"पपीता" के अवतरणों में अंतर

51 बैट्स् जोड़े गए ,  9 माह पहले
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल एप सम्पादन Android app edit
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल एप सम्पादन Android app edit
[https://web.archive.org/web/20170223104548/http://www.hindiayurveda.com/papaya-benefits-papita-ke-fayde-%E0%A4%AA%E0%A4%AA%E0%A5%80%E0%A4%A4%E0%A4%BE/ पपीता] खाने के अनेको लाभ है। य़ह बहुत ही उत्तम फल हैं
 
पपीता का दुध पाचक, जंतुनाशक, उदररोगहारक होता है। इसके कारण कृमी नष्ट होते है। पाचन अच्छी तरह से होता है। इसके साथ ही पपीते के दूध में शक्कर डालकर लेने से अपचन नही होता है। कच्चे पपीते की सब्जी अथवा कोशिंबीर अपचन की परेशानी सहन करनेवालो के लिए वरदायी है। मलावरोध, आतड्यांचीआता की दुर्बलता तसेचऔर उदाररोगउदररोग व हृदयरोग यावरपर पपइचेपपीते सेवन करणेकरना हितावहलाभदायक ठरते.होता पपइच्याहै। रसामुळेपपीते के रस से अरुची दूर होते.होती आतड्यामध्येहै। पडूनआतो राहिलेल्यापडे अन्नाचाहुए अन्न का नाश होतो.होता है। डोकेदुखीसिरदर्द(अजीर्णामुळेअजीर्ण) दूर होते.होता है। तसेचखट्टी आंबटडकार ढेकरआना येण बंद होते.होती खरुजहै। दाद, खाज खुजली पर और गजकर्ण यांवरइस पपइचापर पपीते का चीक लावल्यासलगाने से फायदा होते.होता कच्चाहै। पपईचाकच्चे पपीते का रस तोंडावरचेहरेपर चोळूनमलकर लावल्यासलगाने मुरुमेसे नाहीशीफोटो होतात.फुंकर, पपईझाइय्या पांढऱ्यानही पेशींचीहोती वाढहै। करणारीपपीते आहे.से गरोदरावस्थेमध्येसफेद स्त्रियांनीपेशी पपईकी खाणेबढौतरी टाळावे.होती पपईहै। उष्णगर्भावस्था असल्यानेमें गरोदरस्त्रियाें स्त्रियांनाने त्याचापपीता फारनही त्रासखाना होतो.चाहिए। पपीता गरम तासीर का हेने से गर्भावती महिलाओ को परेशानी होती है।
 
==चित्रदीर्घा==
592

सम्पादन