"चम्बल नदी" के अवतरणों में अंतर

740 बैट्स् जोड़े गए ,  1 माह पहले
पाठ में सुधार (छोटा) सन्दर्भ जोड़े/सुधारे गये
(पाठ में सुधार (छोटा) सन्दर्भ जोड़े/सुधारे गये)
टैग: 2017 स्रोत संपादन
}}
{{स्रोतहीन|date=सितंबर 2012}}
'''चंबल नदी''' [[मध्य भारत (पूर्व राज्य)|मध्य भारत]] में [[यमुना नदी]] की [[उपनदी|सहायक नदी]] है। यह नदी "जानापाव पर्वत " बाचू पाईट [[डॉ॰ आम्बेडकर नगर|महू]] से निकलती है। इसका प्राचीन नाम "चरमवाती " है। इसकी सहायक नदिया [[शिप्रा नदी|शिप्रा]], सिंध, [[काली सिन्ध नदी|काली सिन्ध]], ओर [[कुनू नदी]] है। यह नदी भारत में उत्तर तथा उत्तर-मध्य भाग में [[राजस्थान]] के [[कोटा जिला|कोटा]] तथा [[धौलपुर जिला|धौलपुर]], [[मध्य प्रदेश]] के [[धार ज़िला|धार]], [[उज्जैन ज़िला|उज्जैन]], [[रतलाम ज़िला|रतलाम]], [[मंदसौर ज़िला|मन्दसौर]], [[भिंड ज़िला|भिंड]], [[मुरैना ज़िला|मुरैना]] आदि जिलोजिलों से होकर बहती है।<ref>[https://www.patrika.com/kanpur-news/story-of-pollution-free-chambal-river-news-in-hindi-1472893/] अकांक्षा सिंह, पत्रिका, लखनऊ, कानपुर</ref> यह नदी दक्षिण की ओर मुड़ कर [[उत्तर प्रदेश]] राज्य में [[यमुना नदी|यमुना]] में शामिल होने के पहले राजस्थान और मध्य प्रदेश के बीच सीमा बनाती है। इस नदी पर चार जल विधुत परियोजना -गांधी सागर, राणा सागर, जवाहर सागर और कोटा बैराज (कोटा)- चल रही है।{{Cn|date=नवम्बर<ref>[https://gkindiatoday.com/%E0%A4%9A%E0%A4%AE%E0%A5%8D%E0%A4%AC%E0%A4%B2-%E0%A4%A8%E0%A4%A6%E0%A5%80-%E0%A4%AA%E0%A4%B0-%E0%A4%B8%E0%A5%8D%E0%A4%A5%E0%A4%BF%E0%A4%A4-%E0%A4%AC%E0%A4%BE%E0%A4%82%E0%A4%A7/] gkindiatoday.com 3 Oct, 2019}}2020</ref> प्रसिद्ध ''चूलीय जल प्रपात''चंबल नदी (कोटा) मे है। कुल लंबाई 135। राजस्थान की औधोगिक नगरी [[कोटा]] इस नदी के किनारे स्थित है।
 
यह एक बारहमासी नदी है। इसका उद्गम स्थल जानापाव की पहाडीपहाड़ी (मध्य प्रदेश) है।{{Cn|date=नवम्बर 2019}}<ref>[https://bharatdiscovery.org/india/%E0%A4%9A%E0%A4%82%E0%A4%AC%E0%A4%B2_%E0%A4%A8%E0%A4%A6%E0%A5%80]bharatdiscovery.org]</ref> यह दक्षिण में महू शहर के, इंदौर के पास, विंध्य रेंज में मध्य प्रदेश में दक्षिण ढलान से होकर गुजरती है। चंबल और उसकी सहायक नदियांनदियाँ उत्तर पश्चिमी मध्य प्रदेश के मालवा क्षेत्र के नाले, जबकि इसकी सहायक नदी, बनास, जो अरावली पर्वतों से शुरू होती है इसमें मिल जाती है। चंबल, कावेरी, यमुना, सिन्धु, पहुज भरेह के पास पचनदा में, उत्तर प्रदेश राज्य में भिंड और इटावा जिले की सीमा पर शामिल पांचपाँच नदियों के संगम समाप्त होता है।
 
== अपवाह क्षेत्र==
चंबल के अपवाह क्षेत्र में चित्तौड़, कोटा, बूंदी, सवाई माधौपुर, करौली, धौलपुर इत्यादि इलाके शामिल हैं। तथा सवाई माधोपुर, करौली व धौलपुर से गुजरती हुई राजस्थान व मध्यप्रदेश की सीमा बनाते हुए चलती है जो कि 252 किलोमीटर की है।{{Cn|date<ref>[https://www.rajasthangyan.com/trick?tid=नवम्बर200&filter=All] rajasthangyan.com</ref> 2017}}<ref>[https://m.dailyhunt.in/news/india/hindi/gs+junction-epaper-gsjun/chambal+nadi+ka+apavah+kshetr+aur+sahayak+nadiya-newsid-n169937436] m.dailyhunt.in</ref>
 
== सहायक नदियां ==
[[श्रेणी:भारत की नदियाँ]]
[[श्रेणी:मध्य प्रदेश की नदियाँ]]
 
. राजस्थान की औधोगिक नगरी कोटा इस नदी के किनारे स्थित है