"मर्सिया" के अवतरणों में अंतर

आकार में कोई परिवर्तन नहीं ,  1 वर्ष पहले
Rescuing 1 sources and tagging 0 as dead.) #IABot (v2.0.6
(Rescuing 3 sources and tagging 0 as dead.) #IABot (v2.0.1)
(Rescuing 1 sources and tagging 0 as dead.) #IABot (v2.0.6)
 
'''मर्सिया''' (फ़ारसी : مرثیه) [[हुसैन इब्न अली]] और करबला के उनके साथियों की शहादत और बहादुरी बताने के लिए लिखी गई एक लालित्य कविता है। मर्सिया अनिवार्य रूप से धार्मिक हैं। <ref name="lucknow19thc">{{Cite web |url=http://www.columbia.edu/itc/mealac/pritchett/00urduhindilinks/bailey/004lucknow19thc.pdf |title=A History of Urdu literature by T. Grahame Bailey; ''Urdu Poetry in Lucknow in the 19th century'' |access-date=13 नवंबर 2018 |archive-url=https://web.archive.org/web/20171026032106/http://www.columbia.edu/itc/mealac/pritchett/00urduhindilinks/bailey/004lucknow19thc.pdf |archive-date=26 अक्तूबर 2017 |url-status=livedead }}</ref> इन घटनाओं पर लिखे गए मर्सिया को शास्त्रीय मर्सिया कहा जाता है।
 
==पृष्ठभूमि==
1,14,762

सम्पादन