"राजपूत मुग़ल संबंधों की सूची" के अवतरणों में अंतर

छो
Wikimaster2107 (Talk) के संपादनों को हटाकर सनातनी आर्य के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
(27.61.194.160 (वार्ता) द्वारा किए बदलाव 4900451 को पूर्ववत किया)
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
छो (Wikimaster2107 (Talk) के संपादनों को हटाकर सनातनी आर्य के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न SWViewer [1.4]
{{Multiple issues|
कई राजपूत राजाओं ने मुग़लो की बेटियों से विवाह किया, कई राजपूतो ने मुसलमान शासको को हराकर उनकी पुत्रियों से विवाह किया, ये लिस्ट कुछ नाम उजागर करती है।
{{स्रोत कम|date=अगस्त 2020}}
{{एक स्रोत|date=अगस्त 2020}}
}}
16वीं शताब्दी के मध्यकालीन समय के बाद, कई [[राजपूत]] शासकों ने [[मुगल साम्राज्य | मुगल सम्राटों]] के साथ घनिष्ठ संबंध बनाए और विभिन्न क्षमताओं से उनकी सेवा की।<ref>{{cite book |last=Richards |first=John F. |title=The Mughal Empire |date=1995 |publisher=Cambridge University Press |isbn=978-0-521-25119-8 |pages=22–24}}</ref><ref>{{cite journal |last=Bhadani |first=B. L. |title=The Profile of Akbar in Contemporary Literature |journal=Social Scientist |date=1992 |volume=20 |issue=9/10 |pages=48–53 |doi=10.2307/3517716 |jstor=3517716 }}</ref> राजपूतों के समर्थन के कारण ही [[अकबर]] [[भारत]] में [[मुगल साम्राज्य]] की नींव रखने में सक्षम हुआ था।<ref name="Chaurasia">{{cite book |last=Chaurasia |first=Radhey Shyam |title=History of Medieval India: From 1000 A.D. to 1707 A.D|date=2002 |publisher=Atlantic Publishers & Dist |isbn=978-81-269-0123-4 |pages=272–273}}</ref> राजपूत रईसों ने अपने राजनैतिक उद्देश्यों के लिए [[मुगल]] बादशाहों और उनके राजकुमारों से अपनी बेटियों की शादी करवाई थी।{{sfn|Dirk H. A. Kolff|2002|p=132}}<ref>{{cite book |url=https://books.google.com/books?id=EFI7tr9XK6EC&pg=PA656 |title=The Oxford Encyclopedia of Women in World History |publisher=Oxford University Press |first=Bonnie G. |last=Smith |year=2008 |page=656 |isbn=978-0-19-514890-9 |access-date=11 जुलाई 2020 |archive-url=https://web.archive.org/web/20160902071624/https://books.google.com/books?id=EFI7tr9XK6EC |archive-date=2 सितंबर 2016 |url-status=live }}</ref><ref>{{cite book |url=https://books.google.com/books?id=HHyVh29gy4QC&pg=PA23 |title=The Mughal Empire |publisher=Cambridge University Press |first=John F. |last=Richards |year=1995 |page=23 |isbn=978-0-521-56603-2 |access-date=11 जुलाई 2020 |archive-url=https://web.archive.org/web/20200616131316/https://books.google.com/books?id=HHyVh29gy4QC |archive-date=16 जून 2020 |url-status=live }}</ref><ref>{{cite book |url=https://books.google.com/books?id=B8NJ41GiXvsC&pg=PA174 |title=Domesticity and Power in the Early Mughal World |publisher=Cambridge University Press |first=Ruby |last=Lal |year=2005 |page=174 |isbn=978-0-521-85022-3}}</ref> उदाहरण के लिए, अकबर ने अपने लिए और अपने पुत्रों व पौत्रों के लिए 40 शादियां सम्पन्न कीं, जिनमें से 17 राजपूत-मुगल गठबंधन थे।<ref>{{cite book |url=https://books.google.com/books?id=I5upAgAAQBAJ&pg=PT176 |title=Interrogating International Relations: India's Strategic Practice and the Return of History War and International Politics in South Asia |publisher=Routledge |first=Jayashree |last=Vivekanandan |year=2012 |isbn=978-1-136-70385-0}}</ref> मुगल सम्राट अकबर के उत्तराधिकारी, उनके पुत्र [[जहाँगीर]] और पोते [[शाहजहाँ]] की माताएँ राजपूत थीं।<ref>{{cite book|last1=Hansen|first1=Waldemar|title=The peacock throne : the drama of Mogul India|date=1972|publisher=Motilal Banarsidass|location=Delhi|isbn=978-81-208-0225-4|pages=12, 34|edition=1. Indian ed., repr.}}</ref> मेवाड़ के सिसोदिया राजपूत परिवार ने मुगलों के साथ वैवाहिक संबंधों में नहीं जुड़ने को सम्मान की बात बना दिया और इस तरह से वे अन्य सभी राजपूत कुलों से विपरीत खड़े रहे थे।{{sfn|Barbara N. Ramusack|2004|pp=18–19}} इस समय के पश्चात राजपुतों और मुगलों के बीच वैवाहिक संबंधों में स्थिरता आई।<ref>{{cite book|last1=Chandra|first1=Satish|title=Medieval India: From Sultanat to the Mughals Part-II|url=https://books.google.com/books?id=0Rm9MC4DDrcC&pg=PA124&lpg=PA124&dq=satish+chandra+rajput+mughal+marriage#v=onepage|date=2007|publisher=Har Anand Publications|page=124|access-date=11 जुलाई 2020|archive-url=https://web.archive.org/web/20191223092741/https://books.google.com/books?id=0Rm9MC4DDrcC#v=onepage|archive-date=23 दिसंबर 2019|url-status=live}}</ref> राजपूतों के साथ अकबर के संबंध तब शुरू हुए थे जब वह 1561 में आगरा के पश्चिम में सीकरी के चिस्ती सूफी शेख की यात्रा से लौटा था। तभी बहुत राजपूत राजकुमारियों ने अकबर से शादी रचाई थी।<ref>{{cite book | first= Anthony Reid, | last= David O. Morgan | year=2010| title= The New Cambridge History of Islam: Volume 3, The Eastern Islamic World, Eleventh to Eighteenth Centuries| page=213| publisher= Taylor and Francis| url= https://www.google.com/books/edition/The_New_Cambridge_History_of_Islam_Volum/ANiaBAAAQBAJ?hl=en&gbpv=1&dq=rajput+cambridge&pg=PT437&printsec=frontcover
}}</ref>
 
==राजपूत-मुग़ल वैवाहिक संबंधों की सूची==
===मुख्य राजपूत-मुग़ल वैवाहिक संबंधों की सूची===
* जनवरी 1562, अकबर ने राजा भारमल की बेटी से शादी की. ([[कछवाहा]]-[[आंबेर|अंबेर]])
* कछवाहा मान सिंह ने अकबर की भतीजी से विवाह किया।
* 15 नवंबर 1570, राय कल्याण सिंह ने अपनी भतीजी का विवाह अकबर से किया ([[राठौड़|राठौर]]-[[बीकानेर]])
* कश्मीर के चिब् राजपूत राजा ने बाबर की बेटी से विवाह किया।
* 1570, मालदेव ने अपनी पुत्री रुक्मावती का अकबर से विवाह किया. ([[राठौड़|राठौर]]-[[जोधपुर]])
* छत्रसाल बुंदेला ने निज़ाम की बेटी से विवाह किया।
* 1573, नगरकोट के राजा जयचंद की पुत्री से अकबर का विवाह ([[नगरकोट]])
* बप्पा रावल ने २८ मुसलमान शासको को हराकर उनकी बेटियों से विवाह किया।
* मार्च 1577, डूंगरपुर के रावल की बेटी से अकबर का विवाह ([[गहलोत]]-[[डूंगरपुर]])
* 1581, केशवदास ने अपनी पुत्री का विवाह अकबर से किया ([[राठौड़|राठौर]]-मोरता)
* 16 फरवरी, 1584, राजकुमार सलीम (जहांगीर) का भगवंत दास की बेटी से विवाह ([[कछवाहा]]-[[आंबेर]])
* 1587, राजकुमार सलीम (जहांगीर) का जोधपुर के मोटा राजा की बेटी से विवाह ([[राठौड़|राठौर]]-[[जोधपुर]])
* 2 अक्टूबर 1595, रायमल की बेटी से दानियाल का विवाह ([[राठौड़|राठौर]]-[[जोधपुर]])
* 28 मई 1608, जहांगीर ने राजा जगत सिंह की बेटी से विवाह किया ([[कछवाहा]]-[[आंबेर]])
* 1 फरवरी, 1609, जहांगीर ने राम चंद्र बुंदेला की बेटी से विवाह किया ([[बुंदेला]], [[ओरछा|ओर्छा]])
* अप्रैल 1624, राजकुमार परवेज का विवाह राजा गज सिंह की बहन से ([[राठौड़|राठौर]]-[[जोधपुर]])
* 1654, राजकुमार सुलेमान शिकोह से राजा अमर सिंह की बेटी का विवाह([[राठौड़|राठौर]]-[[नागौर]])
* 17 नवंबर 1661, मोहम्मद मुअज्जम का विवाह किशनगढ़ के राजा रूप सिंह राठौर की बेटी से([[राठौड़|राठौर]]-[[किशनगढ़]])
* 5 जुलाई 1678, औरंगजेब के पुत्र मोहम्मद आजाम का विवाह कीरत सिंह की बेटी से हुआ. कीरत सिंह मशहूर राजा जय सिंह के पुत्र थे. ([[कछवाहा]]-[[आंबेर]])
* 30 जुलाई 1681, औरंगजेब के पुत्र काम बख्श की शादी अमरचंद की बेटी से हुए([[शेखावत]]-[[मनोहरपुरा|मनोहरपुर]])<ref>{{Cite web | url=https://hindi.news18.com/news/nation/shahjahan-was-rajput-not-moghul-1151257.html | title=मुगल नहीं राजपूत थे शाहजहां, ताज पर सवाल क्‍यों? | date=2017-11-01 | website=News18India | access-date=2020-07-12 | archive-url=https://web.archive.org/web/20200514202425/https://hindi.news18.com/news/nation/shahjahan-was-rajput-not-moghul-1151257.html | archive-date=14 मई 2020 | url-status=live }}</ref><ref>{{Cite web | url=https://hindi.news18.com/news/lifestyle/mugal-dynasty-and-army-was-not-only-muslims-but-also-rajput-jat-irani-and-others-1151054.html | title=राजपूत मां का बेटा शाहजहां सिर्फ़ मुसलमान कैसे | date=2017-10-30 | website=News18India | access-date=2020-07-12 | archive-url=https://web.archive.org/web/20200711233327/https://hindi.news18.com/news/lifestyle/mugal-dynasty-and-army-was-not-only-muslims-but-also-rajput-jat-irani-and-others-1151054.html | archive-date=11 जुलाई 2020 | url-status=live }}</ref><ref>{{Cite web|url=https://www.ichowk.in/politics/a-critical-analysis-of-relation-between-mughals-and-rajputs/story/1/8931.html | title=पद्मावती : जिनके लिए लड़ रहे हो वो तो आपस में मौज से रहते थे | date=2017-11-26 | website=iChowk.in | access-date=2020-07-12}}</ref>
 
===अन्य राजपूत-मुसलमान वैवाहिक संबंधों की सूची===
* दीपालपुर के [[भाटी (जाति)|भाटी राजपूत]] शासक परिवार की राजकुमारी का विवाह तुर्क-मुसलमान शासक सालार रजब से हुआ था और उसने [[फिरोज शाह तुगलक]] को जन्म दिया था।<ref>{{cite book |title=A History of Jaipur |first=Jadunath |last=Sarkar |authorlink=Jadunath Sarkar |edition=Reprinted, revised |publisher=Orient Blackswan |year=1994 |origyear=1984 |isbn=978-8-12500-333-5 |url=https://books.google.co.uk/books?id=O0oPIo9TXKcC&pg=PA37 |page=37 |access-date=11 जुलाई 2020 |archive-url=https://web.archive.org/web/20170912193942/https://books.google.co.uk/books?id=O0oPIo9TXKcC&pg=PA37 |archive-date=12 सितंबर 2017 |url-status=live }}</ref>
* अलाउद्दीन खिलजी की बेटी फिरोजा जालोर के युवराज वीरामदेव सोंगरा के प्यार में पागल थी, पर वीरमदेव ने उससे विवाह करने से मना कर दिया।
 
==इन्हें भी देखें==