"माचागोरा बांध (पेंच व्यपवर्तन परियोजना)" के अवतरणों में अंतर

टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन उन्नत मोबाइल सम्पादन
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन उन्नत मोबाइल सम्पादन
बायी तट मुख्य नहर का सर्वाधिक पानी ग्राम लुंगसी में अंडरग्राउंड पहाड़ो के अंदर से टनल बनाकर पानी पहुँचाया गया है पानी इस टनल से होते हुए,कपुर्दा तक जाता है इसके बाद नहर 2 भागो में बाटी गयी हैं।
===भाग-1 नहर ===
में कपुर्दा,समसवाड़ा, हथनापुर,जैतपुर,मुंगवानी,होते हुए चंदोरीकला,सागर,लामटा से बखारी तक जाती है। भाग 1 नहर में छोटी नहर के 2 भागशाखा हुए है भाग भाग1 की शाखा 1-A नहर बिहिरिया, नंदिनी,गंगेरूआ,बांकी,जुरतरा,जुझारपुर,मोठार से आगे तक जाती है।
भाग 1-B की शाखा 2 नहर घोटी,दिघोरी,छुआई,गंगई,गरठिया,बंडोल फारेस्ट ऑफिस तरफ से अलोनीया,गोरखपुर, के आगे तक नहर निर्माण का कार्यप्रगति में चल रहा है।
 
===भाग-2 नहर===
खमरिया, कोहका,कमकासुर,ऐरपा,पीपरडाही,चारगांव,करहैया, कारीरात,भांडरपुर चावड़ी से होते हुए सिमरिया, नगझर, चोरगरठिया,सोनाडोंगरी,थावरी,टोलापिपरिया,बंडोल,कुकलाह, बीसावाड़ी,कलारबांकी से आगे है 70% कार्य नहरों का हो चुका है और कुछ नहरों का कार्य प्रगति में है साथ ही इन नहरों की छोटी छोटी नहर शाखा ओर माइनर नहरो की कार्य प्रगति में चल रहा है साथ ही 2021 तक पानी नहरों के माध्यम से खेतो तक पहुँचने की संभावना है। जिसका कार्य अभी प्रगति में हैं।
169

सम्पादन