"विद्युतचुंबकीय वर्णक्रम" के अवतरणों में अंतर

 
== परिचय ==
स्पेक्ट्रम के विभिन्न विभागों में सुविधा के लिए साधारणत: तरंगदैघ्य के भिन्न-भिन्न एकक प्रयुक्त होते हैं। [[रेडियो प्रसारण]] में 1 मीटर को एकक माना जाता है, तथा रेडियो के [[सूक्ष्मतरंगें|सूक्ष्म तरंग]] विभाग में एक मिलीमीटर को एकक माना जाता है। अवरक्त वर्णक्रम के लिए 10<sup>-4</sup> सें.मी. का एकक प्रचलित है तथा [[दृश्य प्रकाश]] के लिए इससे भी छोटे 10<sup>-8</sup> सें.मी. के एकक की आवश्यकता होती है। 10<sup>-4</sup> सें. मी. के एकक को म्यू और दृश्य प्रकाश के एकक (10<sup>-8<s/upsup> सें.मी.) को 'आंगस्त्रम' (A) कहते हैं। प्रारम्भ में [[क्ष-किरण|एक्सरे]] के लिए भी आंगस्त्रम उपयोग में लाया जाता था, किंतु एक्सरे वर्णक्रम में अधिक आविष्कार होने पर इस एकक से भी सूक्ष्म एकक की आवश्यकता होने लगी। अतः एक्सरे के लिए तथा [[गामा किररें|गामा किरणों]] के लिए ज़ीगब्ह्रा ने एक नए एकक का उपयोग किया, जिसे एक्सरे एकक कहते हैं। यह 10<sup>-11</sup> सें. मी. के बराबर होता है। [[विद्युतचुम्बकीय सिद्धान्त]] की दृष्टि से एक्सरे और [[गामा किरण|गामा किरणों]] में कोई भेद नहीं है; एक्सरे प्रयोगशालाओं में उत्पन्न किए जा सकते हैं और गामा किरणें रेडियोधर्मी पदार्थो से प्राप्त होती हैं (हाल में अति प्रचंड विद्युद्विभव से गामा किरणों के तरंगदैर्घ्या के समान सूक्ष्म तरंगदैर्घ्य के एक्सरे का उत्पादन प्रयोगशाला में हो चुका है)। विद्युच्चुंबकीय वर्णक्रम में अत्यन्त स्वल्प तरंगदैर्घ्या का विभाग एक्सरे तथा गामा किरणों का है। तरंगदैर्घ्य आवृत्तियों का प्रतिलोमानुपाती होने के कारण एक्सरे और गामा किरणों की आवृत्तियाँ अन्य विद्युच्चुंबकीय विकिरणों से बहुत अधिक होती है।
 
{{-}}