"सोमनाथ मन्दिर" के अवतरणों में अंतर

23 बैट्स् जोड़े गए ,  1 माह पहले
छो
27.63.179.153 (Talk) के संपादनों को हटाकर AshokChakra के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
छो (27.63.179.153 (Talk) के संपादनों को हटाकर AshokChakra के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
यह मंदिर हिंदू धर्म के उत्थान-पतन के इतिहास का प्रतीक रहा है। अत्यंत वैभवशाली होने के कारण इतिहास में कई बार यह मंदिर तोड़ा तथा पुनर्निर्मित किया गया। वर्तमान भवन के पुनर्निर्माण का आरंभ भारत की स्वतंत्रता के पश्चात् लौहपुरुष [[सरदार वल्लभ भाई पटेल]] ने करवाया और पहली दिसंबर 1955 को भारत के राष्ट्रपति [[ डॉ राजेंद्र प्रसाद जी]] ने इसे राष्ट्र को समर्पित किया। सोमनाथ मंदिर विश्व प्रसिद्ध धार्मिक व पर्यटन स्थल है। मंदिर प्रांगण में रात साढ़े सात से साढ़े आठ बजे तक एक घंटे का साउंड एंड लाइट शो चलता है, जिसमें सोमनाथ मंदिर के इतिहास का बड़ा ही सुंदर सचित्र वर्णन किया जाता है। लोककथाओं के अनुसार यहीं श्रीकृष्ण ने देहत्याग किया था। इस कारण इस क्षेत्र का और भी महत्व बढ़ गया।
 
सोमनाथजी के मंदिर की व्यवस्था और संचालन का कार्य सोमनाथ ट्रस्ट के अधीन है। सरकार ने ट्रस्ट को जमीन, बाग-बगीचे देकर आय का प्रबन्ध किया है। यह तीर्थ पितृगणों के [[श्राद्ध]], नारायण बलि आदि कर्मो के लिए भी प्रसिद्ध है। [[चैत्र]], [[भाद्रपद]], [[कार्तिक]] माह में यहां श्राद्ध करने का विशेष महत्व बताया गया है। इन तीन महीनों में यहां श्रद्धालुओं की बडी भीड़ लगती है। इसके अलावा यहां तीन नदियों हिरण, कपिला और सरस्वती का महासंग।महासंगम होता है। इस त्रिवेणी स्नान का विशेष महत्व है।
 
== किंवदंतियॉं ==