"कार्य (भौतिकी)": अवतरणों में अंतर

93 बाइट्स जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश नहीं है
छो (2402:8100:2178:DC77:DC77:7638:513A:A864 (Talk) के संपादनों को हटाकर InternetArchiveBot के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: वापस लिया
No edit summary
टैग: Reverted मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
{{आधार}}
 
[[भौतिक शास्त्र|भौतिकी]] में '''कार्य''' (work) होना तब माना जाता है जब किसी वस्तु पर कोई [[बल]] लगाने से वह वस्तु बल की दिशा में कुछ [[विस्थापन (सदिश)|विस्थापित]] हो। दूसरे शब्दों में, कोई बल लगाने से बल की दिशा में वस्तु का विस्थापन होहा तो कहते हैं कि बल ने कार्य किया। कार्य, भौतिकी की सबसे महत्वपूर्ण राशियों में से एक है। कार्य करने की दर को [[शक्ति]] कहते हैं। कार्य करने या कराने से वस्तुओं की [[ऊर्जा]] में परिवर्तन होता है।
 
किसी वस्तु पर ''F'' बल लगाने पर वह वस्तु बल की दिशा में ''d'' दूरी विस्थापित हो जाय तो किया गया कार्य
:S= विस्थापन है
:
होगा। हक्षक्षक्षभममहभभभभमक्षहभभममहबढण
होगा।
 
'''उदाहरण:'''<br />
गुमनाम सदस्य