"मोड़ी लिपि" के अवतरणों में अंतर

41 बैट्स् नीकाले गए ,  1 वर्ष पहले
छो
2401:4900:1B16:52F2:675C:D334:F5ED:853 (Talk) के संपादनों को हटाकर InternetArchiveBot के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
(छत्रपती शिवाजी महाराज ।)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
छो (2401:4900:1B16:52F2:675C:D334:F5ED:853 (Talk) के संपादनों को हटाकर InternetArchiveBot के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
'''मोड़ी''' या '''मोडी''' उस [[लिपि]] का नाम है जिसका प्रयोग सन १९५० तक [[महाराष्ट्र]] की प्रमुख भाषा [[मराठी भाषा|मराठी]] को लिखने के लिये किया जाता था। 'मोड़ी' शब्द का उद्गम [[फ़ारसी भाषा|फारसी]] के शब्द शिकस्त के अनुवाद से हुआ है, जिसका अर्थ होता है 'तोड़ना' या 'मोड़ना' है।
 
इस लिपि के विकास के संबंध मे कई सिद्धान्त प्रचलित हैं। उनमें से सिद्धांत है कि इसे [[हेमाद्रिपंत|हेमादपंत]] (या हेमाद्री पंडित) ने महादेव यादव और रामदेव यादव के शासन के दौरान (1260-1309) विकसित किया था। एक अन्य सिद्धान्त के अनुसार हेमादपंत इसे [[श्रीलंका]] से लाये थे। किन्तु [[छत्रपती शिवाजी महाराज]] के पहले इसके प्रचार का कोई पता नहीं चलता । शिवाजी द्वारा राजकीय लिपि के रूप में स्वीकृत नागरी लिपि को त्वरा के साथ लिखने योग्य बनाने के विचार से शिबाजी के 'चिटनिस' (मंत्री, सरिश्तेदार) [[बालाजी अबाजी]] ने इसके अक्षरों को मोड़ ( तोड़ मरोड़) कर एक नई लिपि तैयार की । जिसे 'मोड़ी' कहते हैं (देखिए,भारत की प्राचीन लिपियाँ पृ॰ १३१-१३२) ।
 
मोड़ी लिपि का मुद्रण देवनागरी लिपि की तुलना में अधिक जटिल है। इसलिए इसका प्रयोग १९५० मे आधिकारिक रूप से बंद कर दिया गया और तब से आज तक मराठी भाषा के मुद्रण के लिए केवल देवनागरी लिपि का ही प्रयोग किया जाता है।