"संगीत" के अवतरणों में अंतर

33 बैट्स् नीकाले गए ,  4 माह पहले
छो
2401:4900:12F9:5F73:9924:7BA2:5EE4:D81B (वार्ता) द्वारा किए बदलाव को रोहित साव27 के बदलाव से पूर्ववत किया
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
छो (2401:4900:12F9:5F73:9924:7BA2:5EE4:D81B (वार्ता) द्वारा किए बदलाव को रोहित साव27 के बदलाव से पूर्ववत किया)
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना SWViewer [1.4]
सुव्यवस्थित [[ध्वनि]], जो [[रस (काव्य शास्त्र)|रस]] की सृष्टि करे, '''संगीत''' कहलाती है। [[गायन]], [[वादन]] व [[नृत्य]] तीनों के समावेश को '''संगीत''' कहते हैं। संगीत नाम इन तीनों के एक साथ व्यवहार से पड़ा है। गाना, बजाना और नाचना प्रायः इतने पुराने है जितना पुराना आदमी है। बजाने और बाजे की कला आदमी ने कुछ बाद में खोजी-सीखी हो, पर गाने और नाचने का आरंभ तो न केवल हज़ारों बल्कि लाखों वर्ष पहले उसने कर लिया होगा, इसमें कोई संदेह नहीं।
 
गायन मानव के लिए प्राय: उतना ही स्वाभाविक है जितना भाषण। कब से मनुष्य ने गाना प्रारंभ किया, यह बतलाना उतना ही कठिन है जितना कि कब से उसने बोलना प्रारंभ किया है। परंतु बहुत काल बीत जाने के बाद उसके गायन ने व्यवस्थित रूप धारण किया।किया।bfkkfkkkvbmkfswwascकिया।
 
==संगीत पद्धतियाँ==
107

सम्पादन