"वृन्दावन": अवतरणों में अंतर

183 बाइट्स जोड़े गए ,  2 वर्ष पहले
Rescuing 1 sources and tagging 0 as dead.) #IABot (v2.0.1
No edit summary
(Rescuing 1 sources and tagging 0 as dead.) #IABot (v2.0.1)
 
== प्राचीन वृन्दावन ==
कहते है कि वर्तमान वृन्दावन असली या प्राचीन वृन्दावन नहीं है। श्रीमद्भागवत के वर्णन तथा अन्य उल्लेखों से जान पड़ता है कि प्राचीन वृन्दावन गोवर्धन के निकट था। गोवर्धन-धारण की प्रसिद्ध कथा की स्थली वृन्दावन पारसौली (परम रासस्थली) के निकट था। अष्टछाप कवि महाकवि सूरदास इसी ग्राम में दीर्घकाल तक रहे थे। सूरदास जी ने वृन्दावन रज की महिमा के वशीभूत होकर गाया है-हम ना भई वृन्दावन रेणु।<ref>{{Cite web|url=https://www.amarujala.com/spirituality/religion/bake-bihari-vrindavan-story|title=इस तरह प्रकट हुआ था वृंदावन के बांके बिहारी जी का विग्रह|website=Amar Ujala|language=hi|access-date=2020-07-08|archive-url=https://web.archive.org/web/20171117181220/http://www.amarujala.com/spirituality/religion/bake-bihari-vrindavan-story|archive-date=17 नवंबर 2017|url-status=live}}</ref>
== ब्रज का हृदय ==
1,17,605

सम्पादन