"श्लेष अलंकार" के अवतरणों में अंतर

511 बैट्स् नीकाले गए ,  1 वर्ष पहले
छो
2409:4064:2EAC:D2AB:39DB:8727:1CA5:EBD7 (Talk) के संपादनों को हटाकर 2409:4052:2E9E:4D83:0:0:38CB:B209 के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
(→‎सन्दर्भ: छोटा सा सुधार किया।)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल एप सम्पादन Android app edit
छो (2409:4064:2EAC:D2AB:39DB:8727:1CA5:EBD7 (Talk) के संपादनों को हटाकर 2409:4052:2E9E:4D83:0:0:38CB:B209 के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
===परिभाषा===
जहाँ किसी शब्द का प्रयोग एक ही बार हो लेकिन उसके अनेक अर्थ निकलते हैं, वहाँ श्लेष अलंकार होता है।
===उदाहरण===
;उदाहरण १
S
 
{{cquote|''चरण धरत चिंता करत, चितवत चारहु ओर।kbi<br>'''सुबरन''' को खोजत फिरत, कवि, व्यभिचारी, चोर।''}}
 
 
[[श्रेणी:अलंकार]]
[[श्रेणी:हिन्दी साहित्य]]मे विभावाना अंलकार अच्छा अंलकार है
[[श्रेणी:हिन्दी साहित्य]]जैसा की आपने देखा उपरोक्त वाक्यों में एक ही शब्द से अनेक अर्थ निकल रहे हैं अतः ये सारे उदाहरण श्लेष अलंकार के अंतर्गत आएँगे।