"संधि शोथ" के अवतरणों में अंतर

358 बैट्स् नीकाले गए ,  4 माह पहले
(→‎सन्दर्भ: गठिया रोग या जोड़ो का दर्द क्या है ?)
संधिशोथ में रोगी को आक्रांत संधि में असह्य पीड़ा होती है, नाड़ी की गति तीव्र हो जाती है, ज्वर होता है, वेगानुसार संधिशूल में भी परिवर्तन होता रहता है। इसकी उग्रावस्था में रोगी एक ही आसन पर स्थित रहता है, स्थानपरिवर्तन तथा आक्रांत भाग को छूने में भी बहुत कष्ट का अनुभव होता है। यदि सामयिक उपचार न हुआ, तो रोगी खंज-लुंज होकर रह जाता है। संधिशोथ प्राय: उन व्यक्तियों में अधिक होता है जिनमें रोगरोधी क्षमता बहुत कम होती है। स्त्री और पुरुष दोनों को ही समान रूप से यह रोग आक्रांत करता है।
 
== रूमेटाइड आर्थराइटिस (गठिया वात) के कारण ) https://www.myupchaars.com/2020/02/arthritis.html ==
<nowiki>*</nowiki> चोट के कारण आर्थराइटिस !
 
<nowiki>*</nowiki> जीन के कारण आयी परिवर्तन से आर्थराइटिस !
 
<nowiki>*</nowiki> शरीर का वजन एवं मोटापा बढ़ना !
 
<nowiki>*</nowiki> रोज के दिनचर्या में होने वाले काम जैसे - आफिस में ज्यादा देर तक बैठने से , बैठने का सही तरीका न होने के कारण !
 
बेनामी उपयोगकर्ता