"मिहिरकुल" के अवतरणों में अंतर

18 बैट्स् नीकाले गए ,  1 वर्ष पहले
छो
2401:4900:51CB:5A83:48D:96FF:FE4A:BF76 (Talk) के संपादनों को हटाकर रोहित साव27 के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
No edit summary
टैग: Reverted मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
छो (2401:4900:51CB:5A83:48D:96FF:FE4A:BF76 (Talk) के संपादनों को हटाकर रोहित साव27 के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
}}
 
'''मिहिरकुल''' ([[चीनी]]: 大族王, [[जापानी भाषा|जापानी]]: दाइज़ोकु-ओ) भारत में एक ऐतिहासिक श्वेत हुण शासक था। ये [[तोरामन]] का पुत्र था। तोरामन भारत में हुण शासन का संस्थापक था। मिहिरकुल [[५१०]] ई. में गद्दी पर बैठा। [[संस्कृत भाषा|संस्कृत]] में मिहिरकुल का अर्थ है - 'सूर्य के वंश से', अर्थात सूर्यवंशी।गुर्जरसूर्यवंशी।
 
मिहिरकुल का प्रबल विरोधी नायक था [[यशोधर्मन]]। कुछ काल के लिए अर्थात् 510 ई. में एरण (तत्कालीन [[मालवा]] की एक प्रधान नगरी) के युद्ध के बाद से लेकर लगभग 527 ई. तक, जब उसने मिहिरकुल को [[गंगा नदी|गंगा]] के कछार में भटका कर क़ैद कर लिया था, उसे तोरमाण के बेटे मिहिरकुल को अपना अधिपति मानना पड़ा था। क़ैद करके भी अपनी माँ के कहने पर उसने हूण-सम्राट को छोड़ दिया था। इधर-उधर भटक कर जब मिहिरकुल को काश्मीर में शरण मिली तो सम्भवतः आर्यों ने सोचा होगा कि चलो हूण सदा के लिए परास्त हो गये। परन्तु मिहिरकुल चुप बैठने वाला नहीं था। उसने अवसर पाते ही अपने शरणदाता को नष्ट करके काश्मीर का राज्य हथिया लिया। ‘‘तब फिर उसने गांधार पर चढ़ाई की और वहाँ जघन्य अत्याचार किये। हूणों के दो तीन आक्रमणों से तक्षशिला सदा के लिए मटियामेट हो गया।