"बाल विकास" के अवतरणों में अंतर

1 बैट् जोड़े गए ,  8 माह पहले
छो (wikidata interwiki)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल एप सम्पादन Android app edit
इस चरण के दौरान, बच्चा प्रेरक (मोटर) और परिवर्ती (रिफ्लेक्स) क्रियाओं के माध्यम से अपने और अपने पर्यावरण के बारे में सीखता है। विचार, इन्द्रियबोध और हरकत से उत्पन्न होता है। बच्चा यह सीखता है कि वह अपने पर्यावरण से अलग है और उसके पर्यावरण के पहलू अर्थात् उसके माता-पिता या पसंदीदा खिलौना उस वक्त भी मौजूद रहते हैं जब वे आपकी समझ से बाहर हों. इस चरण में बच्चे के शिक्षण को ज्ञानेन्द्रिय प्रणाली की तरफ मोड़ना चाहिए। आप हावभाव दिखाकर अर्थात् तेवर दिखाकर, एक कठोर या सुखदायक आवाज का इस्तेमाल करके व्यवहार को बदल सकते हैं; ये सभी उपयुक्त तकनीक हैं।
 
'''पूर्वपरिचालनात्मक (प्रीऑपरेशनल):''' (इसकी शुरुआत लगभग3लगभग 3 से 7 साल की उम्र में होती है जब बच्चा बोलना शुरू करता है)<br />
अपने भाषा संबंधी नए ज्ञान का इस्तेमाल करते हुए बच्चा वस्तुओं को दर्शाने के लिए संकेतों का इस्तेमाल करना शुरू करता है। इस चरण के आरम्भ में वह वस्तुओं का मानवीकरण भी करता है। वह अब बेहतर ढंग से उन चीजों और घटनाओं के बारे में सोचने में सक्षम हो जाता है जो तत्काल मौजूद नहीं हैं। वर्तमान के प्रति उन्मुख होने पर बच्चे को समय के बारे में अपना विचार बनाने में तकलीफ होती है। उनकी सोच पर कल्पना का असर रहता है और वह चीजों को उन्हीं रूपों में देखता है जिन रूपों में वह उन्हें देखना चाहता है और वह मान लेता है कि दूसरे लोग भी उन परिस्थितियों को उसी के नज़रिए से देखते हैं। वह जानकारी हासिल करता है और उसके बाद वह उस जानकारी को अपने विचारों के अनुरूप अपने मन में परिवर्तित कर लेता है। सिखाने-पढ़ाने के दौरान बच्चे की ज्वलंत कल्पनाओं और समय के प्रति उसकी अविकसित समझ को ध्यान में रखना आवश्यक है। तटस्थ शब्दों, शरीर की रूपरेखा और छू सकने लायक उपकरण का इस्तेमाल करने से बच्चे के सक्रिय शिक्षण में मदद मिलती है। इनका चिन्तन जीव वाद पर आधारित होता है, मतलब यह निर्जीव व सजीव सभी वस्तु/प्राणी को जीवित ही मानते है।
 
592

सम्पादन