"हृदय की दर" के अवतरणों में अंतर

1,597 बैट्स् नीकाले गए ,  3 माह पहले
हिंदुस्थान वासी के अवतरण 3893411पर वापस ले जाया गया : प्रचारात्मक वेबसाइट (ट्विंकल)
(हिंदुस्थान वासी के अवतरण 3893411पर वापस ले जाया गया : प्रचारात्मक वेबसाइट (ट्विंकल))
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
[[काल|समय]] की प्रत्येक इकाई में होने वाली ह्रदय की धड़कनों की संख्या को '''ह्रदय की दर''' कहते हैं – इसे धड़कन प्रति मिनट के रूप में व्यक्त किया जाता है – जो शरीर की आक्सीजन का अवशोषण और कार्बन डाई आक्साइड का उत्सर्जन करने की आवश्यकता के अनुसार भिन्न हो सकती है जैसे व्यायाम करने या सोने के समय. ह्रदय की दर के मापन को चिकित्सकों द्वारा रोगों के [[निदान]] और निगरानी के लिये किया जाता है. इसका प्रयोग व्यक्तियों, जैसे एथलीटों, जो अपने अभ्य़ास से अधिकतम लाभ पाने के लिये अपने ह्रदय की दर की निगरानी करने में रुचि रखते हैं, द्वारा भी किया जाता है. '''आर लहर से आर लहर तक का अंतराल ('''आर-आर अंतराल''')''' ह्रदय की दर का उल्टा होता है.
 
ह्रदय की दर को शरीर की [[नाड़ी|नब्ज]] का पता लगा कर मापा जाता है. नब्ज की यह दर शरीर में ऐसे किसी भी बिंदु पर - जहां किसी [[धमनी]] का स्पंदन सतह पर संचरित होता हो – अकसर जब उसे उसके नीचे स्थित हड्डी जैसी किसी रचना के विरूद्ध दबाया जाता है – तर्जनी और बीच की उंगली से दबा कर मापी जा सकती है. किसी भी अन्य व्यक्ति की ह्रदय की दर को मापने के लिये अंगूठे का प्रयोग नहीं करना चाहिये क्यौंकि उसकी शक्तिशाली नब्ज उस स्थान की नब्ज को समझने में रूकावट उत्पन्न कर सकती है.<ref>[http://serendip.brynmawr.edu/sci_edu/waldron/heartrate.html मानव के हृदय दर का विनियमन.] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20070514225223/http://serendip.brynmawr.edu/sci_edu/waldron/heartrate.html |date=14 मई 2007 }} सेरेंदिप. 27 जून 2007 को पुनःप्राप्त.</ref>
ह्रदय की दर को शरीर की [[नाड़ी|नब्जdhdbdbdjdbjh
]] का पता लगा कर मापा जाता है. नब्ज की यह दर शरीर में ऐसे किसी भी बिंदु पर - जहां किसी [[धमनी]] का स्पंदन सतह पर संचरित होता हो – अकसर जब उसे उसके नीचे स्थित हड्डी जैसी किसी रचना के विरूद्ध दबाया जाता है – तर्जनी और बीच की उंगली से दबा कर मापी जा सकती है. किसी भी अन्य व्यक्ति की ह्रदय की दर को मापने के लिये अंगूठे का प्रयोग नहीं करना चाहिये क्यौंकि उसकी शक्तिशाली नब्ज उस स्थान की नब्ज को समझने में रूकावट उत्पन्न कर सकती है.<ref>[http://serendip.brynmawr.edu/sci_edu/waldron/heartrate.html मानव के हृदय दर का विनियमन.] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20070514225223/http://serendip.brynmawr.edu/sci_edu/waldron/heartrate.html |date=14 मई 2007 }} सेरेंदिप. 27 जून 2007 को पुनःप्राप्त.</ref>
 
ह्रदय की दर को मापने के लिये संभावित बिंदु निम्न हैं:
 
== विश्राम के समय ह्रदय की दर ==
'''विश्राम के समय की ह्रदय दर''' (हृदय दर <sub>विश्राम</sub>) किसी व्यक्ति के विश्राम करने के समय मापी गई ह्रदय दर है – जब वह जागृत अवस्था में लेटा हुआ हो और उसके जरा पहले उसने शारीरिक श्रम न किया हो. वयस्कों की विश्राम की स्थिति में आदर्श ह्रदय दर 60-80 धड़कन प्रति मिनट होती है<ref>[http://www.americanheart.org/presenter.jhtml?identifier=4701 हृदय दर का आराम] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20110403100407/http://www.americanheart.org/presenter.jhtml?identifier=4701 |date=3 अप्रैल 2011 }}, अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन</ref>, 60 धड़कन प्रति मिनट से कम होने पर उसे कमस्पंदनता और 100 धड़कन प्रति मिनट से अधिक की दर होने पर हृद्क्षिप्रता कहते हैं. यह ध्यान में रखना चाहिये कि एथलीटों की ह्रदय दर विश्राम के समय अक्सर प्रति मिनट 60 से कम होती है. साइकिल चालक लांस आर्मस्ट्रांग की विश्राम के समय ह्रदय दर 32 प्रति मिनट थी और नियमित व्यायाम करने वाले लोगों में दर 50 प्रति मिनट से कम होना असाधारण नहीं है. अन्य साइकिल चालकों जैसे मिग्येल इंदुरैन<ref>[http://news.bbc.co.uk/sport2/hi/other_sports/cycling/tour_de_france_2004/history/3772501.stm ] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20110127083538/http://news.bbc.co.uk/sport2/hi/other_sports/cycling/tour_de_france_2004/history/3772501.stm |date=27 जनवरी 2011 }},[1991-1995: बिग मिग का मास्टरक्लास, बीबीसी, 3 अगस्त 2004]</ref> और अल्बर्टो काँटाडोर {{Citation needed|date=August 2010}} की विश्रामीय ह्रदय दर 20 से 30 के बीच पाई गई है और अमेरिकन मैराथान प्रत्याशी रयान हाल की ह्रदयगति दर 29 थी.
 
संगीत टेम्पो पद विश्रामीय ह्रदय दर के संबंधित स्तरों को प्रस्तुत करते हैं, ''अडैगियो'' (विश्राम की स्थिति में) 66-77 धड़कन प्रति मिनट, मानव की विश्रामीय ह्रदय दर के समान होती है, जबकि ''लेंटो'' और ''लार्गो'' (धीमा) 40-60 धड़कन प्रति मिनट होते हैं, जो यह दर्शाता है कि ये टेम्पाई सामान्य मानवी ह्रदय दर की तुलना में धीमे होते हैं. इसी तरह, अधिक तेज टेम्पाई श्रम के ऊंचे स्तरों से संबंध रखते हैं, जैसे ''अंदंते'' (चलते समय -76-108 धड़कनें प्रति मिनट) और उसके समान.
|date=2001-04-24
|publisher=[[New York Times]]
|url=http://query.nytimes.com/gst/fullpage.html?res=9C04EFDD1F30F937A15757C0A9679C8B63}}</ref>
|access-date=23 नवंबर 2010
|archive-url=https://web.archive.org/web/20090218104324/http://query.nytimes.com/gst/fullpage.html?res=9C04EFDD1F30F937A15757C0A9679C8B63
|archive-date=18 फ़रवरी 2009
|url-status=live
}}</ref>
20 वर्ष के ओलिम्पिक नाविकों जैसी एकमात्र विशिष्ट खिलाड़ी टीम में भी अधिकतम ह्रदय दरें 160 से 220 तक हो सकती हैं.<ref name="mhrt"/> यह भिन्नता 60 से 90 वर्ष तक की उम्र जितनी बड़ी होती है जो नीचे दिये गए रेखीय समीकरण जितनी होती है और इन औसत आंकड़ों में चर्म भिन्नता की ओर इंगित करती है.
 
:हृदय-दर<sub>मैक्स</sub> = 220 - उम्र
 
इस सूत्र का श्रेय विभिन्न स्रोतों को दिया जाता है, लेकिन काफी हद तक यह समझा जाता है कि इसका विकास 1970 में डा.विलियम हैस्केल और डा. सैम्युअल फाक्स ने किया था.<ref name="mhrt"/> इस सूत्र के इतिहास की पूछताछ से पता चलता है कि यह मूल शोध से विकसित नहीं हुआ था बल्कि प्रकाशित शोध या अप्रकाशित वैज्ञानिक संग्रहों वाले लगभग 11 संदर्भों से प्राप्त जानकारी पर आधारित अवलोकन का परिणाम है.<ref name="mhrt2">{{cite journal |author=Robergs R and Landwehr R |title=The Surprising History of the “HRmax=220-age” Equation |journal=Journal of Exercise Physiology |volume=5 |issue=2 |pages=1–10 |year=2002 | url = http://faculty.css.edu/tboone2/asep/Robergs2.pdf | format = PDF | accessdate = 4-1-09 | issn=1097-9751 |archive-url=https://web.archive.org/web/20100628101125/http://faculty.css.edu/tboone2/asep/Robergs2.pdf |archive-date=28 जून 2010 |url-status=dead }}</ref> पोलार इलेक्ट्रो द्वारा अपने ह्रदय दर के मानिटरों में प्रयोग करने के बाद यह सूत्र बड़े पैमाने पर प्रयोग में आने लगा,<ref name="mhrt"/> जिनकी डा.हैस्केल ने यह कहते हुए "हंसी उड़ाई" थी<ref name="mhrt"/> कि इसे "कभी भी लोगों के प्रशिक्षण के शासन के लिये परम मार्गदर्शक नहीं समझा गया था."<ref name="mhrt"/>
 
सबसे आम (और याद रखने व गणना में आसान) होने पर भी, यह सूत्र सम्मानित स्वास्थ्य और दुरूस्ती पेशेवरों द्वारा हृदय-दर<sub>मैक्स</sub> का अच्छा सूचक नहीं माना जाता है. इस सूत्र के बड़े पैमाने पर प्रकाशित होने के बावजूद, दो दशकों से चले आ रहे शोध से इसकी बड़ी अंतर्निहित त्रुटि सामने आई है (एसएक्सवाई=7—11 धड़कनें प्रति मिनट). परिणाम स्वरूप, हृदय-दर<sub>मैक्स</sub>=220—आयु द्वारा गणना किये गए अनुमान में न तो सटीकता और न ही व्यायाम के शरीरक्रिया विज्ञान और संबंधित क्षेत्रों में प्रयोग के लिये वैज्ञानिक औचित्य है.<ref name="mhrt2"/>
 
:
::(पारम्परिक सूत्र में एक और "मरोड़" को तनाका विधि के नाम से जाना जाता है. हजारों लोगों पर किये गए एक अध्ययन पर आधारित एक नए सूत्र का विकास किया गया, जिसे अधिक सटीक माना जाता है.)<ref>[एज प्रिडिक्टिव मैक्सिमम हार्ट रेट http://content.onlinejacc.org/cgi/content/abstract/37/1/153 {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20110623093440/http://content.onlinejacc.org/cgi/content/abstract/37/1/153 |date=23 जून 2011 }}]</ref>
 
2007 में, ओकलैंड विश्वविद्यालय के शोधकों ने 25 वर्षों की अवधि में हर वर्ष रिकार्ड की गई 132 व्यक्तियों की अधिकतम ह्रदय दरों का विश्लेषण किया और एक रेखीय समीकरण उत्पन्न किया जो तनाका के सूत्र –हृदय-दर<sub>मैक्स</sub> = 206.9 − (0.67 × आयु)—और एक अरेखीय समीकरण—हृदय-दर<sub>मैक्स</sub> = 191.5 − (0.007 × आयु<sup>2</sup>) के बहुत समान था. इस रेखीय समीकरण का आश्वस्तता अंतराल ±5–8 धड़कन प्रति मिनट था और अरेखीय समीकरण की अधिक चुस्त श्रेणी ±2–5 धड़कन प्रति मिनट थी. एक तीसरे अरेखीय समीकरण का विकास भी किया गया—हृदय-दर<sub>मैक्स</sub> = 163 + (1.16 × आयु) − (0.018 × आयु<sup>2</sup>).<ref>{{Cite journal
2010 में नार्थवेस्टर्न विश्वविद्यालय में किये गए शोध में स्त्रियों के लिये अधिकतम हृदयगति दर के सूत्र में संशोधन किया गया. मार्था गुलाटी और अन्य के अनुसार यह निम्न प्रकार है -
 
:हृदय-दर<sub>मैक्स</sub> = 206 − (0.88 × आयु)<ref>[न्यू फार्म्युला गिव्स फर्स्ट एक्यूरेट पिक हार्ट रेट फॉर वोमेन http://www.physorg.com/news196962986.html {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20120208215418/http://www.physorg.com/news196962986.html |date=8 फ़रवरी 2012 }}]</ref><ref>{{Cite web |url=http://circ.ahajournals.org/cgi/content/abstract/CIRCULATIONAHA.110.939249v1 |title=संग्रहीत प्रति |access-date=23 नवंबर 2010 |archive-url=https://web.archive.org/web/20101222053332/http://circ.ahajournals.org/cgi/content/abstract/CIRCULATIONAHA.110.939249v1 |archive-date=22 दिसंबर 2010 |url-status=live }}</ref>
 
लुंड, स्वीडन में किये गए एक अध्ययन में उल्लेखित आंकड़े (बाइसिकिल अर्गोमेट्री के समय प्राप्त) दिये गए हैं, पुरूषों के लिये-
 
व्यायाम के बाद हृदय की दर में धीरे-धीरे कमी आना हृदय के विकार का संकेत हो सकता है.
यदि हृदय की दर व्यायाम को रोकने के एक मिनट बाद 12 धड़कन प्रति मिनट से कम गिरे तो यह हृदयाघात के अधिक जोखम का संकेत हो सकता है.<ref name="mort">कसरत के तुरंत बाद हृदयगति की दर का पुनर्लाभ मृत्युदर की सूचक है, क्रिस्टोफर आर. कोल, एम.डी., यूजीन एच. ब्लैकस्टोन, एम.डी., फ्रेडरिक जे. पैशको, एम्. डी., क्लैर ई. स्नेडर एम्. ए., एंड माइकल एस, लौर, एम्.डी.; एनईजेएम से आर्ट रेफरेंस, खंड 341:1351-1357, 8 अक्टूबर 1999. http://content.nejm.org/cgi/content/short/341/18/1351 {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20100411202713/http://content.nejm.org/cgi/content/short/341/18/1351 |date=11 अप्रैल 2010 }} में सार ऑनलाइन.</ref>
 
अभ्यास के विधान कभी-कभी पुनर्लाभ हृदय दर का प्रयोग प्रगति के मार्गदर्शक के रूप में और अतिऊष्मता या निर्जलीकरण जैसी समस्याओं का पता लगाने के लिये करते हैं.<ref name="hydr">व्यायाम-ऊष्मा दबाव के समय घोड़ों के शरीर क्रियात्मक दबाव पर जलीकरण के प्रभाव.जे.अप्लाइड फिजियालाजी खंड 84, अंक 6, 2042-2051, जून 1998</ref> कठिन व्यायाम की छोटी अवधियों के बाद भी हृदय दर को विश्राम के समय के स्तरों तक गिरने में लंबा समय (लगभग 30 मिनट) लग सकता है.
हृद्मंदता की परिभाषा है, धड़कन की दर का 60 धड़कन प्रति मिनट से कम होना हालांकि मनुष्य के पूर्ण विश्राम में रहने पर 50 धड़कनें प्रति मिनट से कम की दर होने के पहले कोई लक्षण नहीं पाए जाते. अभ्यास किये हुए एथलीटों में धीमी विश्रामीय धड़कन दरें पाई जाती हैं और एथलीटों में विश्राम के समय धड़कन के धीमेपन को असामान्य नहीं समझना चाहिये, यदि उसके साथ कोई लक्षण प्रकट नहीं हो रहे हों.यह संख्या भिन्न हो सकती है क्यौंकि बच्चों और लघु आकार के वयस्कों में औसत वयस्कों की अपेक्षा धड़कन अधिक तेज होती है.
 
मिग्युएल इन्द्युरियन, एक स्पैनिश साकिल रेस खिलाड़ी जिन्होंने पांच बार [[टुअर दि फ़्राँस|टूर डे फ़्रांस]] जीता है, उनका ह्रदय गति की सामान्य दर 28 स्पंदन प्रति मिनट थी, जो किसी स्वस्थ व्यक्ति में अब तक देखी गयी सबसे निम्न ह्रदय गति है.<ref>[http://www.lidco.com/html/clinical/cardiacoutput.asp कार्डियक आउटपुट.] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20100530044952/http://www.lidco.com/html/clinical/cardiacoutput.asp |date=30 मई 2010 }} लिड्को लिमिटेड बिक्री और विपणन. 1 मई 2007 को पुनःप्राप्त.</ref>
 
=== अतालता ===
 
== जोखम कारक के रूप में हृदय की धड़कन की दर ==
अनेकों प्रयोगों से यह संकेत मिला है कि अधिक तेज विश्रामीय धड़कन उष्णरक्तीय स्तनपायियों में मृत्युदर, विशेषकर मनुष्यों में हृदय-नलिकीय मृत्युदर के लिये एक नए जोखम कारक के रूप में उभरी है. तेज धड़कन के साथ, हृदय पर अधिक यांत्रिक दबाव के अलावा, शोथ अणुओं का अधिक उत्पादन और हृदयनलिका तंत्र में प्रतिक्रियात्मक आक्सीजन जाति का अधिक उत्पादन हो सकता है. बढ़ी हुई विश्रामीय धड़कन और हृदयनलिकीय जोखम में परस्पर संबंध होता है. यह समझना चाहिये कि इसे दिल की धड़कनों के आबंटन के प्रयोग के रूप में नहीं, बल्कि बढ़ी हुई दर से तंत्र के लिये बढ़े हुए जोखम के रूप में देखा जाता है.<ref>[httpshttp://elipsportwww.vnsciencedirect.com/science?_ob=ArticleURL&amp;_udi=B6X1H-4TT9GC2-1&amp;_user=10&amp;_coverDate=01%2F31%2F2009&amp;_rdoc=1&amp;_fmt=high&amp;_orig=search&amp;_sort=d&amp;_docanchor=&amp;view=c&amp;_acct=C000050221&amp;_version=1&amp;_urlVersion=0&amp;_userid=10&amp;md5=3a496fcd2f4b3e863a2972c8775671f0 "Tậpहृदय दर, đoànजीवन-अवधि thểऔर thaoमोरैलिटी elipsportरिस्क"] एजिंग रिसर्च रिव्यू 2009;8:52</ref>
 
हृदयनलिकीय रोग से ग्रस्त रोगियों के एक आस्ट्रेलियन अंतर्राष्ट्रीय अध्ययन में दर्शाया गया है कि हृदय की धड़कन की दर हृदयाघात के जोखम की एक विशेष संकेतक है. लैंसेट में प्रकाशित इस अध्ययन में 33 देशों में 11,000 ऐसे लोगों का अध्ययन किया गया जिनका हृदय की समस्याओं के लिये इलाज किया जा रहा था. जिन रोगियों की धड़कन की दर 70 प्रति मिनट से अधिक थी, उनमें हृदयाघात, अस्पताल में दाखिले और शल्यचिकित्सा की आवश्यकता अधिक पाई गई. सिडनी विश्वविद्यालय में हृदयरोगविज्ञान के प्रोफेसर व सिडनी के कानकार्ड अस्पताल के बेन फ्रीडमैन ने कहा, यदि आपके हृदय की धड़कन तेज है, तो हृदयाघात होने की संभावना अधिक है और अघातक या घातक हृदयाघातों के लिये अस्पताल में भर्ती की संख्या में 46 प्रतिशत वृद्धि देखी गई है.<ref>[http://www.smh.com.au/news/national/heartbeat-an-indicator-of-disease-risk-study/2008/08/31/1220121048825.html "दिल की धड़कन रोग के जोखम का एक संकेतक: अध्ययन"] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20100718215523/http://www.smh.com.au/news/national/heartbeat-an-indicator-of-disease-risk-study/2008/08/31/1220121048825.html |date=18 जुलाई 2010 }} 1 सितम्बर 2008</ref>
 
फिजियालजी और औषधिशास्त्र की मानक पाठ्यपुस्तकों में कहा गया है कि हृदयगति की दर की गणना ईसीजी से बड़ी आसानी से निम्न तरह से की जा सकती है -