"मोटूरि सत्यनारायण" के अवतरणों में अंतर

सम्पादन सारांश रहित
(Rescuing 2 sources and tagging 0 as dead.) #IABot (v2.0.1)
<!-- {{db-a10|article=मोटूरी सत्यनारायण}} -->
{{Infobox officeholder
[[चित्र:Dr Moutri Satyanarayan.jpg|right|200px]]'''मोटूरि सत्‍यनारायण''' (२ फ़रवरी १९०२ - ६ मार्च १९९५) दक्षिण भारत में [[हिन्दी]] प्रचार आन्दोलन के संगठक, हिन्दी के प्रचार-प्रसार-विकास के युग-पुरुष, [[महात्मा गांधी]] से प्रभावित एवं गाँधी-दर्शन एवं जीवन मूल्यों के प्रतीक, हिन्दी को [[राजभाषा]] घोषित कराने तथा हिन्दी के राजभाषा के स्वरूप का निर्धारण कराने वाले सदस्यों में दक्षिण भारत के सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण व्यक्तियों में से एक थे। वे [[दक्षिण भारत हिन्दी प्रचार सभा]], [[राष्ट्रभाषा प्रचार समिति, वर्धा]] तथा [[केन्द्रीय हिन्दी संस्थान]] के निर्माता भी हैं।
|name = मोटूरी सत्यनारायण
| office = [[सांसद]] ( [[राज्य सभा]] )<br>{{small|(नामित)}}
| termstart = 3 अप्रैल 1952
| termend = 2 अप्रैल 1966
|birth_date = 2 फरवरी 1902
|birth_place = [[दोण्डापादु]], [[कृष्णा जिला]], [[आंध्र प्रदेश]]
|death_date = {{death date and age|1995|3|6|1902|2|2}}
|spouse = श्रीमती सूर्यकान्ता देवी
|occupation = कार्यकर्ता (ऐक्टिविस्ट), राजनेता
}}
 
[[चित्र:Dr Moutri Satyanarayan.jpg\right|thumb|300px|मोटुरि सत्यनारायण]]
 
[[चित्र:Dr Moutri Satyanarayan.jpg|right|200px]]'''मोटूरि सत्‍यनारायण''' (२ फ़रवरीफरवरी १९०२ - ६ मार्च १९९५) दक्षिण भारत में [[हिन्दी]] प्रचार आन्दोलन के संगठक, हिन्दी के प्रचार-प्रसार-विकास के युग-पुरुष, [[महात्मा गांधी]] से प्रभावित एवं गाँधी-दर्शन एवं जीवन मूल्यों के प्रतीक, हिन्दी को [[राजभाषा]] घोषित कराने तथा हिन्दी के राजभाषा के स्वरूप का निर्धारण कराने वाले सदस्यों में दक्षिण भारत के सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण व्यक्तियों में से एक थे। वे [[दक्षिण भारत हिन्दी प्रचार सभा]], [[राष्ट्रभाषा प्रचार समिति, वर्धा]] तथा [[केन्द्रीय हिन्दी संस्थान]] के निर्माता भी हैं। सन १९४७ तक आप [[भारतीय संविधान सभा]] के सदस्य रहे।
 
== जीवनवृत्त ==
श्री मोटूरि सत्यनारायण का जन्म [[आन्ध्र प्रदेश]] के [[कृष्णा जिला|कृष्णा जिले]] के दोण्डपाडु ग्राम में हुआ था। प्राथमिक शिक्षा के बाद उन्होने [[मछलीपतनम]] के नेशनल कॉलेज से अंग्रेजी, तेलुगु और हिन्दी की शिक्षा ली। उन्होने इन तीनों भाषाओं में में धाराप्रवाह बोलने की क्षमता अर्जित कर ली। इसके बाद उन्होने एक स्वयंसेवक के रूप में [[दक्षिण भारत हिन्दी प्रचार सभा]] को अपनी सेवाएँ देना शुरू की और धीरे-धीरे इसके सचिव एवं मुख्य-सचिव भी बने। सन १९३६ से १९६१ तक उनका एक प्रमुख कर्य दक्षिण भारत में हिन्दी का प्रचार करना रहा। उनक विवाह सूर्यकान्ता देवी से हुआ। उनके तीन पुत्र और चार पुत्रियाँ उत्पन्न हुईं।
श्री मोटूरि सत्यनारायण का जन्म [[आन्ध्र प्रदेश]] के [[कृष्णा जिला|कृष्णा जिले]] के दोण्पाडु ग्राम में हुआ था।
 
सन् 1940 से 1942 ई0 तक भारत में [[महात्मा गांधी]] के नेतृत्व में व्यक्तिगत सत्याग्रह और भारत छोड़ो आन्दोलन चला। उस काल में हिन्दी का प्रचार-प्रसार करना स्वाधीनता-आन्दोलन का अविभाज्य अंग था। वे दक्षिण में स्वाधीनता आन्दोलन एवं हिन्दी का प्रचार-प्रसार परिपूरक थे। आन्दोलन में भाग लेने के कारण उन्हें बन्दी बनाया गया। मोटूरि सत्यनारायण जी ने जेल में रहकर हिन्दी प्रचार का कार्य जारी रखा। जेल से मुक्त होने पर आपने हिन्दी के प्रचार-प्रसार के लिए अनेक योजनाएँ बनाईं। इन योजनाओं में केन्द्रीय हिन्दी शिक्षण मंडल योजना, दक्षिण के साहित्य की प्रकाशन योजना एवं कला भारती की योजना आदि सर्वविदित हैं।
 
भारत की स्वतंत्रता के बाद आप [[राज्य सभा]] के मनोनीत सदस्य बने।
 
==मोटुरि सत्यनारायण और हिन्दी==
* शिक्षाकाल में ही [[हिन्दी]] का अध्ययन किया एवं उसमें प्रवीणता प्राप्त कर ली।
 
* शिक्षण के बाद एक स्वयंसेवक के रूप में [[दक्षिण भारत हिन्दी प्रचार सभा]] को अपनी सेवाएँ देना शुरू की और धीरे-धीरे इसके सचिव एवं मुख्य-सचिव भी बने।
 
* सन १९३६ से १९६१ तक उनका एक प्रमुख कर्य दक्षिण भारत में हिन्दी का प्रचार करना रहा।
 
* मोटूरि सत्यनारायण जी ने जेल में रहकर हिन्दी प्रचार का कार्य जारी रखा। जेल से मुक्त होने पर आपने हिन्दी के प्रचार-प्रसार के लिए अनेक योजनाएँ बनाईं। इन योजनाओं में केन्द्रीय हिन्दी शिक्षण मंडल योजना, दक्षिण के साहित्य की प्रकाशन योजना एवं कला भारती की योजना आदि सर्वविदित हैं।
 
* वे हिन्दी को [[राजभाषा]] घोषित कराने तथा हिन्दी के राजभाषा के स्वरूप का निर्धारण कराने वाले सदस्यों में दक्षिण भारत के सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण व्यक्तियों में से एक थे।
 
* [[आगरा]] में "अखिल भारतीय हिन्दी परिषद" की स्थापना
 
* वे [[केन्द्रीय हिन्दी संस्थान]] के निर्माता भी हैं।
 
* सन १९७२ में '[[प्रयोजमूलक हिन्दी]]' की संकल्पना उनकी ही देन है।
 
== पद एवं कार्य ==
*[[पद्मभूषण डॉ॰ मोटूरि सत्यनारायण पुरस्कार]]
*[[नागराज नागप्पा]]
*[[प्रयोजनमूलक हिन्दी]]
 
== बाहरी कड़ियाँ ==