"सामाजिक मीडिया" के अवतरणों में अंतर

आकार में कोई परिवर्तन नहीं ,  1 वर्ष पहले
Rescuing 3 sources and tagging 0 as dead.) #IABot (v2.0.6
छो (#)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन यथादृश्य संपादिका
(Rescuing 3 sources and tagging 0 as dead.) #IABot (v2.0.6)
 
==सामाजिक संचार-माध्यम और हिन्दी==
जब इंटरनेट ने भारत में पांव पसारने शुरू किए तो यह आशंका व्यक्त की गई थी कि कंप्यूटर के कारण देश में फिर से अंग्रेज़ी का बोलबाला हो जाएगा। किंतु यह धारणा निर्मूल साबित हुई है और आज हिंदी वेबसाइट तथा ब्लॉग न केवल धड़ल्ले से चले रहे हैं बल्कि देश के साथ-साथ विदेशों के लोग भी इन पर सूचनाओं का आदान-प्रदान तथा चैटिंग कर रहे हैं। इस प्रकार इंटरनेट भी हिंदी के प्रसार में सहायक होने लगा है।<ref>{{Cite web |url=https://www.narakasapatna.org/%E0%A4%B9%E0%A4%BF%E0%A4%82%E0%A4%A6%E0%A5%80-%E0%A4%95%E0%A5%87-%E0%A4%AA%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A4%B8%E0%A4%BE%E0%A4%B0-%E0%A4%AE%E0%A5%87%E0%A4%82-%E0%A4%AE%E0%A5%80%E0%A4%A1%E0%A4%BF%E0%A4%AF.html |title=हिंदी के प्रसार में मीडिया की भूमिका |access-date=15 जून 2020 |archive-url=https://web.archive.org/web/20180913015144/http://www.narakasapatna.org/%E0%A4%B9%E0%A4%BF%E0%A4%82%E0%A4%A6%E0%A5%80-%E0%A4%95%E0%A5%87-%E0%A4%AA%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A4%B8%E0%A4%BE%E0%A4%B0-%E0%A4%AE%E0%A5%87%E0%A4%82-%E0%A4%AE%E0%A5%80%E0%A4%A1%E0%A4%BF%E0%A4%AF.html |archive-date=13 सितंबर 2018 |url-status=livedead }}</ref> [[हिन्दी]] आज सोशल मीडिया में विविध रूपों से विकसित हो रही है‌। सोशल मीडिया में हिंदी को वैश्विक मंच मिला है जिससे हिंदी की पताका पूरे विश्व में लहरा रही है। आज फेसबुक, ट्विटर, व्हाट्सअप पर अंग्रेजी में लिखे गये पोस्ट या टिप्पणियों की भीड में हिंदी में लिखी गई पोस्ट या टिप्पणियाँ प्रयोगकर्ताओं को ज्यादा आकर्षित करती हैं।
 
सोशल मीडिया में हिंदी भाषा का वर्चस्व का प्रमुख कारण यह है कि हिंदी भाषा अभिव्यक्ति का सशक्त एवं वैज्ञानिक माध्यम है। संबंधित पोस्ट के भावों को समझने में असुविधा नहीं होती है। लिखी गई बात पाठक तक उसी भाव में पहुँचती है, जिस भाव से लिखा जाता है। सोशल मीडिया पर मौजूद हिंदी का ग्राफ दिन दो गुनी रात चौगुनी आसमान छू रहा है। यह हिंदी भाषा की सुगमता, सरलता और समृद्धता का ही प्रतीक है। हिंदी भाषा के इस सोशल मीडिया ने अपनी ताकत से सरकारों को अपने फैसलों, नीतियों और व्यवहारों की ओर ध्यान आकर्षित करवाया है। इस मीडिया ने लोक-बोल-सुन रहे हैं इन मंचों पर सार्वजनिक विमर्श की गुणवत्ता बढी है तथा लोगों का स्तर हिंदी भाषा में बेहतर हुआ है। <ref>{{Cite web |url=https://rsaudr.org/show_artical.php?&id=655 |title=सोशल मीडिया पर हिंदी भाषा का वर्चस्व |access-date=21 मार्च 2020 |archive-url=https://web.archive.org/web/20151121122715/http://rsaudr.org/show_artical.php?&id=655 |archive-date=21 नवंबर 2015 |url-status=livedead }}</ref> हिंदी भाषा, [[यूट्यूब]] पर भी फल-फूल रही है।<ref>{{Cite web |url=https://brandequity.economictimes.indiatimes.com/news/marketing/why-vernacular-is-the-big-game-for-digital-marketers/73093513 |title=Why ‘vernacular’ is the big game for digital marketers |access-date=21 मार्च 2020 |archive-url=https://web.archive.org/web/20200220065018/https://brandequity.economictimes.indiatimes.com/news/marketing/why-vernacular-is-the-big-game-for-digital-marketers/73093513 |archive-date=20 फ़रवरी 2020 |url-status=livedead }}</ref>
 
एक रिपोर्ट के अनुसार, 2021 तक स्थानीय भाषा का इंटरनेट यूजर बेस इंग्लिश भाषा के डिजिटल उपभोक्ताओं को पीछे छोड़ देगा और इस परिवर्तन का नेतृत्व सोशल मीडिया करेगा। <ref>{{Cite web |url=https://www.patrika.com/business-expert-column/vernacular-social-media-platforms-to-drive-the-next-digital-wave-3497179/ |title=सोशल मीडिया में 2021 तक अंग्रेजी भाषा को पीछे छोड़ देंगे स्थानीय भाषा के डिजिटल यूजर |access-date=21 मार्च 2020 |archive-url=https://web.archive.org/web/20181002143806/https://www.patrika.com/business-expert-column/vernacular-social-media-platforms-to-drive-the-next-digital-wave-3497179/ |archive-date=2 अक्तूबर 2018 |url-status=live }}</ref><ref>[http://www.socialsamosa.com/2019/06/why-vernacular-is-winning/ Why vernacular is winning?]</ref>
1,12,736

सम्पादन