"भक्ति काल" के अवतरणों में अंतर

18 बैट्स् नीकाले गए ,  9 माह पहले
छो
2405:204:A398:5AF9:841B:4023:C224:6AB2 (Talk) के संपादनों को हटाकर डॉ.विजय सोनजे के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन यथादृश्य संपादिका Reverted
छो (2405:204:A398:5AF9:841B:4023:C224:6AB2 (Talk) के संपादनों को हटाकर डॉ.विजय सोनजे के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
 
संक्षेप में भक्ति-युग की चार प्रमुख काव्य-धाराएं मिलती हैं :
* <nowiki>'''सगुण भक्ति'''</nowiki>
:* रामाश्रयी शाखा
:* कृष्णाश्रयी शाखा