"बिश्नोई" के अवतरणों में अंतर

26 बैट्स् जोड़े गए ,  4 माह पहले
छो
बिश्नोई समाज शब्द सुधार किया हैं पढ़ने में थोड़ा सुविधा होगी लेखनी सुधार किया हैं
छो (बिश्नोई शब्द जोड़ कर सुधार किया हैं पढ़ने में थोड़ा सुविधा होगी लेखनी सुधार किया हैं)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन यथादृश्य संपादिका उन्नत मोबाइल सम्पादन
छो (बिश्नोई समाज शब्द सुधार किया हैं पढ़ने में थोड़ा सुविधा होगी लेखनी सुधार किया हैं)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन यथादृश्य संपादिका उन्नत मोबाइल सम्पादन
==खेजड़ली बलिदान==
[[चित्र:राष्ट्रीय पर्यावरण शहीदी स्मारक खेजडली, जोधपुर .jpg|thumb|250px|खेजड़ली बलिदान स्मारक, जोधपुर।]]
एक घटना थी जिसमें सितंबर 1730 में जोधपुर के निकट [[खेजड़ली]] ग्राम में अमृता देवी बिश्नोई के नेतृत्व में खेजड़ी के वृक्षों की रक्षा के लिए तत्पर बिश्नोई पंथ समाज के 363 बिश्नोई लोगों ने अपने प्राणों का बलिदान दिया। मारवाड़ के राजा के लिए महल बनाए जाने हेतु पेड़ काटने के आदेश का अनुपालन कराने में मारवाड़ के राजा के सैनिकों द्वारा यह हत्याकांड किया गया।<ref name="Sahū2002">{{cite book|author=Banavārī Lāla Sahū|title=Paryāvaraṇa saṃrakshaṇa evaṃ Khejaṛalī balidāna|url=https://books.google.com/books?id=TtXaAAAAMAAJ|year=2002|publisher=Bodhi Prakāśana}}</ref>।
यह विश्व भर में वृक्षों को बचाने के लिए अद्वितीय और सर्वोच्च बलिदान है।<ref> Book Name-jambh jyoti।RNI-57294/92। September 2013। Page-16To22। साहबराम राहड़ कृत खेजड़ली बलिदान कथा।दौहा। चौपाई।सोरठा।
 
216

सम्पादन