"प्रहसन" के अवतरणों में अंतर

168 बैट्स् नीकाले गए ,  2 माह पहले
छो
223.189.146.203 (Talk) के संपादनों को हटाकर InternetArchiveBot के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
(अबे याद होता तो हम कभी कर लेते ना ideas about that I'm pretty good listener you if you saw you nearly you for 4:30)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन Reverted
छो (223.189.146.203 (Talk) के संपादनों को हटाकर InternetArchiveBot के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
 
[[काव्य]] को मुख्यत: दो वर्गो में विभक्त किया गया है - श्रव्य काव्य और दृश्य काव्य। श्रव्य काव्य के अंतर्गत [[साहित्य]] की वे सभी विधाएँ आती हैं जिनकी रसानुभूति श्रवण द्वारा होती है जब कि दृश्य काव्य का वास्तविक आनंद मुख्यतया नेत्रों के द्वारा प्राप्त किया जाता है अर्थात् [[अभिनय]] उसका व्यावर्तक धर्म है। [[भरतमुनि]] ने दृश्य काव्य के लिये "नाट्य" शब्द का व्यवहार किया है। आचार्यों ने "नाट्य" के दो रूप माने हैं - [[रूपक]] तथा [[उपरूपक]]। इन दोनों के पुन: अनेक उपभेद किए गए हैं। रूपक के दस भेद है; '''प्रहसन''' इन्हीं में से एक है - नाटक, प्रकरण, भाण, मेरे फोन की बेटी टर्नओवर थ्योरी कपूर की बेटी का नाम मेरा तो बहुत व्यायोग, समवकार, डिम, ईहामून, अंक, वीथी, '''प्रहसन'''।
 
== प्रहसन के भेद ==