"त्रिपुरा का इतिहास" के अवतरणों में अंतर

सुधार कर लेख पूर्ण किया।
("History of Tripura" पृष्ठ का अनुवाद करके निर्मित किया गया)
 
(सुधार कर लेख पूर्ण किया।)
 
[[चित्र:Bengal_gazetteer_1907-9.jpg|अंगूठाकार| बंगाल गजेटियर, 1907 में 'हिल टिप्पर' ]]
[[चित्र:Unakotiswara_Kal_Bhairava,Unakoti_(_ঊনকোটি).JPG|अंगूठाकार| उनाकोटि में चट्टानों पर बने कलाकृति ]]
{{Kingdom of Tripura}} [[त्रिपुरा]] राज्य का एक लंबा इतिहास रहा है। [[त्विपरा साम्राज्य]] 14 वीं14वीं और 15 वीं15वीं शताब्दी ईस्वी पूर्व के दौरान अपने चरम पर [[बंगाल]] के पूरे पूर्वी क्षेत्र में, उत्तर और पश्चिम में [[ब्रह्मपुत्र नदी]] तक, दक्षिण [[बंगाल की खाड़ी|में बंगाल]] की [[बंगाल की खाड़ी|खाड़ी]] तक और पूर्व में [[म्यान्मार|बर्मा]] तक फैला हुआ था।
 
त्रिपुरा की [[ब्रिटिश भारत में रियासतें|रियासत]] के अंतिम शासक किरीत बिक्रम किशोर माणिक्य बहादुर देबबर्मा थे, जिन्होंने 1947 से 1949 तक [[अगरतला]] पर शासन किया था, जिसके बाद 9 सितंबर 1949 को रियासत को [[भारत|भारत गणराज्य]] में विलय कर दिया गया था और प्रशासन 15 अक्टूबर 1949 को हस्तांतरित कर दिया गया था।<ref>{{Cite web|url=http://northtripura.nic.in/history.htm|title=History|publisher=North Tripura district website|archive-url=https://web.archive.org/web/20100215132540/http://northtripura.nic.in/history.htm|archive-date=15 February 2010|access-date=2009-11-11}}</ref>
 
== प्राचीन काल ==
प्राचीन काल 7वीं शताब्दी के आसपास का कहा जा सकता है जब त्रिपुरी राजाओं ने [[उत्तर त्रिपुरा ज़िला|उत्तर त्रिपुरा]] में [[कैलाशहर]] से शासन किया और उन्होंने अपने शीर्षक के रूप में " '''फा''' " का उपयोग किया; [[कोक बोरोक भाषा|कोकबोरोक]] में "'''फा'''" का अर्थ "'''पिता'''" या " '''मुखिया''' " होता है।
 
== मध्यकालीन युग ==
 
== आधुनिक काल ==
[[चित्र:Bengal_gazetteer_1907-9.jpg|अंगूठाकार| बंगाल गजेटियर, 1907 में 'हिल टिप्पर' ]]
आधुनिक काल [[मुग़ल साम्राज्य|मुगलों]] द्वारा राज्य के प्रभुत्व के बाद शुरू होता है और आगे अंग्रेजों द्वारा [[मुग़ल साम्राज्य|मुगलों]] को हराने के बाद ब्रिटिश भारत के रूप में होता है।
 
 
== सन्दर्भ ==
{{टिप्पणीसूची}}
 
=== ग्रन्थसूची ===
* {{Cite book|title=Progressive Tripura|last=Bhattacharya|first=Apurba Chandra|publisher=Sudha Press, Calcutta|year=1930|isbn=|location=|pages=|ref={{sfnref|Bhattacharya|1930}}}}
 
* {{Cite book|title=Progressive Tripura|last=Bhattacharya|first=Apurba Chandra|publisher=Sudha Press, Calcutta|year=1930|isbn=|location=|pages=|ref={{sfnref|Bhattacharya|1930}}}}
[[श्रेणी:त्रिपुरा का इतिहास]]