"अनुभूति" के अवतरणों में अंतर

632 बैट्स् जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
छायावाद काल के आरंभ अर्थात 1915 ई में ही शुक्ल जी ने [[नागरी प्रचारिणी पत्रिका]] में एक निबंध लिखा था- भाव या मनोविकार। इसमें उन्होंने अनुभूति को [[सहजात]] कहा है। यह जन्मना होती है। नाना विषयों के बोध का विधान होने पर ही उन से संबंध रखने वाली इच्छा की अनुरूपता के अनुसार अनुभूति के भिन्न-भिन्न योग संगठित होते हैं जो भाव या मनोविकार कहलाते हैं। अनुभूति मुलत: का सुखात्मा या दुखात्मक होती है।<ref>
https://archive.org/download/in.ernet.dli.2015.539047/2015.539047.Chintamani-Bhag.pdf</ref> अचार्य शुक्ल [[रति]], [[उत्साह]] आदि को [[मन]] की सुखात्मक अनुभूति और [[क्रोध]], [[भय]], [[शोक]] आदि विकारों को मन की दुखात्मक अनुभूति के रूप में स्वीकार करते हैं।
 
जहां तक [[कविता]] का संबंध है इस क्षेत्र में अनुभूति शब्द का व्यापक प्रयोग किया जाता है भावानुभूति, रसानुभूति, लौकिक अनुभूति, अलौकिक अनुभूति, प्रत्यक्षानुभूति, समानानुभूति, रहस्यानुभूति, काव्यानुभूति आदि अनेक रूपों में इसका प्रयोग मिलता है।
== इन्हें भी देखें ==
* [[अवगम|बोध]]