"फ़िलिस्तीनी राज्यक्षेत्र" के अवतरणों में अंतर

#WLF
(CommonsDelinker द्वारा 38_01242670403.jpg की जगह File:Mill_(British_Mandate_for_Palestine_currency,_1927).jpg लगाया जा रहा है (कारण: redirect linked from other project))
(#WLF)
== नाम और क्षेत्र ==
अगर आज के फिलस्तीन-इसरायल संघर्ष और विवाद को छोड़ दें तो मध्यपूर्व में भूमध्यसागर और जॉर्डन नदी के बीच की भूमि को फलीस्तीन कहा जाता था। बाइबल में फिलीस्तीन को कैन्नन कहा गया है और उससे पहले ग्रीक इसे फलस्तिया कहते थे। रोमन इस क्षेत्र को जुडया प्रांत के रूप में जानते थे।
[[File:Alaqsa mosque2.jpg|thumb|अलकसा मस्जिद]]
 
== इतिहास ==
तीसरी सहस्ताब्दि में यह प्रदेश [[बाबिल|बेबीलोन]] और [[मिस्र]] के बीच व्यापार के लिहाज से एक महत्वपूर्ण क्षेत्र बनकर उभरा। फिलीस्तीन क्षेत्र पर दूसरी सहस्त्राब्दि में मिस्रियों तथा हिक्सोसों का राज्यथा। लगभग इसा पूर्व १२०० में हजरत [[मूसा]] ने यहूदियों को अपने नेतृत्व में लेकर मिस्र से फिलीस्तीन की तरफ़ कूच किया। हिब्रू (यहूदी) लोगों पर फिलिस्तीनियों का राज था। पर सन् १००० में इब्रानियों (हिब्रू, यहूदी) ने दो राज्यों की स्थापना की (अधिक जानकारी के लिए देखें - [[यहूदी इतिहास]]) - इसरायल और जुडाया। ईसापूर्व ७०० तक इनपर बेबीलोन क्षेत्र के राज्यों का अधिकार हो गया। इस दौरान यहूदियों को यहाँ से बाहर भेजा गया। ईसापूर्व ५५० के आसपास जब यहाँ फ़ारस के [[फ़ारसी साम्राज्य|हख़ामनी शासकों]] का अधिकार हो गया तो उन्होंने यहूदियों को वापस अपने प्रदेशों में लौटने की इजाजत दे दी। इस दौरान यहूदी धर्म पर [[पारसी धर्म|जरथुस्त]] धर्म का प्रभाव पड़ा।
38

सम्पादन