प्रयोग करना एचसीवी (HCV) संक्रमण का सबसे आम रास्ता है, ''कोई'' भी ऐसा कार्य या गतिविधि या स्थिति जिसमें खून से खून का संपर्क होने की संभावना है एचसीवी (HCV) संक्रमण का संभावित स्रोत हो सकता है. यौन संपर्क करने पर यह वायरस संचरित हो सकता है लेकिन ऐसा कम ही होता है और आमतौर पर ऐसा तभी होता है जब एक एसटीडी (STD) के कारण घाव खुल जाते हैं और रक्तस्राव का होता है तथा अधिक रक्त संपर्क होने की संभावना बढ़ाता है.<ref>''[http://www.plannedparenthood.org/sexual-health/std/hepatitis.htm हैपेटाइटिस क्या है?] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20071218085236/http://www.plannedparenthood.org/sexual-health/std/hepatitis.htm |date=18 दिसंबर 2007 }}'', प्लैंड पेरेंटहूड, May 15 2007 को पुनःप्राप्त.</ref>.
 
=== संचरण ===
==== देह छेदन और गोदना (टैटूज़) ====
 
अगर उचित विसंक्रमण तकनीकों का पालन नहीं किया गया तो गोदना रंजक, दवात, स्टाइलेट्स और छेदने वाले औजारों से गुदवाने पर भी एचसीवी (HCV) संक्रमित खून एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक संचरित हो सकता है. 1980 के दशक के मध्य से पहले "भूमिगत" या गैर पेशेवर से गुदवाना या छेद कराना चिंता का विषय है क्योंकि ऐसी सेटिंग में रोगाणुहीन तकनीक अपर्याप्त हो सकते हैं जिससे बीमारी को फैलने से रोका जा सके; साझा तौर पर गोदने के संक्रमित उपकरणों (उदाहरण के लिए जेल व्यवस्था में)<ref>{{Cite web |url=http://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/18339822 |title=संग्रहीत प्रति |access-date=26 अगस्त 2010 |archive-url=https://web.archive.org/web/20110623034047/http://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/18339822 |archive-date=23 जून 2011 |url-status=live }}</ref> के इस्तेमाल से एचसीवी का शिकार होने का जोखिम बढ़ता है. वास्तव में, यही कारण था जिसकी वजह से पामेला एंडरसन को आधिकारिक तौर पर कहना पड़ा था : "मैं अपने पूर्व पति टॉमी ली के साथ साझा तौर पर गोदने के लिए एक ही सुई का इस्तेमाल करके हेपटाइटिस सी का शिकार हुई." टॉमी को यह बीमारी थी और उन्होंने हमारी शादी के दौरान मुझे इस बारे में कभी नहीं बताया."<ref>{{Cite web |url=http://www.thebody.com/content/art32378.html |title=संग्रहीत प्रति |access-date=26 अगस्त 2010 |archive-url=https://web.archive.org/web/20100813213218/http://www.thebody.com/content/art32378.html |archive-date=13 अगस्त 2010 |url-status=live }}</ref> यू.एस. सेंटर्स फॉर डिजीज़ कंट्रोल एंड प्रीवेंशन (U.S. Centers for Disease Control and Prevention) ने इस विषय पर कहा कि, "अनौपचारिक केंद्रों या संक्रमित उपकरणों से टैटूज़ बनाए जाने या शरीर छिदवाने पर हेपटाइटिस सी और अन्य संक्रामक रोगों का संचरण संभव है." इन जोखिमों के बावजूद, अनुमोदित सुविधाओं में टैटू बनवाने पर एचसीवी (HCV) संक्रमण का होना मुश्किल है.<ref>{{Cite web |url=http://www.cdc.gov/hepatitis/HCV/PDFs/HepCGeneralFactSheet.pdf |title=संग्रहीत प्रति |access-date=26 अगस्त 2010 |archive-url=https://web.archive.org/web/20150608112147/http://www.cdc.gov/hepatitis/hcv/pdfs/hepcgeneralfactsheet.pdf |archive-date=8 जून 2015 |url-status=live }}</ref>
 
==== व्यक्तिगत सामानों का साझा इस्तेमाल ====
व्यक्तिगत देखभाल के सामानों जैसे कि रेज़र, टूथब्रश, छल्ली कैंची जैसे व्यक्तिगत देखभाल उपकरण और अन्य मैनीक्यूरिंग या पेडिक्यूरिंग उपकरणों से आसानी से खून दूषित हो सकता है. ऐसी चीज़ों का साझा इस्तेमाल करने पर एचसीवी (HCV) होने का जोखिम रहता है. ऐसी किसी भी हालत में जब नासूर जैसे घावों, [[सर्दियों के घावों]], दांत साफ कराने के तुरंत बाद जिस स्थिति में खून बहता रहता है, चिकित्सा के वक्त उचित सावधानी बरतनी चाहिए.
 
सामान्य संपर्क करने जैसे कि जकड़ने, चुंबन लेने या एक साथ खाने या खाना पकाने के बर्तनों से एचसीवी (HCV) ''नहीं'' फैलता है.<ref name="urlHepatitis C: FAQ | CDC Viral Hepatitis">{{cite web |url=http://www.cdc.gov/ncidod/diseases/hepatitis/c/faq.htm#5d |title=Hepatitis C: FAQ – CDC Viral Hepatitis |format= |work= |accessdate=13 जून 2008 |archive-url=https://web.archive.org/web/20080610214052/http://www.cdc.gov/ncidod/diseases/Hepatitis/c/faq.htm#5d |archive-date=10 जून 2008 |url-status=live }}</ref>
 
=== ऊर्ध्व संचरण ===
== रोकथाम ==
 
रोग नियंत्रण केंद्र के मुताबिक हेपटाइटिस सी वायरस त्वचा या इंजेक्शन से अधिक मात्रा में खून के संपर्क में आने से फैलता है.<ref name="titleHepatitis C: Fact Sheet | CDC Viral Hepatitis">{{cite web |url=http://www.cdc.gov/hepatitis/HCV/HCVfaq.htm#section2 |title=FAQs for Health Professionals |access-date=26 अगस्त 2010 |archive-url=https://web.archive.org/web/20151222155330/http://www.cdc.gov/hepatitis/hcv/hcvfaq.htm#section2 |archive-date=22 दिसंबर 2015 |url-status=live }}</ref>
 
* इंजेक्शन से नशीली दवाओं का प्रयोग (वर्तमान में संयुक्त राज्य अमेरिका में एचसीवी (HCV) संचरण का सबसे आम जरिया है)
 
=== औषधि (इंटरफेरॉन और रिबावायरिन) ===
वर्तमान उपचार में हेपटाइटिस सी वायरस के जीनोटाइप के आधार पर पेगीलेटेड इंटरफेरॉन-अल्फा 2ए या पेगीलेटेड इंटरफेरॉन-अल्फा-2बी (ब्रांड का नाम पेगासीज़ या पीईजी-इंट्रोन) और एंटी वायरल दवा रिबावायरिन 24 से 48 सप्ताह तक दी जाती है. एक बड़े मल्टीसेंटर में व्यापक स्तर पर जीनोटाइप 2 या 3 संक्रमित मरीजों (नॉर्डीमेनिक)<ref>लैगिंग एट ऑल. दीर्घकालिक हैपेटाइटिस सी वायरस जीनोटाइप 2/3 संक्रमण में 12-24 हफ्तों के पेगइंटरफेरॉन अल्फा-2ए और रिबावायरिन की अनियमित तुलना. हेपाटोलॉजी 2008 जून,47(6):1837-45. [http://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/18454508 PMID18454508] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20110626050927/http://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/18454508 |date=26 जून 2011 }}</ref> में से जिन मरीजों का 12 सप्ताह से निगरानी में रखकर इलाज किया जा रहा था, सातवें दिन उनमें 1000 आईयू (IU)/मि.ली.(mL) से कम एचसीवी आरएनए प्राप्त किया था जो कि 24 सप्ताह से अधिक समय से इलाज किये जा रहे मरीजों की तुलना में अधिक था.<ref>लैगिंग एट ऑल. वेइह्ट-एड्जस्टेड डोजिंग ऑफ़ रिबविरीन एण्ड इम्पोर्टेंस ऑफ़ हेपेटाइटिस सी वायरस RNA के नीचे 1000 IU/mL, जो 7 दिन के
 
7 दिन से नीचे हेपेटाइटिस सी वायरस शाही सेना के महत्व
 
----और 1000 / अल्पकालिक जीर्ण 2 / 3 जीनोटाइप सी वायरस के संक्रमण के लिए चिकित्सा peginterferon में 7 दिन से एम एल IU नीचे हेपेटाइटिस सी वायरस शाही सेना के महत्व Ribavirin का वजन से समायोजित dosing. हेपाटोलौजी 2008, अगस्त 48 (2): 695. [http://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/18666232 PMID18666232] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20110702030534/http://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/18666232 |date=2 जुलाई 2011 }}</ref><ref>ठंड एट अल. हेपेटाइटिस सी वायरस के संक्रमण के उपचार: अद्यतन स्वीडिश आम सहमति सिफारिशें. Scand जे संक्रमित Dis. 2009; 41 (6-7) :389-402. [http://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/20001276 PMID20001276] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20110626073407/http://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/20001276 |date=26 जून 2011 }}</ref>
 
एक व्यवस्थित समीक्षा और नियंत्रित परीक्षण के अनुसार रिबावायरिन पेगीलेटेड इंटरफेरॉन अल्फा 2बी की तुलना में पेगीलेटेड इंटरफेरॉन अल्फा-2ए औऱ रिबावायरिन देने से दीर्घकालिक हेपटाइटिस सी के मरीजों में वायरोलोजिकल प्रतिक्रिया अनवरत बढ़ सकती है.<ref name="pmid20187106">{{cite journal| author=|title=Peginterferon alpha-2a is associated with higher sustained virological response than peginterferon alfa-2b in chronic hepatitis C: Systematic review of randomized trials.|year=2009|journal=Hepatology (Baltimore, Md.) |pmid=20187106|pmc=|doi=20187106| last1=Awad| first1=T| last2=Thorlund| first2=K| last3=Hauser| first3=G| last4=Stimac| first4=D| last5=Mabrouk| first5=M| last6=Gluud| first6=C| volume=51| issue=4| pages=1176–84}}</ref> सापेक्ष लाभ में 14.6% वृद्धि थी. एक ही तरह के जोखिम के मरीजों पर किये गये इस अध्ययन में (41.0% ने पेगीलेटेड इंटरफेरॉन अल्फा 2ए प्लस रिबावायरिन न दिये जाने पर निरंतर वायरस संबंधित प्रतिक्रिया दी है) पूर्ण लाभ को 6% बढ़ता पाया गया है. 16.7 रोगियों को एक इलाज का फायदा मिलना चाहिए (उपचार के लिए आवश्यक संख्या = 16.7. मरीजों के निरंतर वायरोलॉजिकल प्रतिक्रिया के जोखिम की कमी और अधिकता को जानने के लिए इन परिणामों को व्यवस्थित करने के लिए [http://medinformatics.uthscsa.edu/calculator/calc.shtml?calc_rx_rates.shtml?eer=47.0&amp;cer=41.0 यहां क्लिक करें]) हालांकि, इस अध्ययन के परिणाम अनिश्चित और सामयिक संपर्क और चयनात्मक खुराक की प्रतिक्रिया की वजह से पक्षपाती हो सकते हैं.
|-
| 2 और 3
| एचसीवी (HCV) जीनोटाइप 2 और 3 युक्त लोगों में 24 सप्ताह के उपचार के साथ 75% या बेहतर निरंतर रोगमुक्ति दर (निरंतर विषाणुजनित प्रतिक्रिया) देखी गयी है.<ref>{{cite journal |volume=357 |pages=124–34 |year=2007 |issue=2 |title=Peginterferon Alfa-2a and Ribavirin for 16 or 24 weeks in HCV genotype 2 or 3 |author=Shiffman ML, Suter F, Bacon BR, ''et al.'' |journal=N Engl J Med |url=http://content.nejm.org/cgi/content/short/357/2/124?query=TOC |doi=10.1056/NEJMoa066403 |pmid=17625124 |last12=Accelerate |first12=Investigators |access-date=26 अगस्त 2010 |archive-url=https://web.archive.org/web/20090213013503/http://content.nejm.org/cgi/content/short/357/2/124?query=TOC |archive-date=13 फ़रवरी 2009 |url-status=live }}</ref> 7वें दिन तक (यानी पेगीलेटेड इंटरफेरॉन की दूसरी खुराक के ठीक पहले)1000 IU/mL से कम एचसीवी आरएनए (HCV RNA) प्राप्त रोगियों का निरंतर रोगमुक्ति दर सहित 12 हफ्तों से भी कम इलाज किया जा सकता है<ref>ठंड एट अल. और 1000 / अल्पकालिक जीर्ण 2 / 3 जीनोटाइप हेपेटाइटिस सी वायरस के संक्रमण के लिए चिकित्सा peginterferon में 7 दिन से एम एल IU नीचे हेपेटाइटिस सी वायरस शाही सेना के महत्व Ribavirin का वजन से समायोजित dosing. हेपाटोलौजी 2008, अगस्त 48 (2): 695. [http://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/18666232 PMID18666232] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20110702030534/http://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/18666232 |date=2 जुलाई 2011 }}</ref>.
|-
| 1
पेगीलेटेड इंटरफेरॉन अल्फा-2ए या पेगीलेटेड इंटरफेरॉन अल्फा-2बी (ब्रांड नाम पेगासिस या पेग-इंट्रान) के साथ रिबावायरिन से इलाज किये जाने वाले जीनोटाइप 1 हेपेटाइटिस सी में देखा गया है कि मानवीय आईएल28बी (IL28B) जीन के पास आनुवंशिक बहुरूपताओं के संकेतन इंटरफेरॉन लम्बाडा 3, उपचार की प्रतिक्रिया के प्रति महत्वपूर्ण अंतर के साथ जुड़े रहे हैं. मूल प्रकृति में सूचित<ref>{{cite journal|title=Genetic variation in IL28B predicts hepatitis C treatment-induced viral clearance|author=Ge D, Fellay J, Thompson AJ, ''et al.''|journal=Nature |year=2009 |volume=461|pages=399–401 |pmid=19684573 |doi=10.1038/nature08309|last12=Mchutchison|first12=JG|last13=Goldstein|first13=DB|issue=7262}}</ref> इस खोज ने दर्शाया है कि आईएल28बी (IL28B) जीन के पास कुछ विशेष आनुवंशिक भिन्न युग्‍मविकल्‍पी युक्त जीनोटाइप 1 हेपेटाइटिस सी के रोगी उपचार के बाद निरंतर विषाणुजनित प्रतिक्रिया प्राप्त करने में दूसरों की तुलना में अधिक सक्षम होते हैं. प्रकृति<ref>{{cite journal|title=Genetic variation in IL28B and spontaneous clearance of hepatitis C virus|author=Thomas DL, Thio CL, Martin MP, ''et al.''|journal=Nature |year=2009 |pmid=19759533 |doi=10.1038/nature08463|last12=Kirk|first12=GD|last13=Donfield|first13=SM|last14=Rosen|first14=HR|last15=Tobler|first15=LH|last16=Busch|first16=MP|last17=Mchutchison|first17=JG|last18=Goldstein|first18=DB|last19=Carrington|first19=M|volume=461|issue=7265|pages=798–801}}</ref> की रिपोर्ट ने प्रदर्शित किया है कि एक ही आनुवंशिक भिन्नता जीनोटाइप 1 हेपेटाइटिस सी वायरस की प्राकृतिक स्वीकृति के साथ भी जुडी है.
 
इसी प्रकार जीनोटाइप 1 या 4 के हेपेटाइटिस सी वायरस एचसीवी (HCV) द्वारा दीर्घकाल से संक्रमित मरीज, जो विषाणु प्रतिरोधक उपचार के पूरा होने के बाद एक निरंतर विषाणुजनित प्रतिक्रिया एसवीआर (SVR) हासिल नहीं कर पाते, उनमें आधारभूत उपचार पूर्व प्लाज्मा स्तर आईपी-10 IP-10 (सीएक्ससीएल-10 CXCL10 के रूप में भी जाना जाता है) उन्नत पाया जाता है.<ref name="PMID16960776">रोमेरो एट अल. इंटरफेरॉन (IFN)-गामा प्रोटीन inducible-10: ऊतकीय परिणाम, वायरल कैनेटीक्स के सहयोग से और pegylated IFN-अल्फा 2a और क्रोनिक हेपेटाइटिस सी वायरस के संक्रमण के लिए Ribavirin के साथ इलाज के दौरान परिणाम. जम्मू संक्रमित Dis. 1 अक्टूबर 2006, 194 (7) :895-903. [http://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/16960776 PMID16960776] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20110625132537/http://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/16960776 |date=25 जून 2011 }}</ref><ref name="PMID17133471">ठंड एट अल. 10-IP वायरल प्रतिक्रिया और मुश्किल-HCV जीनोटाइप 1 संक्रमण के साथ रोगियों के इलाज के लिए उपचारात्मक परिणाम में भविष्यवाणी की है. हेपाटोलौजी 2006 दिसम्बर 44 (6) :1617-25. [http://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/17133471 PMID17133471] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20110626062356/http://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/17133471 |date=26 जून 2011 }}</ref> . प्लाज्मा में आईपी-10 (IP-10) उपचार में शामिल आईपी-10 एमआरएनए (IP-10 mRNA) द्वारा प्रतिबिम्बित है और दोनों आश्चर्यजनक ढंग से सभी एचसीवी जीनोटाइपों के लिए इंटरफेरॉन/रिबावायरिन उपचार के दौरान एचसीवी (HCV) आरएनए (RNA) के शुरूआती दिनॉ के उन्मूलन ("प्रथम चरण अस्वीकृत") की भविष्यवाणी करते हैं<ref name="PMID20186843">Askarieh एट अल. प्रणालीगत और intrahepatic-इंटरफेरॉन गामा inducible 10 केडीए प्रोटीन हेपेटाइटिस सी वायरस शाही सेना और समग्र क्रोनिक हैपेटाइटिस सी हेप्टोलोजी में उपचार के लिए वायरल जवाब में प्रथम चरण गिरावट भविष्यवाणी की है., 51 मई (5) :1523-30. [http://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/20186843 PMID20186843] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20100517094117/http://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/20186843 |date=17 मई 2010 }}</ref>.
 
==== विषाणु कारक ====
नशीले पेय पदार्थों का सेवन फाइब्रोसिस और सिरोसिस से जुड़े एचसीवी (HCV) को बढ़ा सकता है और यकृत का कैंसर होने की संभावना और अधिक हो सकती है; इसी प्रकार हेपाटिक रोग का निदान इंसुलिन प्रतिरोध और उपापचयी सिंड्रोम को और खराब कर सकता है. इसके भी सबूत हैं कि धूम्रपान से फाइब्रोसिस (दाग़) की दर बढ़ जाती है.
 
कईवैकल्पिक चिकित्साएं वायरस के इलाज के बजाय यकृत की कार्यक्षमता को व्यवस्थित करने की ओर लक्षित हैं, जिससे जीवन की गुणवत्ता बनाए रखने के लिए इस रोग की गति को धीमा किया जा सके. उदाहरण के रूप में, ''सिलिबम मारियानम'' और शो-साइको-तो (Sho-saiko-to) के सत्व को उनके एचसीवी (HCV) सम्बंधित प्रभावों के लिए बेचा जाता है, कहा जाता है कि इनमें पहला यकृत के कार्यों में कुछ सहायता करता है और दूसरा यकृत के स्वास्थ्य में सहायक है तथा विषाणु प्रतिरोधक प्रभाव उपलब्ध करता है.<ref>NCCAM. [http://nccam.nih.gov/health/hepatitisc/ हेपेटाइटिस सी और पूरक और वैकल्पिक चिकित्सा: 2003 अद्यतन] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20100723125247/http://nccam.nih.gov/health/hepatitisc/ |date=23 जुलाई 2010 }} . मई 2004. 25 फ़रवरी 2007 तक पहुँचा.</ref>. किसी भी वैकल्पिक चिकित्सा का कोई प्रमाण योग्य ऐतिहासिक या विषाणु विषयक लाभ प्रदर्शन कभी भी प्रदर्शित नहीं किया जा सका है.
 
== जानपदिकरोग विज्ञान (एपिडेमियोलॉजी) ==
[[चित्र:HCV prevalence 1999.png|thumb|दुनिया भर में हेपेटाइटिस सी (1999, की व्याप्तता डब्ल्यूएचओ)]]
[[चित्र:Hepatitis C world map - DALY - WHO2002.svg|thumb|विकलांगता से समायोजित हेपेटाइटिस सी के लिए 100.000 निवासियों के प्रति जीवन के वर्ष. [81] [82] [83] [84] [85] [86] [87] [88] [89] [90] [91] [92] [93]]]
यह अनुमान है कि दुनिया भर में लगभग 200 मिलियन लोग हेपेटाइटिस सी से संक्रमित हैं और प्रति वर्ष 3-4 लाख से अधिक लोग इससे संक्रमित होते हैं.<ref>[http://www.who.int/vaccine_research/diseases/hepatitis_c/en/ हेपेटाइटिस सी] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20100815022636/http://www.who.int/vaccine_research/diseases/hepatitis_c/en/ |date=15 अगस्त 2010 }}, डब्ल्यूएचओ</ref><ref>[http://www.drugabuse.gov/HepatitisAlert/HepatitisAlert.html हेपेटाइटिस सी संक्रमण] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20100401172212/http://www.drugabuse.gov/HepatitisAlert/HepatitisAlert.html |date=1 अप्रैल 2010 }}, नशीली दवाओं के सेवन पर राष्ट्रीय संस्थान (NIDA)</ref> संयुक्त राज्य अमेरिका में एक साल में लगभग 35,000 से 185,000 नए मामले सामने आये हैं. वर्तमान में यह सिरोसिस का प्रमुख और हेपाटोसेल्यूलर कार्सिनोमा का आम कारण है. इसके फलस्वरुप यह अमेरिका में यकृत प्रत्यारोपण का प्रमुख कारण बन गया है. [[एचआईवी]] (HIV) सकारात्मक (पॉज़िटिव) आबादी में एचआईवी का सह-संक्रमण आम है और दर भी अधिक रहती है. संयुक्त राज्य अमेरिका में हर साल एचसीवी (HCV) से 10,000-20,000 मौतें होती हैं. इस मृत्यु दर में वृद्धि होने की आशंका है क्योंकि जो एचसीवी (HCV) परीक्षण के पहले आधान की वजह से संक्रमित हुए उनकी संख्या स्पष्ट हो गयी थी. कैलिफोर्निया में किए गए एक सर्वेक्षण के अनुसार जेल के कैदियों में से 34% तक में इसकी मौजूदगी का पता चला है;<ref>{{cite journal | author = Ruiz J, Molitor F, Plagenhoef J | title = Trends in hepatitis C and HIV infection among inmates entering prisons in California, 1994 versus 1999. | journal = AIDS | volume = 16 | issue = 16 | pages = 2236–8 | year = 2002 | pmid = 12409752 | doi = 10.1097/00002030-200211080-00023}}</ref>
हेपेटाइटिस सी के निदान वाले 82% लोग पहले जेल जा चुके थे,<ref>{{cite journal | author = Campbell J, Hagan H, Latka M, Garfein R, Golub E, Coady M, Thomas D, Strathdee S | title = High prevalence of alcohol use among hepatitis C virus antibody positive injection drug users in three US cities. | journal = Drug Alcohol Depend | volume = 81 | issue = 3 | pages = 259–65 | year = 2006 | pmid = 16129567 | doi = 10.1016/j.drugalcdep.2005.07.005 | pmc = 2196223}}</ref>
और संक्रमण का समय जेल में रहने के दौरान वर्णित है.<ref>{{cite journal | author = McGovern B, Wurcel A, Kim A, Schulze zur Wiesch J, Bica I, Zaman M, Timm J, Walker B, Lauer G | title = Acute hepatitis C virus infection in incarcerated injection drug users. | journal = Clin Infect Dis | volume = 42 | issue = 12 | pages = 1663–70 | year = 2006 | pmid = 16705568 | doi = 10.1086/504327}}</ref>
 
[[अफ़्रीका|अफ्रीका]] और [[एशिया]] के कुछ देशों में अधिक व्यापकता है.<ref>[http://wwwn.cdc.gov/travel/yellowBookCh4-HepC.aspx अध्याय 4 - हेपेटाइटिस, वायरल, प्रकार सी - पीला बुक] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20090506221638/http://wwwn.cdc.gov/travel/yellowBookCh4-HepC.aspx |date=6 मई 2009 }}, अंतर्राष्ट्रीय यात्रा 2008 के लिए सीडीसी सूचना स्वास्थ्य</ref> [[मिस्र]] में एचसीवी (HCV) की व्यापकता उच्चतम, कुछ क्षेत्रों में 20% तक है. यह अवधारणा है कि सिसटोसोमियासिस के लिए अब समूह इलाज का प्रचार बंद हो जाने की वजह से ही यह बीमारी फैल रही है जो उस देश में स्थानिक है.<ref name="frank">{{cite journal | author = Frank C, Mohamed M, Strickland G, Lavanchy D, Arthur R, Magder L, El Khoby T, Abdel-Wahab Y, Aly Ohn E, Anwar W, Sallam I | title = The role of parenteral antischistosomal therapy in the spread of hepatitis C virus in Egypt. | journal = Lancet | volume = 355 | issue = 9207 | pages = 887–91 | year = 2000 | pmid = 10752705 | doi = 10.1016/S0140-6736(99)06527-7}}</ref> यह महामारी चाहे जैसे भी शुरू हुई हो, मिस्र में इयाट्रोजेनिकली और समुदाय और परिवार के भीतर दोनों ही तरह से एचसीवी (HCV) का उच्च दर पर संचरण जारी है.
 
=== एचआईवी के साथ सह-संक्रमण ===
संयुक्त राज्य अमेरिका में लगभग 350,000 या 35% मरीज जो एचआईवी से संक्रमित हैं, वे हेपेटाइटिस सी वायरस से भी संक्रमित हैं. इसकी मुख्य वजह यह है कि दोनों ही वायरस रक्त जनित हैं और एक जैसी आबादी में मौजूद रहते हैं. संयुक्त राज्य अमेरिका में एचसीवी (HCV) दीर्घकालीन जिगर की बीमारी का मुख्य कारण है. नैदानिक अध्ययन से स्पष्ट हो गया है कि एचआईवी संक्रमण बहुत तेजी से दीर्घकालीन हेपेटाइटिस सी से लेकर सिरोसिस और यकृत विफलता का कारण बनता जा रहा है. यह नहीं कहा जा सकता कि उपचार सह-संक्रमण के साथ रहने वाले लोगों के लिए एक विकल्प नहीं है.
 
21 एचआईवी सह-संक्रमित रोगियों (डाइको)(DICO)<ref>बाज़ को सिखानेवाला एट अल. HCV / स्वीडन में एक बड़ी एचआईवी outpatient क्लीनिक में एचआईवी संक्रमण सह: व्यवहार्यता और हेपेटाइटिस सी उपचार के परिणाम है. Scand जे संक्रमित Dis. 2009; 41 (11-12) :881-5. [http://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/19922074 19922074 PMID]</ref> पर किये गए एक अध्ययन में आईपी-10 के उपचार पूर्व आधारभूत प्लाज्मा स्तर ने एचसीवी (HCV) जीनोटाइप 1-3<ref name="ncbi.nlm.nih.gov">बाज़ को सिखानेवाला एट अल. 10-IP HCV शाही सेना और समग्र सह क्रोनिक हेपेटाइटिस सी वायरस के संक्रमण और एचआईवी से संक्रमित रोगियों में उपचार के लिए वायरल प्रतिक्रिया के पहले चरण गिरावट भविष्यवाणी की है. Scand जे संक्रमित Dis. 2010 जुलाई 7 (EPUB प्रिंट से आगे). [http://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/ {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20191212190750/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/ |date=12 दिसंबर 2019 }} [14&#93;PMID 20377626]</ref> के लिए इंटरफेरॉन/रिबावायरिन उपचार ("पहले चरण के गिरावट") के आरंभिक दिनों के दौरान एचसीवी आरएनए (HCV RNA) में गिरावट की भविष्यवाणी की, जैसा कि एचसीवी (HCV) मोनो-संक्रमित रोगियों के मामले में भी होता है.<ref name="PMID16960776"/><ref name="PMID17133471"/><ref name="PMID20186843"/> चिकित्सा पूर्व 150 पीजी/मिली (Pg/ml). से नीचे का आईपी-10 (IP-10) स्तर एक अनुकूल प्रतिक्रिया का संकेत करता है और इस तरह यह अन्य प्रकार से इलाज आरंभ करने में परेशानी वाले रोगियों को उत्साहित करने में उपयोगी हो सकता है<ref name="ncbi.nlm.nih.gov"/>.
 
== इतिहास ==
 
1970 के दशक के मध्य में, नैशनल इन्स्टीट्यूट्स ऑफ हेल्थ (National Institutes of Health) के रक्त आधान विभाग में संक्रामक रोग विभाग के प्रमुख हार्वे जे. आल्टर और उनके अनुसन्धान समूह ने अपने शोध से यह साबित किया कि आधान के बाद के अधिकतर हेपेटाइटिस मामले हेपेटाइटिस ए या [[हेपेटाइटिस बी|बी]] वायरसों की वजह से नहीं होते थे. इस खोज के बावजूद, अंतरराष्ट्रीय अनुसंधान प्रयासों द्वारा शुरुआत में ''गैर-ए, गैर-बी हेपेटाइटिस'' एनएएऩबीएच (NANBH) कहे जा रहे वायरस को पहचानने की कोशिश अगली सदी के लिए नाकाम रही. [[१९८७|1987]] में, माइकल हफटन, क्वि-लिम चू और जॉर्ज क्वो ने चिरॉन कार्पोरेशन में सीडीसी (CDC) के डॉ डी.डब्ल्यू.ब्राडली के साथ मिलकर अज्ञात जीव को पहचानने के लिए आण्विक क्लोनिंग का उपयोग किया.<ref>[http://www.laskerfoundation.org/awards/library/2000c_cit.shtml के लिए नैदानिक चिकित्सा अनुसंधान पुरस्कार 2000 अल्बर्ट Lasker] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20071028150537/http://www.laskerfoundation.org/awards/library/2000c_cit.shtml |date=28 अक्तूबर 2007 }}, Lasker फाउंडेशन. 20 फ़रवरी 2008 तक पहुँचा</ref> [[१९८८|1988]] में, आल्टर ने एऩएएनबीएच (NANBH) के नमूनों के पैनल में इसकी मौजूदगी को देखते हुए इस वायरस के होने की पुष्टि की. [[१९८९|1989]] के अप्रैल में इस वायरस की खोज के बाद इसका नया नाम हेपेटाइटिस सी वायरस, एचसीवी (HCV)''साइंस'' के जर्नल में दो लेखों में प्रकाशित हुआ था.<ref name="choo">{{cite journal | author = Choo Q, Kuo G, Weiner A, Overby L, Bradley D, Houghton M | title = Isolation of a cDNA clone derived from a blood-borne non-A, non-B viral hepatitis genome. | journal = Science | volume = 244 | issue = 4902 | pages = 359–62 | year = 1989 | pmid = 2523562 | doi = 10.1126/science.2523562}}</ref><ref name="kuo">{{cite journal | author = Kuo G, Choo Q, Alter H, Gitnick G, Redeker A, Purcell R, Miyamura T, Dienstag J, Alter M, Stevens C | title = An assay for circulating antibodies to a major etiologic virus of human non-A, non-B hepatitis. | journal = Science | volume = 244 | issue = 4902 | pages = 362–4 | year = 1989 | pmid = 2496467 | doi = 10.1126/science.2496467}}</ref>
 
चिरॉन ने वायरस और उसके निदान पर कई पेटेंट दायर किये.<ref name="houghton">Houghton, एम, Q.-L. चू और जी Kuo. ''NANBV निदान और टीकों.'' यूरोपीय पेटेंट संख्या 18 0--3-216-A1 EP. यूरोपीय पेटेंट कार्यालय (दायर की 18 नवम्बर 1988, प्रकाशित मई 31, 1989).</ref> सीडीसी द्वारा दायर प्रतिस्पर्धी पेटेंट आवेदन को 1990 में उस समय ख़ारिज कर दिया गया जब चिरॉन ने सीडीसी को 1.9 करोड़ डॉलर और ब्राडली को 337,500 डॉलर का भुगतान किया. 1994 में ब्राडली ने पेटेंट रद्द करने के लिए चिरॉन पर मुकदमा दायर कर दिया, जिसने खुद को सह-आविष्कारक के रूप में शामिल किया और नुकसान के साथ रॉयल्टी की आय प्राप्त करते हैं. अदालत में हारने के बाद 1998 में उसने मामला वापस ले लिया.<ref name="elias">पॉल Elias. " [http://www.hcvadvocate.org/news/newsRev/2004/NewsRev-37.html#15 "हेपेटाइटिस औषधि निर्माता" की समीक्षा की शिकायतों] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20080605031710/http://www.hcvadvocate.org/news/newsRev/2004/NewsRev-37.html#15 |date=5 जून 2008 }}, ''एसोसिएटेड प्रेस,'' फ़रवरी 27, 2004</ref><ref>डैनियल डब्ल्यू ब्राडली वी. Chiron निगम, न्यायालय अपील की संघीय 1998, सर्किट अमेरिका के 136 एफ 3 डी 1317 ()</ref>
 
2000 में डा. ऑल्टर और हफटन को नैदानिक चिकित्सा अनुसंधान के लिए लास्कर अवार्ड से सम्मानित किया गया,
"हेपेटाइटिस सी जैसी बीमारी फैलाने वाले वायरस की खोज करने जैसा अग्रणी काम और स्क्रीनिंग के तरीकों में विकास किया, जिसकी वजह से अमेरिका में जहां 1970 में रक्त के आधान की वजह से होने वाले हेपेटाइटिस के 30% मामले 2000 में घटकर सीधे शून्य तक पहुंच गये."<ref>[http://www.laskerfoundation.org/awards/library/2000clinical.shtml 2000 विजेता अनुसंधान नैदानिक चिकित्सा के लिए पुरस्कार अल्बर्ट Lasker] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20080225184627/http://www.laskerfoundation.org/awards/library/2000clinical.shtml |date=25 फ़रवरी 2008 }}, Lasker फाउंडेशन. 20 फ़रवरी 2008 तक पहुँचा.</ref>
 
2004 में चिरॉन के पास 20 देशों में हेपेटाइटिस सी से जुड़े 100 पेटेंट थे और उन्होंने उल्लंघन करने पर कई कंपनियों के खिलाफ मामले दायर कर सफलता हासिल की थी. वैज्ञानिकों और प्रतियोगियों ने शिकायत दर्ज की है कि कंपनियां अपनी प्रौद्योगिकी के लिए बहुत अधिक पैसों की मांग करके हेपेटाइटिस सी के खिलाफ लड़ाई में अड़चनें डाल रही हैं.<ref name="elias" />
रीबावायरिन की जगह [[वीरामिडाइन]] एक वैकल्पिक दवा है, जिससे यकृत को फायदा पहुंचता है और निर्धारित खुराक दिये जाने पर हेपेटाइटिस सी के खिलाफ अधिक प्रभावी हो सकती है, यह अभी प्रयोगात्मक परीक्षण के III चरण में है. इसका प्रयोग इंटरफेरॉन के साथ संयोजन में किया जायेगा, जैसा रीबावायरिन के लिए किया जाता था.{{dn}} हालांकि, इस दवा के रीबावायरिन के प्रतिरोधी उपभेदों में प्रभावी होने की उम्मीद नहीं है, जो पहले ही संक्रमण के समय रीबावायरिन/इंटरफेरॉन उपचार में काम नहीं आया और असफल रही.
 
कुछ नयी दवाओं का विकास हो रहा है जैसे द ''प्रोटीज़ इनहिबिटर्स'' (जिनमें टेलाप्रेवीर/वीएक्स (VX) 950 शामिल है) एन्ट्री इन्हीबिटर्स (जैसे कि ''एसपी 30'' (SP 30) और ''आईटीएक्स 5061''<ref>{{cite web | title = SP-30: A Novel Treatment for Hepatitis C | url = http://www.samaritanpharma.com/aids_hiv_program_sp-10T1.asp | accessdate = 2 मार्च 2010 | archive-url = https://web.archive.org/web/20110715234223/http://www.samaritanpharma.com/aids_hiv_program_sp-10T1.asp | archive-date = 15 जुलाई 2011 | url-status = live }}</ref> (ITX 5061)) तथा पोलिमिरेज़ इन्हीबिटर्स (जैसे कि ''आरजी7128'' (RG7128), ''पीएसआई-7977'' (PSI-7977) और ''एनएम 283'' (NM 283)), लेकिन इनमें से कुछ का विकास अपने प्रारंभिक चरणों में हैं. वीएक्स वीएक्स 950 (VX 950) जो टेलाप्रेवीर<ref>[{{Cite web |url=http://www.vrtx.com/current-projects/drug-candidates/telaprevir-VX-950.html |title=Telaprevir] |access-date=26 अगस्त 2010 |archive-url=https://web.archive.org/web/20100817092118/http://www.vrtx.com/current-projects/drug-candidates/telaprevir-VX-950.html |archive-date=17 अगस्त 2010 |url-status=dead }}</ref> के नाम से भी जाना जाता है, फिलहाल अपने परीक्षण के तीसरे चरण में है.<ref name="hinrichsen">{{cite journal | author = Hinrichsen H, Benhamou Y, Wedemeyer H, Reiser M, Sentjens R, Calleja J, Forns X, Erhardt A, Crönlein J, Chaves R, Yong C, Nehmiz G, Steinmann G | title = Short-term antiviral efficacy of BILN 2061, a hepatitis C virus serine protease inhibitor, in hepatitis C genotype 1 patients. | journal = Gastroenterology | volume = 127 | issue = 5 | pages = 1347–55 | year = 2004 | pmid = 15521004 | doi = 10.1053/j.gastro.2004.08.002 | last12 = Nehmiz | first12 = G | last13 = Steinmann | first13 = GG}}</ref><ref name="lamarre">{{cite journal | author = Lamarre D, Anderson P, Bailey M, Beaulieu P, Bolger G, Bonneau P, Bös M, Cameron D, Cartier M, Cordingley M, Faucher A, Goudreau N, Kawai S, Kukolj G, Lagacé L, LaPlante S, Narjes H, Poupart M, Rancourt J, Sentjens R, St George R, Simoneau B, Steinmann G, Thibeault D, Tsantrizos Y, Weldon S, Yong C, Llinàs-Brunet M | title = An NS3 protease inhibitor with antiviral effects in humans infected with hepatitis C virus. | journal = Nature | volume = 426 | issue = 6963 | pages = 186–9 | year = 2003 | pmid = 14578911 doi = 10.1038/nature02099 | doi = 10.1038/nature02099 | last12 = Goudreau | first12 = N | last13 = Kawai | first13 = SH | last14 = Kukolj | first14 = G | last15 = Lagacé | first15 = L | last16 = Laplante | first16 = SR | last17 = Narjes | first17 = H | last18 = Poupart | first18 = MA | last19 = Rancourt | first19 = J | last20 = Sentjens | first20 = RE | last21 = St George | first21 = R | last22 = Simoneau | first22 = B | last23 = Steinmann | first23 = G | last24 = Thibeault | first24 = D | last25 = Tsantrizos | first25 = YS | last26 = Weldon | first26 = SM | last27 = Yong | first27 = CL | last28 = Llinàs-Brunet | first28 = M}}</ref>
कुछ नयी दवाओं का विकास हो रहा है जैसे द ''प्रोटीज़ इनहिबिटर्स'' (जिनमें टेलाप्रेवीर/वीएक्स (VX) 950 शामिल है) एन्ट्री इन्हीबिटर्स (जैसे कि ''एसपी 30'' (SP 30) और ''आईटीएक्स 5061''<ref>{{cite web
| title = SP-30: A Novel Treatment for Hepatitis C | url = http://www.samaritanpharma.com/aids_hiv_program_sp-10T1.asp | accessdate = 2 मार्च 2010}}</ref> (ITX 5061)) तथा पोलिमिरेज़ इन्हीबिटर्स (जैसे कि ''आरजी7128'' (RG7128), ''पीएसआई-7977'' (PSI-7977) और ''एनएम 283'' (NM 283)), लेकिन इनमें से कुछ का विकास अपने प्रारंभिक चरणों में हैं. वीएक्स वीएक्स 950 (VX 950) जो टेलाप्रेवीर<ref>[http://www.vrtx.com/current-projects/drug-candidates/telaprevir-VX-950.html Telaprevir]</ref> के नाम से भी जाना जाता है, फिलहाल अपने परीक्षण के तीसरे चरण में है.<ref name="hinrichsen">{{cite journal | author = Hinrichsen H, Benhamou Y, Wedemeyer H, Reiser M, Sentjens R, Calleja J, Forns X, Erhardt A, Crönlein J, Chaves R, Yong C, Nehmiz G, Steinmann G | title = Short-term antiviral efficacy of BILN 2061, a hepatitis C virus serine protease inhibitor, in hepatitis C genotype 1 patients. | journal = Gastroenterology | volume = 127 | issue = 5 | pages = 1347–55 | year = 2004 | pmid = 15521004 | doi = 10.1053/j.gastro.2004.08.002 | last12 = Nehmiz | first12 = G | last13 = Steinmann | first13 = GG}}</ref><ref name="lamarre">{{cite journal | author = Lamarre D, Anderson P, Bailey M, Beaulieu P, Bolger G, Bonneau P, Bös M, Cameron D, Cartier M, Cordingley M, Faucher A, Goudreau N, Kawai S, Kukolj G, Lagacé L, LaPlante S, Narjes H, Poupart M, Rancourt J, Sentjens R, St George R, Simoneau B, Steinmann G, Thibeault D, Tsantrizos Y, Weldon S, Yong C, Llinàs-Brunet M | title = An NS3 protease inhibitor with antiviral effects in humans infected with hepatitis C virus. | journal = Nature | volume = 426 | issue = 6963 | pages = 186–9 | year = 2003 | pmid = 14578911 doi = 10.1038/nature02099 | doi = 10.1038/nature02099 | last12 = Goudreau | first12 = N | last13 = Kawai | first13 = SH | last14 = Kukolj | first14 = G | last15 = Lagacé | first15 = L | last16 = Laplante | first16 = SR | last17 = Narjes | first17 = H | last18 = Poupart | first18 = MA | last19 = Rancourt | first19 = J | last20 = Sentjens | first20 = RE | last21 = St George | first21 = R | last22 = Simoneau | first22 = B | last23 = Steinmann | first23 = G | last24 = Thibeault | first24 = D | last25 = Tsantrizos | first25 = YS | last26 = Weldon | first26 = SM | last27 = Yong | first27 = CL | last28 = Llinàs-Brunet | first28 = M}}</ref>
एक प्रोटीज़ इन्हीबिटर बीआईएलएन 2061 (BILN 2061) को नैदानिक परीक्षण के आरम्भ में सुरक्षा कारणों से बंद करना पड़ा था. एचसीवी (HCV) के उपचार में मदद करने वाली कुछ अधिक आधुनिक नयी दवाओं के नाम हैं ''अलबुफेरोन''<ref>{{cite web
| title = Human Genome Sciences Announces Completion of Enrollment in Phase 2b Monthly-Dosing Trial of Albuferon
| url = http://sev.prnewswire.com/health-care-hospitals/20090619/PH3522819062009-1.html
| quote = Trial conducted by Novartis evaluating safety and efficacy of Albuferon administered every four weeks in combination with ribavirin in patients with genotypes 2 and 3 hepatitis C
| accessdate = 13 जुलाई 2009}}</ref> और ''जडाक्सिन''<ref>{{cite web
}}{{Dead link|date=जून 2020 |bot=InternetArchiveBot }}</ref> और ''जडाक्सिन''<ref>{{cite web
| last = Poo
| first = Jorge L.
| format = [[PDF]]
| quote = More recently, thymalfasin (thymosin alpha 1, Tα1, ZADAXIN, SciClone Pharmaceuticals, Inc., CA, USA) has shown efficacy in the treatment of chronic HCV infection.
| accessdate = 20 जुलाई 2009
| accessdate = 20 जुलाई 2009 }}</ref>. हेपेटाइटिस सी के लिए एनटीसेन्स फॉस्फोरोथिओट ओलिगोस को लक्षित किया गया है.<ref name="zhang">{{cite journal | author = Zhang H, Hanecak R, Brown-Driver V, Azad R, Conklin B, Fox M, Anderson K | title = Antisense oligonucleotide inhibition of hepatitis C virus (HCV) gene expression in livers of mice infected with an HCV-vaccinia virus recombinant. | journal = Antimicrob Agents Chemother | volume = 43 | issue = 2 | pages = 347–53 | date=1 फ़रवरी 1999| pmid = 9925530 | url=http://aac.asm.org/cgi/content/full/43/2/347?view=long&pmid=9925530 | pmc = 89075 }}</ref> एनटीसेन्स मोरफोलिनो ओलिगोस ने पूर्व नैदानिक अध्ययन<ref name="mccaffrey">{{cite journal | author = McCaffrey A, Meuse L, Karimi M, Contag C, Kay M | title = A potent and specific morpholino antisense inhibitor of hepatitis C translation in mice. | journal = Hepatology | volume = 38 | issue = 2 | pages = 503–8 | year = 2003 | pmid = 12883495 | doi = 10.1053/jhep.2003.50330}}</ref> में सम्भावना प्रकट की है, हालांकि, इन्हें विषाणु जनित भार को सीमित करने में [http://clinicaltrials.gov/ct/show/NCT00229749?order=1 कमी] आयी थी.
| archive-url = https://web.archive.org/web/20180513081852/http://www.medigraphic.com/pdfs/hepato/ah-2008/ah084j.pdf
| archive-date = 13 मई 2018
| url-status = live
| accessdate = 20 जुलाई 2009 }}</ref>. हेपेटाइटिस सी के लिए एनटीसेन्स फॉस्फोरोथिओट ओलिगोस को लक्षित किया गया है.<ref name="zhang">{{cite journal | author = Zhang H, Hanecak R, Brown-Driver V, Azad R, Conklin B, Fox M, Anderson K | title = Antisense oligonucleotide inhibition of hepatitis C virus (HCV) gene expression in livers of mice infected with an HCV-vaccinia virus recombinant. | journal = Antimicrob Agents Chemother | volume = 43 | issue = 2 | pages = 347–53 | date = 1 फ़रवरी 1999 | pmid = 9925530 | url = http://aac.asm.org/cgi/content/full/43/2/347?view=long&pmid=9925530 | pmc = 89075 | access-date = 26 अगस्त 2010 | archive-url = https://web.archive.org/web/20110105143308/http://aac.asm.org/cgi/content/full/43/2/347?view=long&pmid=9925530 | archive-date = 5 जनवरी 2011 | url-status = live }}</ref> एनटीसेन्स मोरफोलिनो ओलिगोस ने पूर्व नैदानिक अध्ययन<ref name="mccaffrey">{{cite journal | author = McCaffrey A, Meuse L, Karimi M, Contag C, Kay M | title = A potent and specific morpholino antisense inhibitor of hepatitis C translation in mice. | journal = Hepatology | volume = 38 | issue = 2 | pages = 503–8 | year = 2003 | pmid = 12883495 | doi = 10.1053/jhep.2003.50330}}</ref> में सम्भावना प्रकट की है, हालांकि, इन्हें विषाणु जनित भार को सीमित करने में [https://web.archive.org/web/20061004205209/http://clinicaltrials.gov/ct/show/NCT00229749?order=1 कमी] आयी थी.
 
हेपेटाइटिस सी वायरस के खिलाफ इम्यूनोग्लोबुलिन्स मौजूद हैं और इसके नए प्रकार पर काम चल रहा है. अभी तक उनकी भूमिका स्पष्ट नहीं हो पायी है क्योंकि अभी तक वे दीर्घकालिक संक्रमण को खत्म करने या तेजी के साथ उसकी रोकथाम में कोई भूमिका नहीं निभा पाये हैं (उदाहरण के लिए सुइयां). जिन मरीजों का प्रत्यारोपण हुआ है, उन मामलों में उनकी सीमित भूमिका है.
== बाहरी कड़ियाँ ==
=== जानकारी और संसाधन ===
* [https://web.archive.org/web/20080709071819/http://www.cdc.gov/ncidodNCIDOD/diseasesDISEASES/hepatitisHEPATITIS/c/fact.htm सीडीसी (CDC) का हेपेटाइटिस सी तथ्य पत्रक]
* {{dmoz|Health/Conditions_and_Diseases/Digestive_Disorders/Liver/Hepatitis/Hepatitis_C|Hepatitis C}}
* {{cite web
| year = 2004
| month = May
| accessdate = 2008-09-28
| archive-url = https://web.archive.org/web/20100821103650/http://digestive.niddk.nih.gov/ddiseases/pubs/hepc%5Fez/
}}
| archive-date = 21 अगस्त 2010
| url-status = dead
}}
 
=== संगठन और कार्यक्रम ===
* [httphttps://web.archive.org/web/20190807143258/https://www.hepatitis.va.gov/ राष्ट्रीय हेपेटाइटिस सी प्रोग्राम] वेटरन्स अफेयर्स विभाग
* [https://web.archive.org/web/20100824201219/http://www.liverfoundation.org/abouttheliver/info/hepatitisc/ हेपेटाइटिस सी] अमेरिकी लीवर फाउंडेशन
* [httphttps://web.archive.org/web/20190604193328/https://www.hepatitisaustralia.com/ हेपेटाइटिस ऑस्ट्रेलिया] हेपेटाइटिस ऑस्ट्रेलिया
* [https://web.archive.org/web/20080327233754/http://www.hepc.nhs.uk/ हेपेटाइटिस सी] ब्रिटेन की राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा का मुखपृष्ठ
* [https://web.archive.org/web/20190110085139/http://www.ncrtp-hepc.ca/ नेशनल सीआईएचआर (CIHR) रिसर्च ट्रेनिंग प्रोग्राम इन हेपेटाइटिस सी] छात्र शोधकर्ताओं के लिए कनाडा के स्वास्थ्य अनुसंधान संस्थानों द्वारा वित्त पोषित प्रशिक्षण कार्यक्रम.
 
{{बीमारियाँ}}
1,14,810

सम्पादन