"वाक्य और वाक्य के भेद" के अवतरणों में अंतर

छो
2409:4043:900:B4CE:0:0:2AE1:E8B1 (Talk) के संपादनों को हटाकर 2402:8100:3A3D:4EA5:498D:3565:6FD6:CE94 के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन Reverted
छो (2409:4043:900:B4CE:0:0:2AE1:E8B1 (Talk) के संपादनों को हटाकर 2402:8100:3A3D:4EA5:498D:3565:6FD6:CE94 के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
दो या दो से अधिक शब्दों के सार्थक समूह को '''वाक्य''' कहते हैं। उदाहरण के लिए 'सत्य से विजय होती है।' एक वाक्य है क्योंकि इसका पूरा पूरा अर्थ निकलता है किन्तु 'सत्य विजय होती।' वाक्य नहीं है क्योंकि इसका अर्थ नहीं निकलता है तथा वाक्य होने के लि निम्नलिखित संग योजन किस किस प्रकार के वक्त में होते हैं एलिए इसका अर्थ निकलना चाहिए। जैसे:- "विद्या धन के समान हैं ।" ,"
 
==शब्दकोशीय अर्थ==