"जमदग्नि ऋषि" के अवतरणों में अंतर

128 बैट्स् नीकाले गए ,  6 माह पहले
छो
112.79.139.121 (Talk) के संपादनों को हटाकर InternetArchiveBot के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
(भारत में सरस्वती नदी का कहीं कोई अस्तित्व ही नहीं है?)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन Reverted
छो (112.79.139.121 (Talk) के संपादनों को हटाकर InternetArchiveBot के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
 
[[चित्र:Jamadagni telling Parasuram about kartyaveerarjun.jpg|अंगूठाकार|जमदग्नि ऋषि]]
'''जमदग्नि ऋषि''' एक [[ऋषि]] थे, जो [[भृगु संहिता|भृगुवंशी]] [[ऋचीक]] के पुत्र थे तथा जिनकी गणना [[सप्तर्षि|सप्तऋषियों]] में होती है।<ref>[http://pustak.org:4300/bs/home.php?mean=31803 पुस्तक.ऑर्ग]{{Dead link|date=जून 2020 |bot=InternetArchiveBot }} पर शब्दकोश में</ref> पुराणों के अनुसार इनकी पत्नी [[रेणुका]] थीं, व इनका आश्रम [[सरस्वती नदी(सरस्वती नदी की भारत में कहीं अस्तित्व ही नहीं है? ]] के तट पर था। [[वैशाख]] शुक्ल [[तृतीया]] इनके पांचवें प्रसिद्ध पुत्र प्रदोषकाल में जन्मे थे जिन्हें [[परशुराम]] के नाम से जाना जाता है।
 
== आश्रम ==