"कुशीनगर" के अवतरणों में अंतर

203 बैट्स् नीकाले गए ,  1 माह पहले
Naveen jankari
(Rescuing 13 sources and tagging 0 as dead.) #IABot (v2.0.1)
(Naveen jankari)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
 
''यह पृष्ठ कुशीनगर नामक स्थान के बारे में है जो एक ऐतिहासिक क्षेत्र है। भारतीय इतिहास में कुशीनगर का महत्वपूर्व स्थान है साथ ही इस स्थान का प्राचीन नाम कुशावती है। इसे मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम के ज्येष्ठ पुत्र कुश ने बसाया था। उन्ही कुश के वंशजो को आज कुशवाहा कच्छवाह के नाम से जाना जाता है। यह स्थान गौतम बुद्ध के परिनिर्वाण स्थल के रूप में भी प्रसिद्ध है। प्रशासनिक जनपद के लिये देखें '''[[कुशीनगर जिला]]'''''
 
----
त्रेतायुग में भगवान राम के दो पुत्र लव और कुश थे, जिसमे कुश के द्वारा ही इस प्राचीन नगरी कुशावती को बसाया गया था। [[वाल्मीकि रामायण]] में कुश के द्वारा कुशावती नगर के निर्माण का वर्णन मिलता है। आज वर्तमान में उन्ही कुश के वंशज [[कुशवाहा]] [[कच्छवाह]] नाम से प्रसिद्ध है।
 
यह [[बौद्ध धर्म|बौद्ध]] [[तीर्थस्थान|तीर्थस्थल]] है जहाँ [[गौतम बुद्ध]] का [[महापरिनिर्वाण]] हुआ था। कुशीनगर, [[राष्ट्रीय राजमार्ग २८ (भारत)|राष्ट्रीय राजमार्ग २८]] पर [[गोरखपुर]] से लगभग ५० किमी पूरब AVN nitua jalalpur se में स्थित है। यहाँ अनेक सुन्दर बौद्ध मन्दिर हैं। इस कारण से यह एक अन्तरराष्ट्रीय पर्यटन स्थल भी है जहाँ विश्व भर के बौद्ध तीर्थयात्री भ्रमण के लिये आते हैं। कुशीनगर कस्बे के और पूरब बढ़ने पर लगभग २० किमी बाद [[बिहार]] राज्य आरम्भ हो जाता है।
 
यहाँ बुद्ध स्नातकोत्तर महाविद्यालय, बुद्ध इण्टरमडिएट कालेज, प्रबुद्ध सोसाइटी ,भिक्षु संघ , प्रबुद्ध एक्युप्रेशर सेन्टर, चन्दमणि निशुल्क पाठशाला, महर्षि अरविन्द विद्या मंदिर तथा कई छोटे-छोटे विद्यालय भी हैं। कुशीनगर के आस-पास का क्षेत्र मुख्यत: कृषि-प्रधान है। जन-सामन्य की बोली [[भोजपुरी भाषा|भोजपुरी]] है। यहाँ [[गेहूँ]], [[धान]], [[गन्ना]] आदि मुख्य फसलें पैदा होतीं हैं।
बेनामी उपयोगकर्ता