"पीताम्बर दत्त बड़थ्वाल" के अवतरणों में अंतर

सम्पादन सारांश रहित
No edit summary
'''डा. पीतांम्बरदत्त बड़थ्वाल''' ( [[१३ दिसंबर]], [[१९०१]]-[[२४ जुलाई]], [[१९४४]]) [[हिंदी]] में डी.लिट. की उपाधि प्राप्त करने वाले पहले शोध विद्यार्थी थे। उन्होंन अनुसंधानऔर खोज परंपरा का प्रवर्तन किया तथा आचार्य रामचंद्र शुक्ल और बाबू शयामसुंदर दास की परंपरा को आजे बढा़ते हुए हिन्दी आलोचना को मजबूती प्रदान की। उन्होंने भावों और विचारों की अभिव्यक्ति के लिये भाषा को अधिक सामर्थ्यवान बना विकासोनमुख शैली को सामने रखा।अपनी गंभीर अध्ययनशीलता और शोध प्रव्रति के कारण उन्होंने हिनदी मे प्रथम डी़॰ लिट॰ होने का गौरव प्राप्त किया।<ref>{{cite book |last=शर्मा |first=कुमुद |title=डॉ. पीतांबर बड़थ्वालःहिंदी के सुपुत्र|year=अक्तूबर २०००|publisher=साहित्य अमृत |location=नई दिल्ली |id= |page=३३ |accessday=१३ |accessmonth= सितंबर|accessyear=२००९ }}</ref> हिंन्दी साहित्य के फलक पर शोध प्रव्रत्ति की प्रेरणा का प्रकाश बिखेरने वाले बड़थ्वालजी का जन्म [[उत्तर प्रदेश]] के गढ़वाल में लैंस डाउन अंचल के समीप पाली गाँव में हुआ और निधन भी पाली में ही हुआ। बड़थ्वालजी ने अपनी साहित्यिक छवी के दर्शनबचपन में ही करा दिये थे। बाल्यकाल मे ही वे 'अंबर'नाम से कविताएँ लिखने लगे थे। किशोरावस्था में पहुँचकर उन्होंने कहानी लेखन प्रारंभ कर दिया। १९१८ के पुरुषार्थ' में उन्की दो कहानियाँ प्रकाशित हुई। कानपुर में अपने छात्र जीवन के दौरान ही उन्होंने 'हिलमैन' नामक अंग्रेजी मासिक पत्रिका का संपादन करते हुए अपनी संपादकीय प्रतिभा को भी प्रदर्शित किया।
 
हिंन्दी साहित्यके फलक पर शोध प्रव्रत्ति की प्रेरणा का प्रकाश बिखेरने वाले बड़थ्वालजी का जन्म को [[उत्तर प्रदेश]] के गढ़वाल में लैंस डाउन अंचल के समीप पाली गाँव में हुआ और निधन भी पाली में ही हुआ। बड़थ्वालजी ने अपनी साहित्यिक छवी के दर्शनबचपन में ही करा दिये थे। बाल्यकाल मे ही वे 'अंबर'नाम से कविताएँ लिखने लगे थे। किशोरावस्था में पहुँचकर उन्होंने कहानी लेखन प्रारंभ कर दिया। १९१८ के पुरुषार्थ' में उन्की दो कहानियाँ प्रकाशित हुई। कानपुर में अपने छात्र जीवन के दौरान ही उन्होंने 'हिलमैन' नामक अंग्रेजी मासिक पत्रिका का संपादन करते हुए अपनी संपादकीय प्रतिभा को भी प्रदर्शित किया।
==कार्यक्षेत्र==
जिस समय बड़थ्वालजी में साहित्यिक चेतना जगी उस समय हिन्दी के समक्ष अनेक चुनैतियाँ थी। कठिन संधर्षों और प्रयतनों के बाद उच्च कक्षाओं में हिन्दी के पठन- पाठन की व्यवस्था तो हो गई थी,लेकिन हिन्दी साहित्य के गहन अध्ययन और शोध को कोई ठोस आधार नही मिल पाया था। आचर्य रामचन्द्र शुक्ल और बाबू श्याम सुन्दर दास जैसे रचनाकर आलोचना के क्षेत्र में सक्रिय थे। बड़थ्वालजी ने इस परिदृश्य में अपनी अन्वेषणात्मक क्षमता के सहारे हिंदी क्षेत्र में शोध की सुदृढ़ परंपरा की नींव डाली। संत साहित्य के संदर्भ में स्थापित नवीन मान्यताओं ने उनकी शोध क्षमता को उजागर किया। उन्होने पहली बार संत, सिद्घ, नाथ और भक्ति साहित्य की खोज और विश्लेषण में अपनी अनुसंधनातमक द्रष्टि को लगाया। शुक्लजी से भिन्न उन्होंने भक्ति आन्दोलन को हिन्दू जाति की निराशा का परिणाम नहीं अपितु उसे भक्ति धारा का सहज -स्वभाविकविकास प्रमाणित कर दिया। इस संदर्भ में लिखे उनके शोध लेख उनकी गम्भीर अध्ययन और मनन के साथ- साथ उनकी मौलिक दृष्टी के भी परिचायक हैं। परवर्ती साहित्यकारों ने उनकी साहित्यिक मान्यताओं को विश्लेषण का आधार बनाया। उन्होंने स्वयं कहा, 'भाषा फलती फूलती तो है साहित्य में, अंकुरित होती है बोलचाल में, साधारण बोलचाल पर बोली मँज- सुधरकर साहित्यिक भाषा बन जाती है।' इस तरह भावाभिव्य़जन के लिये उन्होंने जिस शैली को अपनाया उसमें उनका सर्वाधिक ध्यान भाषा पर ही रहा। उन्होंने संस्क्रत, अवधी, व्रजभाषा, अरबी एवं फारसी के शब्दों को खड़ीबोली के व्याकरण और उच्चारण में ढालकर अपनाया। बड़थ्वालजी निश्चय ही विपुल साहित्य की सर्जना करते, यदि वे लम्बी उम्र ले कर आते। डाँ॰ संपूर्णानंद ने ठीक ही कहा हे,'यदि आयु ने धोखा न दिय होता तो वे और भी गंभीर रचनाओं का सर्जन करते।' अल्पवधि में ही उन्होंने अध्ययन और अनुसंधान की जो सुदृढ़ नींव डाली उसके लिये वह हमेशा याद किये जाएँगे।
7,505

सम्पादन