"बकरीद" के अवतरणों में अंतर

31 बैट्स् जोड़े गए ,  1 माह पहले
नाम में सुधार किया गया
छो (SM7 ने ईद-उल-अज़हा पृष्ठ बकरीद पर स्थानांतरित किया: प्रचलित हिंदी नाम)
(नाम में सुधार किया गया)
{{Infobox holiday
|holiday_name = ईद उल-अज़हाबकरीद
|image = Eid Blessings WDL6855.png
|caption = ईद-उल-अज़हा
{{इस्लामी संस्कृति}}
 
'''ईद-उल-अज़हा (बकरीद)''' (अरबी में '''عید الاضحیٰ'''; ईद-उल-अज़हा अथवा ईद-उल-अद्'हा - जिसका मतलब क़ुरबानी की ईद) [[इस्लाम]] धर्म में विश्वास करने वाले लोगों का एक प्रमुख त्यौहार है। रमजान के पवित्र महीने की समाप्ति के लगभग ७० दिनों बाद इसे मनाया जाता है। इस्लामिक मान्यता के अनुसार हज़रत इब्राहिम अपने पुत्र हज़रत इस्माइल को इसी दिन खुदा के हुक्म पर खुदा कि राह में कुर्बान करने जा रहे थे, तो अल्लाह ने उसके पुत्र को जीवनदान दे दिया जिसकी याद में यह पर्व मनाया जाता है।
इस शब्द का बकरों से कोई संबंध नहीं है। न ही यह उर्दू का शब्द है। असल में अरबी में 'बक़र' का अर्थ है बड़ा जानवर जो जि़बह किया (काटा) जाता है। उसी से बिगड़कर आज भारत, पाकिस्तान व बांग्ला देश में इसे 'बकरा ईद' बोलते हैं। ईद-ए-कुर्बां का मतलब है बलिदान की भावना। अरबी में 'क़र्ब' नजदीकी या बहुत पास रहने को कहते हैं मतलब इस मौके पर अल्लाह् इंसान के बहुत करीब हो जाता है। कुर्बानी उस पशु के जि़बह करने को कहते हैं जिसे 10, 11, 12 या 13 जि़लहिज्ज (हज का महीना) को खुदा को खुश करने के लिए ज़िबिह किया जाता है। कुरान में लिखा है : हमने तुम्हें हौज़-ए-क़ौसा दिया तो तुम अपने अल्लाह के लिए नमाज़ पढ़ो और कुर्बानी करो।<br /><ref>{{Cite web |url=http://navbharattimes.indiatimes.com/other/sunday-nbt/special-story/-/articleshow/10627860.cms |title=संग्रहीत प्रति |access-date=28 सितंबर 2015 |archive-url=https://web.archive.org/web/20150928124452/http://navbharattimes.indiatimes.com/other/sunday-nbt/special-story/-/articleshow/10627860.cms |archive-date=28 सितंबर 2015 |url-status=live }}</ref>