"राणा रायमल" के अवतरणों में अंतर

1,567 बैट्स् नीकाले गए ,  11 माह पहले
छो
2401:4900:2FFC:4FBF:0:56:C01C:BD01 (Talk) के संपादनों को हटाकर सौरभ तिवारी 05 के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
(रायमल के पुत्र एवं उसकी जीवनी।)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
छो (2401:4900:2FFC:4FBF:0:56:C01C:BD01 (Talk) के संपादनों को हटाकर सौरभ तिवारी 05 के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
 
[[श्रेणी:मेवाड़ के शासक]]
{{आधार}}
महाराणा रायमल के 4 पुत्र व 1 पुत्री थी।
1. पृथ्वीराज सिसोदिया(उड़ना राजकुमार)
2. जय सिंह सिसोदिया (अल्प आयु में मृत्यु)
3. जयदेव सिसोदिया
4. महाराणा सांगा(पृथ्वीराज सिसोदिया की मृत्यु के बाद अगले शासक)
1. आनंदी बाई - ( पति - जगमाल देवड़ा,सिरोही )
पृथ्वीराज सिसोदिया राजा बनने के बाद अपनी पत्नी तारा बाई(रूठी रानी) की याद में तारागड दुर्ग का निर्माण करवाया था। यह बहुत तेज धावक थे इसलिए इनको उड़ना राजकुमार कहा जाता था। इन के बहनोई जगमाल देवड़ा इनकी बहन आनंदीबाई से मारपीट करते थे इसलिए पति राज सिसोदिया इनको समझाने के लिए गए थे। उस समय जगमाल देवड़ा ने इनको जहर देकर उनकी हत्या कर दी
छतरी: कुंभलगड दुर्ग में12 खम्भो की छतरी।