"विकिपीडिया:पृष्ठ हटाने हेतु चर्चा/लेख/देव गुरेरा" के अवतरणों में अंतर

 
* '''ऐसे ही नहीं हटना चाहिए''' - नमस्कार दोस्तों! लेख की उल्लेखनीयता की अपनी अहमियत होती है, रहने क्यों दिया जाए. माफ़ करना, एतराज है जब ठीक से बिंदुवार एवं विश्वसनीयता की कसौटी पर खरे सन्दर्भों (TOI, NBT, NBC, ओहियो स्टेट न्यूज़, जागरण, ScienceDirect etc से विस्तृत विवरण) सहित लिखे गए लेख को 'प्रचार' की संज्ञा दी जाती है. चार-चार शब्दों के सैकड़ों बने पड़े खाली पृष्ठों के मुकाबले थोड़ा ठीक से प्रस्तुत किये गए पृष्ठों पर इस कदर एतराज़ नहीं होना चाहिए विशेषकर जब सन्दर्भ एवं जानकारी उपयुक्त हों. वैसे भी हिंदी-WP में वैज्ञानिक शोध एवं शोधकर्ताओं पर पृष्ठ ही कितने हैं. हो सकता है विज्ञानं जैसे विषय पर लिखते हुए हिंदी भाषा में उचित शब्द न मिल पाएं, ऐसे में लेखों को विकिफ़ाइ करवाने एवं उचित भाषा बनवाने में ही मदद होनी चाहिए न की पृष्ठ हटाने की धमकी जैसी शब्दावली! [[सदस्य:Patrakaar|Patrakaar]] ([[सदस्य वार्ता:Patrakaar|वार्ता]]) 08:44, 13 सितंबर 2020 (UTC)
* '''पुनर्विचार कर लेख को रखा जाना चाहिए''' - उम्मीद है पर्याप्त उद्धरणों के साथ अब लेख अधिक जानकारीपूर्ण लगने लगा है [[सदस्य:Letsdoit|Letsdoit]] ([[सदस्य वार्ता:Letsdoit|वार्ता]]) 07:41, 17 सितंबर 2020 (UTC)
 
नमस्कार [[User:Mala chaubey]] जी! किसी भी नए पृष्ठ के बनने के एक या दो दिन में "उल्लेखनीयता का अभाव" में नामांकित करना जल्दबाज़ी ही होगा; उल्लेखनीयता" जरूरी सन्दर्भों सहित पोस्ट कर दी गई है!
55

सम्पादन