"सबलगढ़ किला": अवतरणों में अंतर

6 बाइट्स हटाए गए ,  1 वर्ष पहले
छो
2401:4900:16DB:E38E:9328:A98F:248B:CE77 (Talk) के संपादनों को हटाकर Hunnjazal के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
(सबल सिंह चौहान की जगह सबल सिंह गुर्जर लिखा है)
टैग: Reverted मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
छो (2401:4900:16DB:E38E:9328:A98F:248B:CE77 (Talk) के संपादनों को हटाकर Hunnjazal के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: वापस लिया
|coordinates = {{coord|26|14|28.8|N|77|24|20.2|E|type:landmark|display=inline}}
|built = १७-१८वीं सदी
|builder = सबल सिंह गुर्जरचौहान,बाद में(गोपाल सिंह)
|materials = पत्थर, बलुआ पत्थर
|height =
|caption2 =
}}
'''सबलगढ़ किला''' [[सबलगढ़]] नगर में [[मुरैना]] से लगभग 60 किलोमीटर की दूरी पर है। मध्यकाल में बना यह किला एक पहाड़ी के शिखर बना हुआ है। इस किले की नींव सबल सिंह गुर्जरचौहान ने डाली थी जबकि करौली के महाराजा गोपाल सिंह ने 18वीं शताब्दी में इसे पूरा करवाया था। कुछ समय बाद सिंकदर लोदी ने इस किले को अपने नियंत्रण में ले लिया था लेकिन बाद में करौली के राजा ने मराठों की मदद से इस पर पुन: अधिकार कर लिया। किले के पीछे सिंधिया काल में बना एक बांध है, जहां की सुंदरता देखते ही बनती है। सबलगढ़ का किला अत्यंत सुन्दर एवं मनमोहक है।
 
{{भारत के दुर्ग}}