"चम्बल नदी" के अवतरणों में अंतर

170 बैट्स् नीकाले गए ,  3 माह पहले
रोहित साव27 के अवतरण 4859256पर वापस ले जाया गया : बर्बरता (ट्विंकल)
(हां)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन यथादृश्य संपादिका
(रोहित साव27 के अवतरण 4859256पर वापस ले जाया गया : बर्बरता (ट्विंकल))
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
'''चंबल नदी''' [[मध्य भारत (पूर्व राज्य)|मध्य भारत]] में [[यमुना नदी]] की [[उपनदी|सहायक नदी]] है। यह नदी "जानापाव पर्वत " बाचू पाईट [[डॉ॰ आम्बेडकर नगर|महू]] से निकलती है। इसका प्राचीन नाम "चरमवाती " है। इसकी सहायक नदिया [[शिप्रा नदी|शिप्रा]], सिंध, [[काली सिन्ध नदी|काली सिन्ध]], ओर [[कुनू नदी]] है। यह नदी भारत में उत्तर तथा उत्तर-मध्य भाग में [[राजस्थान]] के [[कोटा जिला|कोटा]] तथा [[धौलपुर जिला|धौलपुर]], [[मध्य प्रदेश]] के [[धार ज़िला|धार]], [[उज्जैन ज़िला|उज्जैन]], [[रतलाम ज़िला|रतलाम]], [[मंदसौर ज़िला|मन्दसौर]], [[भिंड ज़िला|भिंड]], [[मुरैना ज़िला|मुरैना]] आदि जिलो से होकर बहती है। यह नदी दक्षिण मुड़ कर [[उत्तर प्रदेश]] राज्य में [[यमुना नदी|यमुना]] में शामिल होने के पहले राजस्थान और मध्य प्रदेश के बीच सीमा बनाती है। इस नदी पर चार जल विधुत परियोजना -गांधी सागर, राणा सागर, जवाहर सागर और कोटा बैराज (कोटा)- चल रही है।{{Cn|date=नवम्बर 2019}} प्रसिद्ध ''चूलीय जल प्रपात''चंबल नदी (कोटा) मे है। कुल लंबाई 135।
 
यह एक बारहमासी नदी है। इसका उद्गम स्थल जानापाव की पहाडी (मध्य प्रदेश) है।{{Cn|date=नवम्बर 2019}} यह दक्षिण में महू शहर के, इंदौर के पास, विंध्य रेंज में मध्य प्रदेश में दक्षिण ढलान से होकर गुजरती है। चंबल और उसकी सहायक नदियां उत्तर पश्चिमी मध्य प्रदेश के मालवा क्षेत्र के नाले, जबकि इसकी सहायक नदी, बनास, जो अरावली पर्वतों से शुरू होती है इसमें मिल जाती है। चंबल, कावेरी, यमुना, सिन्धु, पहुज भरेह के पास पचनदा में, उत्तर प्रदेश राज्य में भिंड और इटावा जिले की सीमा पर शामिल पांच नदियों के संगम समाप्त होता है चितोड के पास चुलीया प्रताप हैहै।
 
== अपवाह क्षेत्र==
चंबल के अपवाह क्षेत्र में चित्तौड़, कोटा, बूंदी, सवाई माधौपुर, करौली, धौलपुर इत्यादि इलाके शामिल हैं। तथा सवाई माधोपुर, करौली व धौलपुर से गुजरती हुई राजस्थान व महाराष्ट्रमध्यप्रदेश की सीमा बनाते हुए चलती है जो कि 252 किलोमीटर की है।{{Cn|date=नवम्बर 2017}}20
 
== सहायक नदियां ==
[[बनास नदी]], [[क्षिप्रा नदी]],मेज , बामनी , सीप [[काली सिन्ध नदी|काली सिंध]], [[पार्वती नदी|पार्वती]], छोटी कालीसिंध, [[कुनू नदी|कुनो]], ब्राह्मणी, [[परवन नदी]] इत्यादि चम्बल की सहायक नदियाँ हैं।गदग्गफव्हहफ़्सफग्गगहैं।
 
== मुहाना ==
 
== ग्रन्थों के अनुसार ==
[[महाभारत]] के अनुसार राजा ऋषि नौपुत्रा और सौरभ पुरोहितरंतिदेव के यज्ञों सेमें जो आर्द्र चर्म राशि इकट्ठा हो गई थी उसी से यह नदी उदभुत हुई थी-
 
'''महानदी चर्मराशेरूत्क्लेदात् ससृजेयतःततश्चर्मण्वतीत्येवं विख्याता स महानदी'''।