"सेल्युकस प्रथम निकेटर" के अवतरणों में अंतर

सम्पादन सारांश रहित
टैग: Non Hindi Contributions
{{बंद सिरा}}
{{स्रोतहीन}}
 
{{Infobox royalty
| image = Seleuco I Nicatore.JPG
| caption = A Roman copy of a Greek statue of Seleucus I found in [[Herculaneum]]. Now located at the [[Naples National Archaeological Museum]].
| succession = [[Basileus]] of the [[Seleucid Empire]]
| reign = 305<ref>Boiy "The Reigns of the Seleucid Kings According the Babylonian King List." ''Journal of Near Eastern Studies'' 70(1) (2011): 1–12.</ref> – September 281 BC
| predecessor = [[Alexander IV of Macedon]]
| successor = [[Antiochus I Soter]]
| birth_date = c. 358 BC
| birth_place = [[Europos (Macedonia)|Europos]], [[Macedonia (ancient kingdom)|Macedon]]
| death_date = September 281 BC (aged c. 77)
| death_place = [[Thrace]]
| spouse = {{plainlist|
*[[Apama|Apama of Sogdiana]]
*[[Stratonice of Syria]]}}
| issue = {{plainlist|
*Apama
*[[Antiochus I Soter]]
*[[Achaeus (son of Seleucus I Nicator)|Achaeus]]
*[[Phila (daughter of Seleucus)|Phila]]
*Helena{{sfn|Kosmin|2014|p=33–34}}}}
| house = [[List of Seleucid rulers|Seleucid dynasty]]
| house-type = Dynasty
| father = [[Antiochus (father of Seleucus I Nicator)|Antiochus]]
| mother = [[Laodice of Macedonia|Laodice]]
| religion = [[Ancient Greek religion|Greek polytheism]]
}}
'''सेल्युकस एक्सजाइट निकेटर''' एलेग्जेंडर (सिकन्दर) के सबसे योग्य सेनापतियों में से एक था जो उसकी मृत्यु के बाद भारत के विजित क्षेत्रों पर उसका उत्तराधिकारी बना। वह सिकन्दर द्वारा जीता हुआ भू-भाग प्राप्त करने के लिए उत्सुक था। इस उद्देश्य से ३०५ ई. पू. उसने भारत पर पुनः चढ़ाई की। सम्राट चन्द्रगुप्त ने पश्‍चिमोत्तर भारत के यूनानी शासक सेल्यूकस निकेटर को पराजित कर एरिया (हेरात), अराकोसिया (कंधार), जेड्रोसिया पेरोपेनिसडाई (काबुल) के भू-भाग को अधिकृत कर विशाल मौर्य साम्राज्य की स्थापना की। चंद्रगुप्त से 500 हाथी लेने के बाद,सेल्यूकस ने अपनी पुत्री हेलन का विवाह चन्द्रगुप्त से कर दिया। उसने मेगस्थनीज को राजदूत के रूप में चन्द्रगुप्त मौर्य के दरबार में नियुक्‍त किया। कुछ समय पश्चात सेल्यूकस ने अपने राजदूत मेगास्टेनिस को पाटलिपुत्र में रहने और [[चंद्रगुप्त मौर्य]] कि शासन के बारे में इंडिका नाम की एक किताब लिखने के लिए भेजा।
{{आधार}}
बेनामी उपयोगकर्ता