"चम्बल नदी" के अवतरणों में अंतर

1 बैट् नीकाले गए ,  4 माह पहले
छो
157.37.250.5 (वार्ता) के 1 संपादन वापस करके Nilesh shuklaके अंतिम अवतरण को स्थापित किया (ट्विंकल)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
छो (157.37.250.5 (वार्ता) के 1 संपादन वापस करके Nilesh shuklaके अंतिम अवतरण को स्थापित किया (ट्विंकल))
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
'''महानदी चर्मराशेरूत्क्लेदात् ससृजेयतःततश्चर्मण्वतीत्येवं विख्याता स महानदी'''।
 
कालिदास ने भी मेघदूत-पूर्वमेघ 47 में चर्मण्वती नदी को रंतिदेव की कीर्ति का aमूर्तमूर्त स्वरूप कहा गया है-
 
<poem>आराध्यैनं शदवनभवं देवमुल्लघिताध्वा,