"खगड़िया जिला": अवतरणों में अंतर

634 बाइट्स हटाए गए ,  1 वर्ष पहले
छो
2409:4064:612:388C:9D20:50AB:BE6F:5756 (Talk) के संपादनों को हटाकर InternetArchiveBot के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
टैग: Reverted मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
छो (2409:4064:612:388C:9D20:50AB:BE6F:5756 (Talk) के संपादनों को हटाकर InternetArchiveBot के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: वापस लिया
== विवरण ==
बिहार का खगड़िया ही एक ऐसी जिला है जो 7 नदियों से घिरा हुआ है। यह मक्का उत्पादन में बिहार के सबसे अग्रणी जिला माना जाता हैं। यहाँ की एक सबसे बड़ी विशेषता है "53 कोठली 56 द्वार," एक आलीशान मकान जो परबत्ता प्रखंड के भरतखंड गांव में स्थित है। इसका हर एक क्षेत्र प्रत्येक साल बाढ़ से ग्रसित रहता है। टेढ़ी-मेढ़ी भूभाग के कारण इसे प्राचीन में "फरकिया" नाम से जाना जाता था जो अकबर के समय दिया गया था। यहां के ग्रामीण अपने आप में सकुशल जिंदगी जीते हैं और जनसंख्या के 90% हिस्से कृषि पर आधारित है। यहां के चौथम प्रखंड में स्थित एक छोटा सा बाजार करुआमोर जहां की पेड़ा पूरे बिहार में प्रसिद्ध है ।
PRAGYA YUVA PRAKOSTH KHAGARIA BIHAR के द्वारा गायत्री शक्तिपीठ सीढ़ी घाट खगड़िया में प्रत्येक रविवार को सुबह आठ बजे से साप्ताहिक ब्यक्तित्व परिष्कार साधना सत्र का आयोजन किया जाता है जिसके माध्यम से खगड़िया जिले के युवाओं के अंदर सत्प्रेरणा का संचार किया जाता है
 
== इन्हें भी देखें ==