"कौमुदी महोत्सव" के अवतरणों में अंतर

छो
2409:4043:2B88:AAE4:0:0:294B:2C14 (वार्ता) द्वारा किए बदलाव को रोहित साव27 के बदलाव से पूर्ववत किया
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन यथादृश्य संपादिका
छो (2409:4043:2B88:AAE4:0:0:294B:2C14 (वार्ता) द्वारा किए बदलाव को रोहित साव27 के बदलाव से पूर्ववत किया)
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना SWViewer [1.4]
 
{{आधार}}
'''कौमुदी महोत्सव''' प्राचीन [[भारत]] में मनाया जाने वाला एक उत्सव था।<ref>[http://navbharattimes.indiatimes.com/astro/holy-discourse/religious-discourse/-/astroshow/2786621.cms हमारे यहां का अनुराग पर्व है कौमुदी महोत्सव]</ref> यह कौमुदी के दिन (अर्थात् [[कार्तिक]] मास की [[पूर्णिमा]]) मनाया जाता था।
 
यह आधुनिक वेलेंटाइन जैसा ही था
 
'कौमुदीमहोत्सवम्' नाम का एक [[नाटक]] भी है जो विज्जिका अथवा विजयभट्टारिका अथवा विजयाम्बिका की रचना है जो कर्नाट की रानी थीं। यह नाटक पाँच काण्डों में है। नाटक [[पाटलिपुत्र]] के राजकुमार कल्याणवर्मन के जीवन पर आधारित है।
107

सम्पादन