"वास्तुकला": अवतरणों में अंतर

4,793 बैट्स् नीकाले गए ,  1 वर्ष पहले
छो
Aihindia (Talk) के संपादनों को हटाकर InternetArchiveBot के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
छो (Aihindia (Talk) के संपादनों को हटाकर InternetArchiveBot के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
 
आधुनिक वास्तुकला का और व्यापक अर्थों में, वास्तुकला का विकास विन्यास की संरचनात्मक आवश्यकताओं और उपलब्ध सामग्री की सौंदर्यसंभावनाओं द्वारा प्रस्तुत प्रतिबंधों की उपस्थिति में सुंदरता के लिए खोज और संघर्ष के फलस्वरूप हुआ है। जब इनके फलस्वरूप किसी रचना की सृष्टि होती है, तब ऐसा लगता है कि आज की वास्तुकला भारी रचनाओं और आवृत्तियों के रूप में व्यक्त मूर्तिकला ही है। यदि इस संदर्भ में देखे तो वास्तुकला व्यक्ति के अपने सर्जक मन की संपूर्ण एवं सुविकसित रचना होनी चाहिए, जो स्वयंभू के उच्च स्तर तक पहुँचती है।
 
== आर्किटेक्चर की विभिन्न शैली ==
Architecture में कई प्रकार की शैली (Style) होती है, जिन में से कुछ प्रमुख Architecture शैली के meaning Hindi में इस प्रकार है।
 
# Modern Architecture – Modern architecture, या modernist architecture, construction की नई तकनीकों पर आधारित है। विशेषता ग्लास, स्टील तथा कंक्रीट के उपयोग पर। यह २०वीं शताब्दी के मध्य में सामने आया तथा द्वितीय विश्व युद्ध के बाद 1980 के दशक तक प्रभावी रहा। बाद में इसे कॉर्पोरेट तथा एजुकेशनल जैसी बड़ी बिल्डिंग्स लिए अपना लिया गया।
# Gothic Architecture – गोथिक आर्किटेक्चर यूरोप में उच्च तथा स्वर्गीय मध्य काल में उभरी। यह रोमनस्क वास्तुकला से विकसित हुई तथा Renaissance architecture, तक सफल हुई तथा धीरे धीरे 16 वी शताब्दी तक इसकी लोकप्रियता समाप्त होने लगी।
# Temple Architecture / मंदिर वास्तुकला – हिंदू मंदिरों के निर्माण की शुरुआत गुप्त काल या गुप्त वंश में हुई थी। गुप्त वंश के लोग ही पहले वास्तुकार थे, जिन्होंने हिंदू मंदिरों के (लेकिन कभी-कभी बौद्धों) निर्माण का कार्य किया, तथा ये कला रॉक-कट मंदिरों (Rock-cut Temple) की परंपरा से विकसित (evolved) हुई थी। (गुप्त वंश, में चंद्रगुप्त प्रथम ने चौथी से छटवी शताब्दी के बीच उत्तर मध्य भारत में शासन किया था, तथा इस अवधि को ही कलात्मक उपलब्धि के साथ ‘भारत का स्वर्ण युग’ भी माना जाता है। इस अवधि के दौरान ब्राह्मणवाद को पुनर्जीवित किया गया तथा, धार्मिक भावना के फलस्वरूप मंदिरों का निर्माण कार्य हुआ।
# Vernacular Architecture – सामन्यता वर्नाकुलर आर्किटेक्चर बिना किसी पेशेवर आर्चीटेक्ट्स की मदद से स्थानीय सामग्री तथा ज्ञान पर आधारित वास्तुकला है। वर्नाकुलर आर्किटेक्चर में परम्परागत निर्माण की विधियों की विस्तृत श्रृंखला का समायोजन होता है जो बहुत ही सरल और व्यावहारिक होती हैं।
# Mughal Architecture – मुगल वास्तुकला मुगलों द्वारा विकसित भारतीय-इस्लामी वास्तुकला का एक प्रकार है, यह वास्तुकला 16 वीं, से 18 वीं शताब्दी में अपने चरम पर आई। इस शैली के उदाहरण आधुनिक भारत, अफगानिस्तान, बांग्लादेश और पाकिस्तान में देखे जा सकते हैं
 
इसके अलावा कुछ अन्य आर्किटेक्चर शैली जैसे Classical, Romanesque, Roman, Ancient Greek, Sustainable architecture आदि भी है।[https://www.architectureinhindi.com/architecture-meaning-in-hindi/]
 
 
 
== इन्हें भी देखें ==
 
== बाहरी कड़ियाँ ==
* [https://www.architectureinhindi.com/architecture-meaning-in-hindi/ आर्किटेक्चर का हिंदी में अर्थ]
* [https://web.archive.org/web/20121215050056/http://books.google.co.in/books?id=ia0zdafBG4kC&printsec=frontcover#v=onepage&q&f=false सम्पूर्ण वास्तुशास्त्र] (गूगल पुस्तक ; लेखक - डॉ भोजराज द्विवेदी)
* [https://web.archive.org/web/20140109094811/http://www.kalpana.it/hindi/kala/vaastushilp_sabhayata.htm वास्तुशिल्प और सभ्यता] (कल्पना)