"कलि संवत" के अवतरणों में अंतर

691 बैट्स् नीकाले गए ,  1 वर्ष पहले
Saroj Uprety (वार्ता) के अवतरण 4331746पर वापस ले जाया गया : - (ट्विंकल)
छो (Jagdish Bharvad (Talk) के संपादनों को हटाकर 182.73.121.14 के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
(Saroj Uprety (वार्ता) के अवतरण 4331746पर वापस ले जाया गया : - (ट्विंकल))
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
{{स्रोतहीन|date=सितंबर 2014}}
 
'''कलियुग संवत ''' भारत का प्राचीन संवत है जो [[३१०२ ईसा पूर्व|३१०२ ईपू]] से आरम्भ होता है। इस संवत की शुरुआत पांडवो के द्वारा अर्जुन के पौत्र परिक्षीतपुत्र को सिँहासनारुढ़ करके स्वयं हिमालय की और प्रस्थान करने एंव भगवान श्रीकृष्ण के वैकुण्ठ जाने से मानी जाती है। कलियुग का अंत अन्य संवत
कलीयुग संवत १७२०९९ में भगवान विष्णु के कल्कि अवतार होने और पापी मनुष्य का अंत करने के बाद फिर से सतयुग आएगा ऐसा गुजरात के देवायत पंडित की भविष्यवाणी में लिखा गया है । अन्यय संवत
 
* [[प्राचीन सप्तर्षि संवत|प्राचीन सप्तर्षि]] ६६७६ ईपू
* [[सप्तर्षि संवत]] ३०७६ ईपू
* [[विक्रम संवत|विक्रमी संवत]] ५७ ईपू
* [[शक संवत]] ७८
 
 
{{आधार}}
वेद व्यास रचित महाभारत