"जारखी जनपद फिरोजाबाद" के अवतरणों में अंतर

छो
टैग {{अस्पष्ट}} और {{अविश्वसनीय स्रोत}} टैग ({{Multiple issues}}) में लेख में जोड़ा जा रहा (ट्विंकल)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन उन्नत मोबाइल सम्पादन
छो (टैग {{अस्पष्ट}} और {{अविश्वसनीय स्रोत}} टैग ({{Multiple issues}}) में लेख में जोड़ा जा रहा (ट्विंकल))
 
{{Multiple issues|
{{अस्पष्ट|date=अगस्त 2020}}
{{अविश्वसनीय स्रोत|date=अगस्त 2020}}
}}
जनपद फिरोजाबाद के अंतर्गत एक ग्राम है मुस्लिम काल में जारखी नाम से जाट ताल्लुका प्रसिद्ध था। यह स्थान टूंडला स्टेशन से 4 मील पूर्वोत्तर में है। जिस समय भरतपुर लार्ड लेक चढ़कर आया था अर्थात् सन् 1803 में जारखी के सुन्दरसिंह और दिलीपसिंह के पास 41 गांव थे। पहले इनका सम्बन्ध भरतपुर और मराठों से रहा था। मुगल हाकिमों से भी इनका ताल्लुक रहा होगा। सन् 1816 और 1820 के बीच डेहरीसिंह जो कि दलीपसिंह के पोते थे, इस रियासत के मालिक थे। उन्होंने सरकारी मालगुजारी बन्द कर दी। इसलिए रियासत हाथरस के राजा दयासिंह जी के पास चली गई। किन्तु जब अंग्रेजों और दयारामसिंह में खटकी तो सरकार ने यह रियासत डेहरीसिंह के पुत्र जुगलकिशोरसिंह को वापस कर दी। अब ठाकुर शिवकरनसिंह और भगवानसिंह जी इस खानदान के मालिक थे। कुंवर शिवपालसिंह जी ने अपना हिस्सा अलग करा लिया था। पंजाब की बेर रियासत के साथ, जो कि सिख-जाटों की जिला लुधियाना में छोटी-सी स्टेट थी,
==संदर्भ==