"चेतक" के अवतरणों में अंतर

56 बैट्स् नीकाले गए ,  2 माह पहले
छो
59.99.203.232 (वार्ता) के 1 संपादन वापस करके 1997kBके अंतिम अवतरण को स्थापित किया (ट्विंकल)
(Important wordings and therefore poetry missing in stanza 6.)
छो (59.99.203.232 (वार्ता) के 1 संपादन वापस करके 1997kBके अंतिम अवतरण को स्थापित किया (ट्विंकल))
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
:किस अरि मस्तक पर कहाँ नहीं
|
:कौशल दिखलाया चालों में
:उड़ गया भयानक भालों में
:निर्भीक गया वह ढालों में
:सरपट दौडा करबालों में
:फँस गया शत्रु की चालों में
 
:बढ़ते नद सा वह लहर गया