"आल्चीना" के अवतरणों में अंतर

648 बैट्स् जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
Rescuing 3 sources and tagging 0 as dead.) #IABot (v2.0.1
(ऑटोमेटिक वर्तनी सु, replaced: है की → है कि)
(Rescuing 3 sources and tagging 0 as dead.) #IABot (v2.0.1)
''आल्चीना'' जॉर्ज फ़्राईडरिक हेन्डल द्वारा रचित एक एक ओपेरा सेरीआ है। हेन्डल ने अपनी रचना में [[रिकार्डो ब्रोशी]] द्वारा रचित तथा 1728 में रोम में प्रदर्शित ओपेरा ''ल इसोला दि आल्चीना'' ({{lang-it|link="no"|L'isola di Alcina}}) के [[लिब्रेटो]] का प्रयोग किया था, जो उन्हें उनके [[इटली]] प्रवास के दौरान प्राप्त हुआ था।<ref name="operas">Dean, Winton (2006).''Handel's Operas, 1726-1741'', p. 315. Boydell Press, Woodbridge. ISBN 1-84383-268-2.</ref><ref>वर्तमान में इस लिब्रेटो का श्रेय [[एंटोनिओ फ़ानत्ज़लिया]] को दिया जाता है। [http://books.google.com/books/about/Alcina.html?id=-whqYgEACAAJ] [http://www.operarara.pl/en/8/171/178/alcina] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20120407073000/http://www.operarara.pl/en/8/171/178/alcina |date=7 अप्रैल 2012 }} [http://books.google.com/books/about/Alcina.html?id=iPPEMAAACAAJ]</ref> यह कथानक प्रारंभ में [[लुडोविको आरिओस्टो]] की रचना ''[[ओरलान्डो फ़्यूरिओसो]] '' - जो कि [[शारलेमेन]] के [[इस्लाम]] के विरुद्ध युद्धों पर आधारित एक महाकाव्य है - से लिया गया था, परन्तु संगतता की दृष्टि से उसमें कुछ संशोधन भी किये गये थे।.
== ओपेरा के पात्र ==
{| class="wikitable"
!पात्र
!गायन प्रकार
!प्रथम प्रदर्शन, 16 अप्रैल 1735<br />(परिचालक : जॉर्ज फ़्राईडरिक हेन्डल)<ref>[{{Cite web |url=http://www.amadeusonline.net/almanacco.php?Start=0&Giorno=16&Mese=04&Anno=1735&Giornata=&Testo=&Parola=Stringa |title=AmadeusOnline.net से प्राप्त जानकारी के आधार पर] |access-date=24 मई 2012 |archive-url=https://web.archive.org/web/20120208090705/http://www.amadeusonline.net/almanacco.php?Start=0&Giorno=16&Mese=04&Anno=1735&Giornata=&Testo=&Parola=Stringa |archive-date=8 फ़रवरी 2012 |url-status=live }}</ref> के कलाकार
|-
|आल्चीना, ''एक मायाविनी''
 
=== तृतीय अंक ===
मोर्गाना फ़िर से ओरोन्टे से अपना संबन्ध जोड़ने की इच्छा से उसके पास जाती है। ओरोन्टे उसे झिड़क देता है; परन्तु मोर्गाना के दूर जाते ही स्वीकार करता है कि वह अभी भी मोर्गाना से प्रेम करता है। रुजीयेरो फिर से अपना योद्धोचित स्वाभिमान प्राप्त करता है और उच्च श्रृंगों के साथ एक भाव-गीत गाता है। आल्चीना ओबेर्टो को एक सिंह से मिलाती है और उसे सिंह का वध करने की आज्ञा देती है। ओबेर्टो उस सिंह से एक विचित्र संबन्ध का अनुभव करता है और आल्चीना की आज्ञा मानने से इनकार कर देता है। वह समझ जाता है कि यह सिंह अवश्य ही उसका पिता है, जिसे आल्चीना ने अपनी माया से पशु-रुप में परिवर्तित कर दिया है।<ref name="libretto">[{{Cite web |url=http://www.emihosting.com/ms/publicsites/pdfrepository/1649904.pdf |title=हैरिअट मेसन (अंग्रेज़ी: ''Harriet Mason'') द्वारा अनूदित लिब्रेटो] |access-date=27 मई 2012 |archive-url=https://web.archive.org/web/20120913083950/http://www.emihosting.com/ms/publicsites/pdfrepository/1649904.pdf |archive-date=13 सितंबर 2012 |url-status=dead }}</ref>
 
ब्रादामान्टे और रुजीयेरो आल्चीना और मोर्गाना की माया के स्रोत, जिसका निरुपण यहाँ पर एक कलश के रूप में किया गया है, को नष्ट करने का निर्णय करते हैं। आल्चीना उनसे ऐसा नहीं करने की प्रार्थना करती है, लेकिन रुजीयेरो उसके आग्रहों का तिरस्कार कर माया-कलश को नष्ट कर देता है। उसके ऐसा करते ही अकस्मात् चारों ओर विनाश और पुनर्निमाण एक साथ ही प्रारंभ हो जाते हैं। आल्चीना का माया-महल ध्वस्त हो जाता है और मायाविनी बहनें आल्चीना और मोर्गाना धरती में समा जाती हैं। उनके जादू के ज़ोर से रुपांतरित उनके अनेकों पुराने प्रेमी अपने असली रूप में लौट आते हैं: आल्चीना द्वारा ओबेर्टो को दिखाया गया सिंह उसके पिता आस्तोल्फ़ो में बदल जाता है। आल्चीना और मोर्गाना के मायाजाल से छूटे कई अन्य पुरुष उन जादूगरनी बहनों द्वारा उन्हें दी गई मायावी प्रताड़ना का वर्णन करते हैं: उन दोनों ने अपने जादू से किसी को शिला, किसी को वृक्ष और किसी को तो केवल एक समुद्री लहर में बदल दिया था। सभी मनुष्य आल्चीना और मोर्गाना को भुला कर अपनी मुक्ति और प्रसन्नता का उत्सव मनाते हैं।<ref name="libretto"/>
1,14,802

सम्पादन